पिछला

ⓘ अनुभव. प्रयोग अथवा परीक्षा द्वारा प्राप्त ज्ञान अनुभव कहलाता है। प्रत्यक्ष ज्ञान अथवा बोध। स्मृति से भिन्न ज्ञान। तर्कसंग्रह के अनुसार ज्ञान के दो भेद हैं - स्म ..

                                               

मनोभाव

मनोभाव को मुख्यतः एक जटिल मनोवैज्ञानिक विधि के रूप में परिभाषित किया जाता है,...

                                               

अनमोल

अनमोल हिन्दी भाषा का शब्द, एक सुखद प्यार का सच्चा अनुभव, सबसे कीमती सबसे प्या...

                                               

शिकायत

मोटेतौपर शिकायत या परिवेदना के अन्तर्गत ऐसी सभी लिखित शिकायतें आतीं हैं जो मज...

                                               

लोरा बुश

लोरा बुश को महिलाओं के मुद्दों से गहरा लगाव है। इसके लिए वह कई देशों की महिला...

                                               

यहां उनका भी दिल जोड़ दो

जिसका दिल टूट गया है तुम चलो मुझे ले रहे हैं, वे रहते हैं पता है. ना घाव सीना...

अनुभव
                                     

ⓘ अनुभव

प्रयोग अथवा परीक्षा द्वारा प्राप्त ज्ञान अनुभव कहलाता है। प्रत्यक्ष ज्ञान अथवा बोध। स्मृति से भिन्न ज्ञान। तर्कसंग्रह के अनुसार ज्ञान के दो भेद हैं - स्मृति और अनुभव। संस्कार मात्र से उत्पन्न ज्ञान को स्मृति और इससे भिन्न ज्ञान को अनुभव कहते हैं। अनुभव के दो भेद हैं - यथार्थ अनुभव तथा अयथार्थ अनुभव। प्रथम को प्रमा तथा द्वितीय को अप्रमा कहते हैं। यथार्थ अनुभव के चार भेद हैं-

1 प्रत्यक्ष, 2 अनुमिति, 3 उपमिति, तथा 4 शाब्द

इनके अतिरिक्त मीमांसा के प्रसिद्ध आचार्य प्रभाकर के अनुयायी अर्थपत्ति, भाट्टमतानुयायी अनुपलब्धि, पौराणिक सांभविका और ऐतिह्यका तथा तांत्रिक चंष्टिका को भी यथार्थ अनुभव के भेद मानते हैं। इन्हें क्रम से प्रत्यक्ष, अनुमान, उपमान, शब्द, अर्थापत्ति, अनुलब्धि, संभव, ऐतिह्य तथा चेष्टा से प्राप्त किया जा सकता है।

अयथार्थ अनुभव के तीन भेद हैं-

1 संशय, 2 विपर्यय तथा 3 तर्क।

संदिग्ध ज्ञान को संशय, मिथ्या ज्ञान को विपर्यय एवं ऊह संभावना को तर्क कहते है।

                                     
  • अन भव स न ह जन म: ज न एक भ रत य फ ल म न र द शक ह ज न ह न त म ब न, श हर ख ख न अभ न त र वन म ल क और आर ट कल 15 ज स फ ल म क न र द शन
  • प रक र ह - अन भव ह न क अन भव ह न क अन भव कव त ह भ ष म म नव ज वन क व व ध अन भव स च त ह त ह यह मन ष य क आद सर जन ह स स र क क ई अन भव जब च तन
  • अन भव म ह त भ रत क वर ष ठ सदन र ज यसभ क सदस य ह र ज य सभ क आध क र क व बस इट अभ गमन त थ 28 अगस त 2016.
  • अन भव 1971 म बन ह न द भ ष क फ ल म ह प रस द द न र द शक ब स भट ट च र य द व र न र म त फ ल म ज सम स ज व क म र, तन ज और द न श ठ क र म ख य भ म क
  • अन भव क आक श म च द, ल ल धर जग ड द व र ल ख गई एक कव त व प स तक ह ज स स ह त य अक दम प रस क र स सम म न त क य गय थ ल ल धर जग ड ल ल धर
  • आन द उस व य पक म नस क स थ त य क व य ख य करत ह ज सक अन भव मन ष य और अन य ज त सक र त मक, मन र जक और तल श य ग य म नस क स थ त क र प म करत ह
  • ह य म क दर शन अन भव क प ष ठभ म म परम त क ष ट ह आपक अन स र यह अन भव impression और एकम त र अन भव ह ह ज व स तव क ह अन भव क अत र क त क ई
  • ऐस बत त ह यह एक अन भव ह पर त आ ख कभ कभ ध ख भ द द त ह म ह थ स प स तक और म ज क छ त ह यह द सर अन भव पहल अन भव क प ष ट करत ह
  • व कस त और व क सम न व श द ध आत मस वर प क ह दर शन, स मरण, च तन, ध य न एव अन भव क य ज त ह इसल ए यह अन द और अक षयस वर प म त र ह ल क क म त र आद स र फ
  • दर द य प ड एक अप र य अन भव ह त ह इसक अन भव कई ब र क स च ट, ठ कर लगन क स क म रन क स घ व म नमक य आय ड न आद लगन स ह त ह अ तर र ष ट र य
  • ह ए प रश क षण म ड य ल क व यवस थ करत ह यह प श वर इ ज न यर य ग य अन भव एव न मच न व य वस य क तथ नव ग त क क ब च परस पर व च र व मर श क व यवस थ
                                     
  • रहत ह रस आन द र प ह और यह आन द व श ल क व र ट क अन भव भ ह यह आन द अन य सभ अन भव क अत क रमण भ ह आदम इन द र य पर स यम करत ह त व षय
  • वर ष क इत ह स व स स क त क धर हर पर प रक श ड लत ह अन भव ग लर - इस स ग रह लय म अन भव ग लर क स व ध उपलब ध कर ई गई ह इसम क ल म र त य
  • ह ज त ह ज गरण और स वप न म कई म ल क भ द ह - - ज गरण क अन भव म ल ह स वप न क अन भव उसक नकल ह जन म क अ ध स वप न म द ख नह सकत बहर स न
  • प स तक क प रक शन क य ज सक ल ख प रत य छप और ब क भ प स तक महल स म न य र च अन भव धर म, य ग, श क षण स स ब ध त प स तक क प रक शन करत ह
  • ह ध र व करण कम पन क क ण ज स स म न य पर स थ त य म म नव न त र स अन भव करन कठ न ह पद र थ क तर ग - द रव य द व कत क क रण प रक श एक ह स थ तर ग
  • न शनल प र क हर य ल क स वर ग क सम न ह यह आकर आपक मन क एक स क न क अन भव ह त ह स ल त नप र क सन 1972 म व टर बर ड र र जव क र प म घ ष त
  • आद पर व च र त मक आल ख, श क षक प रश क षण सम ब ध स मग र श क षक क अन भव श क ष क स म ज क स दर भ क र ख क त करत ह ए आल ख तथ ब ल मन व ज ञ न
  • जह - जह ध आ ह त ह वह - वह आग भ ह त ह अब जब हम क वल ध ए क प रत यक ष अन भव करत ह और हमक यह स मरण ह त ह क जह - जह ध आ ह वह - वह आग ह त
  • चल न कल यह सत य ग रह ग ध ज क पहल आन द लन थ सरक र क अपन भ ल क अन भव ह आ पर उस वह ख ल कर स व क र नह करन च हत थ अत: उसन ब न क ई स र वजन क
  • स ल न सम म श रम स न र म त ह आ ह उनक कव त ओ क स स क त क धर तल उनक अन भव क उपज ह अत त क ज स झर ख स व ग व क पगड ड त ल ब, नद घर मन द र
                                     
  • मर य द प र ष त तम श र र मच द र ज भ अपन क रघ व श कहन म परम गर व अन भव करत ह स र स र यव श इन ह क क रण रघ व श कहल न लग इन ह क न म
  • न स भ व यत क व षयगत प रम ण त क य ह स भ व यत अन भव पर न र भर करत ह अन भव व षयगत ह अन भव क आध र पर ह घटन क ह न य न ह न म हम र व श व स
  • थ उसक श सन म श र ह आ थ उनक श सनक ल य दव क ल ए एक अद भ त अन भव थ वह य दव क प श आ रह समस य ओ क अध क श हल करन म सक षम थ एक दशरथ
  • ग जर त क ज न गढ म क फ लम ब समय तक द व न रहन क उपर न त जब उन ह न यह अन भव क य क य र ज - मह र ज अ ग र ज क ख ल फ क छ नह कर ग त व इ ग ल ण ड
  • कभ - कभ ऐस पर स थ त य बन ज त ह जब भ न न वस त ओ क इन सभ - आय म क अन भव अलग - अलग प रत त ह द क space और क ल time क स बध हम र न त य व यवह र
  • प रक र ह - अन भव ह न क अन भव ह न क अन भव कव त ह भ ष म म नव ज वन क व व ध अन भव स च त ह त ह यह मन ष य क आद सर जन ह स स र क क ई अन भव जब च तन
  • ऐस भ वन ओ स पर प र ण ह ज नक अन भव ज वन क स प दनश ल क ष त र म ह ह सकत ह इस क ल क कल क त य म अन भव तथ क शल क पर य प त पर पक वत क
  • ज वन - दर शन, स वय क उत पत त द न द न क समस य ए जन म स म त य तक क स स क र, ब ह य जगत क स थ उनक अन भव आद सब व षय पर इन ह न स ह त य स जन क य ह
  • थ मस ज स र ज ट क म क र इक नम पर क रण एव प रभ व क क ष त र म उनक अन भव जन य अध ययन क ल ए स य क त र प स वर ष क अर थश स त र क न ब ल प रस क र

शब्दकोश

अनुवाद
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →