पिछला

ⓘ विनय बसु. बिनोय बसु Written by Ankush Modi बिनोय कृष्ण बासु ब्रिटिश ससन के विरुद्ध एक बंगाली स्वतंत्रता सेनानी थे। ब्रिटिश शासन के दौरान इन्होने सेक्रेटेरिएट बि ..


                                     

ⓘ विनय बसु

बिनोय बसु Written by Ankush Modi बिनोय कृष्ण बासु ब्रिटिश ससन के विरुद्ध एक बंगाली स्वतंत्रता सेनानी थे। ब्रिटिश शासन के दौरान इन्होने सेक्रेटेरिएट बिल्डिंग जिसे आज राइटरस बिल्डिंग के नाम से जाना जाता हैं उस पर हमला किया था।

बिनोय कृष्ण बासु বিনয় কৃষ্ণ বসু Benoy Krishna Basu.jpg जन्म 11 सितम्बर 1908 Rohitbhog, Bikrampur, Bengal Presidency, British India now in Bangladesh मृत्यु 13 दिसम्बर 1930 उम्र 22 Calcutta, Bengal Presidency, British India now in India राष्ट्रीयता Indian अन्य नाम Benoy Basu, Benoy Bose शिक्षा प्राप्त की Mitford Medical School now Sir Salimullah Medical College प्रसिद्धि कारण Writers Building attack बचपन संपादित करें बिनोय बासु का जन्म १९०८ साल में ११ सितम्बर को मुंशीगंज जिले के रोहितभोग गाँव जो अभी बांग्लादेश में हैं में हुआ था। इनके पिता रेबोतिमोहन बासु इंजीनियर थे।

ढाका में मेट्रिक पास करने के बाद बिनोय मिटफोर्ड मेडिकल स्कूल अब सर सलीमउल्लाह मेडिकल कॉलेज में भर्ती हुए। हेमचन्द्र घोष ढाका में रहने वाले स्वतंत्रता सेनानी से प्रभावित होकर बिनोय ने मुक्ति संघ जॉइन किया जिसके युगांतर पार्टी से नज़दीकी तालुकात थे। क्रन्तिकारी गतिविधियों में शामिल होने के कारण बिनोय अपने मेडिकल की शिक्षा पूरी नहीं कर सके।

क्रन्तिकारी गतिविधिया संपादित करें बसु और उनके सह क्रांतिकारियों ने बंगाल वॉलेंटियर्स जॉइन किया, यह संगठन सुभास चन्द्र बोस ने १९२८ में इंडियन नेशनल कांग्रेस के कलकत्ता अधिवेशन के मौके पर बनाया था। बहोत जल्द ही बिनोय ने एक लोकल इकाई ढाका में शुरू की और उसका नाम उन्होंने बेंगोल वॉलेंटियर्स एसोसिएशन ढाका रखा था। बाद में बंगाल वॉलेंटियर्स ज्यादा क्रन्तिकारी विचारधारा वाली बन गयी और बंगाल में पुलिस अत्याचार के विरुद्ध खासकर कारावास में राजनितिक बंदियों के साथ अमानवीय व्यवहार "ऑपरेशन फ्रीडम" नामक योजना बनायीं।

अगस्त १९३० में इस क्रन्तिकारी संगठन ने इंस्पेक्टर जनरल लोमैन के हत्या की योजना बनायीं। वह एक बीमार वरिष्ठ पुलिस अधिकारी को देखने जाने वाले थे। २९ अगस्त १९३० को सुरक्षा घेरा लांगते हुए बिनोय जो की साधारण बंगाली वस्त्र पहने हुए थे ने बहोत नज़दीक से गोली चलाई, लोमेन की वही मृत्यु हो गयी और पुलिस सुपरिटेंडेंट हॉडसन बुरी तरह से घायल हो गए।

उनकी पहचान कभी भी गोपनीय नहीं थी। एक कॉलेज मैगज़ीन से उनका चित्र लेकर चारो और लगा दिया गया। अंग्रेज़ सरकार ने बिनोय पर १०००० रूपए का इनाम रखा। उन्हें राइटरस बिल्डिंग में हुए वरन्दाह के युद्ध के बाद पकड़ा गया लेकिन वे और दिनेश गुप्ता खुद को गोली मार चुके और बादल गुप्ता पोटैशियम साईंनाईद लेकर शहीद हो चुके थे बिनोय की मृत्यु कलकत्ता मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में हुई थी।

अगस्त में पूर्व बंगाल में मुश्लाधार बारिश हो रही थी। ऐसे ही एक सुबह दो मुस्लिम गांववाले फटे हुए कपडे पहने घुटनो तक पानी वाले रास्ते से जाते हुए दिखाई दिए। वे दोलाईगंज रेलवे स्टेशन की तरफ जा रहे थे। वे प्लेटफार्म में पहुंचे जहाँ पुलिस वालो की भरमार थी। बिनोय का चित्र चारो और लगाया हुआ था। ढाका से नारायणगंज जाने वाली ट्रैन आई। हर कम्पार्टमेंट की अच्छी तरह से जांच की गयी। बिनय और उनके साथी एक थर्ड क्लास कम्पार्टमेंट में चढ़े जो पहले से ही भरा हुआ था। जब यह ट्रैन नारायणगंज पहुंची तब पुलिस ने सिर्फ ट्रैन की ही जाँच नहीं की लेकिन उनके पास पहले से ही नवो की जाँच करने के भी आदेश थे। कोलकाता पहुचने से पहले एक नदी पार करनी पड़ती थी। बिनोय को इसके बारे में उनके सूत्रों से पहले ही पता चल गया। जब ट्रैन एक फ्लैग स्टेशन के पास धीमी हुई तब बिनोय नाव पर चढ़ने के लिए घाट के तरफ चलने लगे। उन्हें मेघना नदी पार करने के लिए नाव की ज़रुरत थी। उन दोनों ने अपना हुलिआ मुस्लिम भिखारियों से बदल कर एक ज़मींदाऔर उसके नौकर का किया। कुछ देर तक उन्हें एक स्टीमर में सफर करना पड़ा। यह पूरा वाकिया किसी फ्लिम की तरह था। उनके साथी का नाम सुपति रॉय था।

सहर पहुचने पर वे सीयालदाह स्टेशन नहीं उतरे बल्कि उससे पहले दमदम स्टेशन में ही उत्तर गए। वहाँ ं से वे स्लम एरिया ७, वल्लिउलाह लेन सेंट्रल कोलकाता में गए। लम्बे समय तक अनजाने लोगो का एक जगह रहना संदेह जगा सकता था इसलिए वे वहाँ ं से कतरस गढ़ रहने गए और फिर वहाँ ं से उत्त्तर कोल्कता में एक शांत जगह रहने गए। लेकिन उनके पास पहले से से ही पूर्वसंकेत था की जल्द ही पुलिस उन्हें ढूंढ निकालेगी। उनका भय सत्य साबित तब हुआ जब पुलिस चीफ चार्ल्स टेगार्ट उनके वहाँ पुलिस वालो की टोली लेके पहुंच गया। लेकिन तब तक बिनोय भाग चुके थे।

आखरी युद्ध संपादित करें उनका अगला शिकार कर्नल एन एस सिम्पसन था जो इंस्पेक्टर जनरल ऑफ़ प्रिज़नस थे। कर्नल सिम्पसन जेल में कैदियों पर अत्याचार करने के लिए बदनाम था। क्रांतिकारियों ने यह निष्चय किया की वे सिर्फ कर्नल सिम्पसन को ही नहीं मरेंगे बल्कि सेक्रेटेरिएट बिल्डिंग राइटरस बिल्डिंग में हमला कर वे ब्रिटिश अधिकारियो के मन में भय डाल देंगे।

८ दिसंबर, १९३० को यूरोपीय वस्त्र पहने, बादल गुप्ता और दिनेश गुप्ता के साथ मिलकर बिनोय राइटरस बिल्डिंग के अंदर घुसे और कर्नल सिम्पसन की गोली मार के हत्या कर दी।

इस पर ब्रिटिश पुलिस ने भी गोलियाँ चलानी शुरू कर दी और इसके बाद इन तीन क्रांतिकारियों और पुलिस के बीच खूब गोलीबारी हुई। कुछ पुलिस अफसर जैसे ट्वीनेम, नेल्सन और प्रेन्टिइस गोलीबारी में घायल हुए।

लेकिन जल्द ही पुलिस ने उन्हें चारो तरफ से घेर लिया। वे पुलिस के हिरासत में नहीं आना चाहते थे इसलिए बादल ने पोटैशियम साइनाइड ले लिया। बिनोय और दिनेश ने खुद को गोली मार दी। बिनोय को हॉस्पिटल ले जाया गया जहा १३ दिसंबर १९३० को उनकी मृत्यु हो गयी। बिनोय,बादल और दिनेश के इस निस्वार्थ बलिदान ने कई और क्रांतिकारियों को प्रेरणा दी।

भारत के आज़ादी के बाद कोलकाता के दलहॉउसिे स्क्वायर का नाम बदल कर बिनोय बादल दिनेश बाग़ किया गया।

संवाद Last edited 8 months ago by Swapnil.Karambelkar RELATED PAGES ६ सितम्बर दिनांक

इंडियन रिपब्लिकन आर्मी दिनेश चन्द्र गुप्त विकिपीडिया सामग्री CC BY-SA 3.0 के अधीन है जब तक अलग से उल्लेख ना किया गया हो। गोपनीयताडेस्कटॉप

                                     
  • द सम बर क य र प यन व श म त न य व क र त क र द न श चन द र ग प त, व नय बस और ब दल ग प त क लक त क र इटर स ब ल ड ग म प रव श कर गए और ज ल म
  • न इटस क ल ट स आम र च न ह त म ण य गस त र उतपलक म र बस स ख य व नय घ ष सम प द त व श ल षक गण: तर ण बन द पध य य, ज ग न च ध र प रश न त
  • क रण उसक भ म त ह ज त ह ब प श बस - स न य खन न ज न अब र हम - कब र ल लबह द र ग लशन ग र वर - र ह त खन न व नय प ठक - ड स प स द ध र थ रणव र श र
  • श त म र ग व न त म र ग, व अन य ह चन द रग प त म र ग, स न म र ट न म र ग, व नय म र ग एव ड ख स प र जल म र ग इन ह क टन व ल क ट ल य म र ग, प चश ल
  • स न ल ग ग प ध य य, ज वन न द द स, स क म र र य, व नय मज मद र, डबल एच अड न, सम र र यच ध र तथ ब द धद व बस उनक कव त ज क नव त तरव द य अध न न त क ह
  • र यच ध र फ लग न र य उतपलक म र बस शक त चट ट प ध य य सन द पन चट ट प ध य य अन ल करनजय स भ ष घ ष ब स द ब द शग प त व नय मज मद र भ ख प ढ ह गर ज नर शन
  • न च व ल कमर म द न म यद - कद ह ब त ह त ह स र क ज गर द स त व नय प ठक स र क व ष - भ ष म पर वर तन ल द त ह जब त न उस न त य - प रश क षण
  • प रक शन, अमहर स ट स ट र ट, क लक त स ब मल बस क मलय र यच ध र द ब र य शक त चट ट प ध य य व नय मज मद र सम र र यच ध र अन ल करनजय भ ख प ढ ह गर ज नर शन
  • र यच ध र फ लग न र य स न ल ग ग प ध य य मलय र यच ध र स ब मल बस क द ब र य व नय मज मद र ब स द ब द शग प त ऐलन ग सबर ग भ ख प ढ ह गर ज नर शन ट इम पत र क म
  • द ह वस न ह गय इनक रचन य क रमश इस तरह ह : मन व न द भ ग - धन व नय ग नव त ह म त वन ष टक द हर द न ग खल ग न ष टक
                                     
  • श र मत व जय च ह न ब रह म भ रद व ज य न स परव ज र ज श प र - म र र ल ल ग ड ड म र त सभ न ख ल - व नय द व र स ग तबद ध द ल र इ टरन ट म व ड ट ब स पर
  • Nurul Huda 1949 - Ekram Ali 1950 - सम र र यच ध र 1933 - उत पलक म र बस - व नय मज मद र - त र द ब म त र - फ लग न र य
  • च त रक र थ उतपलक म र बस सन द पन चट ट प ध य य, ब स द ब द शग प त स ब मल बस क, अन ल करनजय कर ण न ध न म ख प ध य य स ब आच रज व नय मज मद र, फ लग न र य
  • शरव न स जय कप र ड व ड 2013 कल क र: न ल न त न म क श, च य न व क रम, व नय व रम न ल र दत त क र ब क र ब स गल 2017 कल क र: इरफ न ख न, प र वत
  • ल न - द न करन व ल ह वणक वन य बन य कहल ए ह ग वन वणक व णज व नय बन य इन वर ण क म भ व भ न न ल ग वन स वस त - व श ष ल न म व श षज ञत
  • ब लग व प थर स अपन ख म म अन भव क य कप त न ज अर ण क म र, मन ष प ड और व नय क म र ज स ख ल ड ह ज अर ण क म र, जबक मन ष प ड श र ष स क रर क ल ए
  • म त ड गर स र लव ल इन क तरफ चलन पर आर.आर. क ल ज आत ह पहल इसक न म व नय व ल स प ल स थ यह इम रत द खन ल यक ह क ल ज द खन क ब द आप यह स प र जन
  • प ज ब म हर क शन न वह क गवर नर क हत य क क श श क द स बर 1930 म व नय ब स, ब दल ग प त और द न श ग प त न कलकत त क र इटर स ब ल ड ग म प रव श
  • त लस द स ज न अपन सभ प रम ख क र य - र मचर त म नस, कव त वल द ह वल और व नय पत र क म इस स थ न क अत य त आदरप र वक उल ल ख क य ह अ त म ग रन थ म
  • त र ट उद घ टन ref ट ग खर ब ह य उसक न म खर ब ह , ख व ज ह दर अल आत श, व नय क म र सर ज, आम र म न ई, म र ज ह द र सव न स ख, दय श कर क ल नस म, म स हफ
  • अग न ह त र - म न क ष अर ज न क म ट न न आनन द - मल ह त र ग रव ग र - व नय र ह ल स ह - बन न अज त आह ज - मन क जल अग रव ल - द य क सह ल द य म र ज

शब्दकोश

अनुवाद
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →