पिछला

ⓘ यपनिय पश्चिमी कर्नाटक में एक जैन संप्रदाय था जो कि अब विलुप्त हो चुका है। उनके बारे में पहला वर्णन 475-490 ई॰ में पलासिका के, कदंब के राजा मृग्सवर्मन के शिलालेख ..


                                     

ⓘ यपनिय

यपनिय पश्चिमी कर्नाटक में एक जैन संप्रदाय था जो कि अब विलुप्त हो चुका है। उनके बारे में पहला वर्णन 475-490 ई॰ में पलासिका के, कदंब के राजा मृग्सवर्मन के शिलालेखों में मिलता है, जिन्होंने जैन मंदिर के लिए दान दिया था और यपनियों, निर्ग्रंथियों तथा कुर्चकों को अनुदान दिया।

शक 1316 1394 ई॰पू॰ का अंतिम शिलालेख जिसमें यपनियों के बारे में वर्णन है, दक्षिण पश्चिम कर्नाटक के तुलुव इलाके में मिला है।

दर्शन-सारा के अनुसार वे शेवताम्बर संप्रदाय की एक शाखा थे। हालाँकि श्वेताम्बर लेखकों द्वारा उनको दिगम्बर के तौपर देखा गया है। यपनिय साधू नग्न रहते थे लेकिन साथ ही साथ कुछ श्वेताम्बर दृष्टिकोण को भी अनुसरण करते थे। उनके पास श्वेताम्बर रीतियों की अपनी खुद की व्याख्या थी।

मलयगिर ने अपने ग्रन्थ नंदीसूत्र में लिखा है कि महान व्याकरणाचर्या श्कतायन, जो कि राष्ट्रकूट के राजा अमोघवर्ष नृपतुंग 817-877 के सम-सामयिक थे, एक यापनिय थे।

                                     

1. पतन

यपनिय दूसरी शताब्दी में अपने प्रभुत्व की ओर अग्रसर हुए और दक्कन की ओर प्रस्थान के बाद दिगम्बरों और श्वेताम्बरों के साथ विलय के पश्चात् उनका पतन हो गया।

                                     
  • द गम बर स ध श ख ए म ल स घ बलत कर गण क ष ठ स घ त रणप थ ब सप थ त र प थ यपन य प र च न भद रब ह धरस न क न दक न द उम स व म समन तभद र प ष पद त भ तबल वट टक र
  • द गम बर स ध श ख ए म ल स घ बलत कर गण क ष ठ स घ त रणप थ ब सप थ त र प थ यपन य प र च न भद रब ह धरस न क न दक न द उम स व म समन तभद र प ष पद त भ तबल वट टक र
  • द गम बर स ध श ख ए म ल स घ बलत कर गण क ष ठ स घ त रणप थ ब सप थ त र प थ यपन य प र च न भद रब ह धरस न क न दक न द उम स व म समन तभद र प ष पद त भ तबल वट टक र
  • द गम बर स ध श ख ए म ल स घ बलत कर गण क ष ठ स घ त रणप थ ब सप थ त र प थ यपन य प र च न भद रब ह धरस न क न दक न द उम स व म समन तभद र प ष पद त भ तबल वट टक र
  • द गम बर स ध श ख ए म ल स घ बलत कर गण क ष ठ स घ त रणप थ ब सप थ त र प थ यपन य प र च न भद रब ह धरस न क न दक न द उम स व म समन तभद र प ष पद त भ तबल वट टक र
  • द गम बर स ध श ख ए म ल स घ बलत कर गण क ष ठ स घ त रणप थ ब सप थ त र प थ यपन य प र च न भद रब ह धरस न क न दक न द उम स व म समन तभद र प ष पद त भ तबल वट टक र
  • द गम बर स ध श ख ए म ल स घ बलत कर गण क ष ठ स घ त रणप थ ब सप थ त र प थ यपन य प र च न भद रब ह धरस न क न दक न द उम स व म समन तभद र प ष पद त भ तबल वट टक र
  • द गम बर स ध श ख ए म ल स घ बलत कर गण क ष ठ स घ त रणप थ ब सप थ त र प थ यपन य प र च न भद रब ह धरस न क न दक न द उम स व म समन तभद र प ष पद त भ तबल वट टक र
  • द गम बर स ध श ख ए म ल स घ बलत कर गण क ष ठ स घ त रणप थ ब सप थ त र प थ यपन य प र च न भद रब ह धरस न क न दक न द उम स व म समन तभद र प ष पद त भ तबल वट टक र
                                     
  • द गम बर स ध श ख ए म ल स घ बलत कर गण क ष ठ स घ त रणप थ ब सप थ त र प थ यपन य प र च न भद रब ह धरस न क न दक न द उम स व म समन तभद र प ष पद त भ तबल वट टक र
  • द गम बर स ध श ख ए म ल स घ बलत कर गण क ष ठ स घ त रणप थ ब सप थ त र प थ यपन य प र च न भद रब ह धरस न क न दक न द उम स व म समन तभद र प ष पद त भ तबल वट टक र
  • द गम बर स ध श ख ए म ल स घ बलत कर गण क ष ठ स घ त रणप थ ब सप थ त र प थ यपन य प र च न भद रब ह धरस न क न दक न द उम स व म समन तभद र प ष पद त भ तबल वट टक र
  • द गम बर स ध श ख ए म ल स घ बलत कर गण क ष ठ स घ त रणप थ ब सप थ त र प थ यपन य प र च न भद रब ह धरस न क न दक न द उम स व म समन तभद र प ष पद त भ तबल वट टक र
  • द गम बर स ध श ख ए म ल स घ बलत कर गण क ष ठ स घ त रणप थ ब सप थ त र प थ यपन य प र च न भद रब ह धरस न क न दक न द उम स व म समन तभद र प ष पद त भ तबल वट टक र
  • द गम बर स ध श ख ए म ल स घ बलत कर गण क ष ठ स घ त रणप थ ब सप थ त र प थ यपन य प र च न भद रब ह धरस न क न दक न द उम स व म समन तभद र प ष पद त भ तबल वट टक र
  • द गम बर स ध श ख ए म ल स घ बलत कर गण क ष ठ स घ त रणप थ ब सप थ त र प थ यपन य प र च न भद रब ह धरस न क न दक न द उम स व म समन तभद र प ष पद त भ तबल वट टक र
  • द गम बर स ध श ख ए म ल स घ बलत कर गण क ष ठ स घ त रणप थ ब सप थ त र प थ यपन य प र च न भद रब ह धरस न क न दक न द उम स व म समन तभद र प ष पद त भ तबल वट टक र
  • द गम बर स ध श ख ए म ल स घ बलत कर गण क ष ठ स घ त रणप थ ब सप थ त र प थ यपन य प र च न भद रब ह धरस न क न दक न द उम स व म समन तभद र प ष पद त भ तबल वट टक र
  • द गम बर स ध श ख ए म ल स घ बलत कर गण क ष ठ स घ त रणप थ ब सप थ त र प थ यपन य प र च न भद रब ह धरस न क न दक न द उम स व म समन तभद र प ष पद त भ तबल वट टक र
                                     
  • द गम बर स ध श ख ए म ल स घ बलत कर गण क ष ठ स घ त रणप थ ब सप थ त र प थ यपन य प र च न भद रब ह धरस न क न दक न द उम स व म समन तभद र प ष पद त भ तबल वट टक र
  • द गम बर स ध श ख ए म ल स घ बलत कर गण क ष ठ स घ त रणप थ ब सप थ त र प थ यपन य प र च न भद रब ह धरस न क न दक न द उम स व म समन तभद र प ष पद त भ तबल वट टक र
  • द गम बर स ध श ख ए म ल स घ बलत कर गण क ष ठ स घ त रणप थ ब सप थ त र प थ यपन य प र च न भद रब ह धरस न क न दक न द उम स व म समन तभद र प ष पद त भ तबल वट टक र
  • द गम बर स ध श ख ए म ल स घ बलत कर गण क ष ठ स घ त रणप थ ब सप थ त र प थ यपन य प र च न भद रब ह धरस न क न दक न द उम स व म समन तभद र प ष पद त भ तबल वट टक र
  • द गम बर स ध श ख ए म ल स घ बलत कर गण क ष ठ स घ त रणप थ ब सप थ त र प थ यपन य प र च न भद रब ह धरस न क न दक न द उम स व म समन तभद र प ष पद त भ तबल वट टक र
  • द गम बर स ध श ख ए म ल स घ बलत कर गण क ष ठ स घ त रणप थ ब सप थ त र प थ यपन य प र च न भद रब ह धरस न क न दक न द उम स व म समन तभद र प ष पद त भ तबल वट टक र
  • द गम बर स ध श ख ए म ल स घ बलत कर गण क ष ठ स घ त रणप थ ब सप थ त र प थ यपन य प र च न भद रब ह धरस न क न दक न द उम स व म समन तभद र प ष पद त भ तबल वट टक र
  • द गम बर स ध श ख ए म ल स घ बलत कर गण क ष ठ स घ त रणप थ ब सप थ त र प थ यपन य प र च न भद रब ह धरस न क न दक न द उम स व म समन तभद र प ष पद त भ तबल वट टक र
  • द गम बर स ध श ख ए म ल स घ बलत कर गण क ष ठ स घ त रणप थ ब सप थ त र प थ यपन य प र च न भद रब ह धरस न क न दक न द उम स व म समन तभद र प ष पद त भ तबल वट टक र
  • द गम बर स ध श ख ए म ल स घ बलत कर गण क ष ठ स घ त रणप थ ब सप थ त र प थ यपन य प र च न भद रब ह धरस न क न दक न द उम स व म समन तभद र प ष पद त भ तबल वट टक र
  • द गम बर स ध श ख ए म ल स घ बलत कर गण क ष ठ स घ त रणप थ ब सप थ त र प थ यपन य प र च न भद रब ह धरस न क न दक न द उम स व म समन तभद र प ष पद त भ तबल वट टक र

शब्दकोश

अनुवाद