पिछला

ⓘ कानन कुसुम. अरूण अभ्युदय से हो मुदित मन प्रशान्त सरसी में खिल रहा है प्रथम पत्र का प्रसार करके सरोज अलि-गन से मिल रहा है गगन मे सन्ध्या की लालिमा से किया संकुचि ..

                                     

ⓘ कानन कुसुम

अरूण अभ्युदय से हो मुदित मन प्रशान्त सरसी में खिल रहा है प्रथम पत्र का प्रसार करके सरोज अलि-गन से मिल रहा है गगन मे सन्ध्या की लालिमा से किया संकुचित वदन था जिसने दिया न मकरन्द प्रेमियो को गले उन्ही के वो मिल रहा है तुम्हारा विकसित वदन बताता, हँसे मित्र को निरख के कैसे हृदय निष्कपट का भाव सुन्दर सरोज! तुझ पर उछल रहा है निवास जल ही में है तुम्हारा तथापि मिश्रित कभी न होेते ‘मनुष्य निर्लिप्त होवे कैसे-सुपाठ तुमसे ये मिल रहा है उन्ही तरंगों में भी अटल हो, जो करना विचलित तुम्हें चाहती ‘मनुष्य कर्त्तव्य में यों स्थिर हो’-ये भाव तुममें अटल रहा है तुम्हें हिलाव भी जो समीरन, तो पावे परिमल प्रमोद-पूरित तुम्हारा सौजन्य है मनोहर, तरंग कहकर उछल रहा है तुम्हारे केशर से हो सुगन्धित परागमय हो रहे मधुव्रत ‘प्रसाद’ विश्‍वेश का हो तुम पर यही हृदय से निकल रहा है

                                     
  • क नन क स म ह न द भ ष क कव ल खक और उपन य सक र जयश कर प रस द क एक क व य क त ह ज सक भ ष ब रज ह कव त क श. क नन क स म क व य क त अभ गमन त थ
  • प र मर ज य क सज जन एक क कल य ण पर णय एक क छ य कह न स ग रह क नन क स म क व य कर ण लय ग त क व य प र मपथ क क व य प र यश च त एक क
  • म उनक गणन क ज न लग और व य गवर तक कव क र प म प रत ष ठ त ह ए क नन क स म मह र ण क महत व झरन 1918 आ स लहर क म यन 1935 प र म पथ क उन ह न ह द
  • वन यक स म - स ख ल जग क आ ख स द र नह फ लत क स म म त र र ज ओ क उपवन म अम त ब र ख लत व प र स द र क ज - क नन म समझ क न रहस य ? प रक त क बड अन ख
  • प रक श त क र तभ र न ल आक श र न च ब इश श र वण प नश च अवश ष प रत न ध अक श क स म मत र मन ष भ वन श म इच छ प र ण इ टरव य एक अध र कह न कलकत त बड र क
  • पत तप वन - व शन पत त क द श म - र मव क ष ब न प र पत त बदलत ह - क स म अ सल पत त क ब र दर - मण मध कर पत थर गल - न स र शर म पत थर व ल
                                     
  • ख च 1972 पड प श र बर म बक श 1971 स म बद ध 1965 क प र ष 1965 आक श क स म 1964 म म र आल 1963 मह नगर 1951 न य त 1951 प ड त मश ई 1950 म इकल मध स दन

शब्दकोश

अनुवाद
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →