पिछला

ⓘ प्रवेशद्वार:भूगोलप्रमुख लेख3. पर्यटन भूगोल या भू-पर्यटन, मानव भूगोल की एक प्रमुख शाखा हैं। इस शाखा में पर्यटन एवं यात्राओं से सम्बन्धित तत्वों का अध्ययन, भौगोलि ..

                                               

प्रवेशद्वार:भूगोल/आज का देश

दक्षिण सूडान या अब-उस-सूडान, उत्तर-पूर्व में, अफ्रीका 3° और 13° समानांतर उत्त...

                                               

प्रवेशद्वार:भूगोल/आज का देश/1

दक्षिण सूडान या अब-उस-सूडान, उत्तर-पूर्व में, अफ्रीका 3° और 13° समानांतर उत्त...

                                     

ⓘ प्रवेशद्वार:भूगोल/प्रमुख लेख/3

पर्यटन भूगोल या भू-पर्यटन, मानव भूगोल की एक प्रमुख शाखा हैं। इस शाखा में पर्यटन एवं यात्राओं से सम्बन्धित तत्वों का अध्ययन, भौगोलिक पहलुओं को ध्यान मे रखकर किया जाता है। नेशनल जियोग्रेफ़िक की एक परिभाषा के अनुसार किसी स्थान और उसके निवासियों की संस्कृति, सुरुचि, परंपरा, जलवायु, पर्यावरण और विकास के स्वरूप का विस्तृत ज्ञान प्राप्त करने और उसके विकास में सहयोग करने वाले पर्यटन को "पर्यटन भूगोल" कहा जाता है। भू पर्यटन के अनेक लाभ हैं। किसी स्थल का साक्षात्कार होने के कारण तथा उससे संबंधित जानकारी अनुभव द्वारा प्राप्त होने के कारण पर्यटक और निवासी दोनों का अनेक प्रकार से विकास होता हैं। पर्यटन स्थल पर अनेक प्रकार के सामाजिक तथा व्यापारिक समूह मिलकर काम करते हैं जिससे पर्यटक और निवासी दोनों के अनुभव अधिक प्रामाणिक और महत्त्वपूर्ण बन जाते है। भू पर्यटन परस्पर एक दूसरे को सूचना, ज्ञान, संस्काऔर परंपराओं के आदान-प्रदान में सहायक होता है, इससे दोनों को ही व्यापाऔर आर्थिक विकास के अवसर मिलते हैं, स्थानीय वस्तुओं कलाओं और उत्पाद को नए बाज़ार मिलते हैं और मानवता के विकास की दिशाएँ खुलती हैं साथ ही बच्चों और परिजनों के लिए सच्ची कहानियाँ, चित्और फिल्में भी मिलती हैं जो पर्यटक अपनी यात्रा के दौरान बनाते हैं। पर्यटन भूगोल के विकास या क्षय में पर्यटन स्थल के राजनैतिक, सामाजिक और प्राकृतिक कारणों का बहुत महत्त्व होता है और इसके विषय में जानकारी के मानचित्र आदि कुछ उपकरणों की आवश्यकता होती है।

                                     
  • व क प ड य प रव शद व र स स क त भ ग ल स व स थ य इत ह स गण त प र क त क व ज ञ न ल ग दर शन धर म सम ज प र द य ग क
  • स स क त भ ग ल स व स थ य  इत ह स  गण त  प रक त दर शनश स त र  सम ज  प र द य ग क धर म: एड व न ट ज म  ए ग ल कन ज म  एथ इज म  अय य व झ
  • ज स भ त क भ ग ल क प रम ख उप - व षय ह वह द सर ओर स स धन, पर यटन, जनस ख य स स क त क, धर म, क ष ज स व षय म नव भ ग ल क उप - व षय ह भ ग ल म नय तकन क
  • स स क त भ ग ल स व स थ य  इत ह स  गण त  प रक त दर शनश स त र  सम ज  प र द य ग क edit र जस थ न भ रत क एक प र न त ह यह क र जध न जयप र
  • व क प ड य प रव शद व र स स क त भ ग ल स व स थ य इत ह स गण त प र क त क व ज ञ न ल ग दर शन धर म सम ज प र द य ग क सम प द त कर भ त क श स त र अथव भ त क
  • उष णकट ब ध य वन, दलदल और घ स क म द न भ ग स पर प र ण ह यह क प रम ख नद श व त न ल ह ज दक ष ण स ड न क र जध न ज ब सह त द श क कई भ ग स
  • स स क त भ ग ल स व स थ य  इत ह स  गण त  प रक त दर शनश स त र  सम ज  प र द य ग क धर म: एड व न ट ज म  ए ग ल कन ज म  एथ इज म  अय य व झ
  • स स क त भ ग ल स व स थ य  इत ह स  गण त  प रक त दर शनश स त र  सम ज  प र द य ग क edit छत त सगढ भ रत क एक र ज य ह छत त सगढ र ज य क गठन
                                     
  • उष णकट ब ध य वन, दलदल और घ स क म द न भ ग स पर प र ण ह यह क प रम ख नद श व त न ल ह ज दक ष ण स ड न क र जध न ज ब सह त द श क कई भ ग स
  • स स क त भ ग ल स व स थ य  इत ह स  गण त  प रक त दर शनश स त र  सम ज  प र द य ग क edit उड स भ रत क एक प र न त ह ज भ रत क प र व तट पर
  • ज व क क रक: इन क रक म प रम ख ह जन त सम द य, वनस पत सम द य, स क ष मज व और मन ष य अज व क क रक इन क रक म प रम ख ह प रक श, त प, आर द रत
  • क ष त र म आव स करत थ ज नम फ ट क ह थ - द त व ल ह थ म टर क मह - कच छप आद प रम ख ह व स त र म .. प र ल ख... edit प रव शद व र: व ल प त करण व य जन

शब्दकोश

अनुवाद