पिछला

ⓘ तक्षशिला विश्वविद्यालय वर्तमान पाकिस्तान के रावलपिडी से 18 मील उत्तर की ओर स्थित था। जिस नगर में यह विश्वविद्यालय था उसके बारे में कहा जाता है कि श्री राम के भा ..


                                     

ⓘ तक्षशिला विश्वविद्यालय

तक्षशिला विश्वविद्यालय वर्तमान पाकिस्तान के रावलपिडी से 18 मील उत्तर की ओर स्थित था। जिस नगर में यह विश्वविद्यालय था उसके बारे में कहा जाता है कि श्री राम के भाई भरत के पुत्र तक्ष ने उस नगर की स्थापना की थी। यह विश्व का प्रथम विश्विद्यालय था जिसकी स्थापना 700 वर्ष ईसा पूर्व में की गई थी। तक्षशिला विश्वविद्यालय में पूरे विश्व के 10.500 से अधिक छात्र अध्ययन करते थे। यहां 60 से भी अधिक विषयों को पढ़ाया जाता था। 326 ईस्वी पूर्व में विदेशी आक्रमणकारी सिकन्दर के आक्रमण के समय यह संसार का सबसे प्रसिद्ध विश्वविद्यालय ही नहीं था, अपितु उस समय के चिकित्सा शास्त्र का एकमात्र सर्वोपरि केन्द्र था। तक्षशिला विश्वविद्यालय का विकास विभिन्न रूपों में हुआ था। इसका कोई एक केन्द्रीय स्थान नहीं था, अपितु यह विस्तृत भू भाग में फैला हुआ था। विविध विद्याओं के विद्वान आचार्यो ने यहां अपने विद्यालय तथा आश्रम बना रखे थे। छात्र रुचिनुसार अध्ययन हेतु विभिन्न आचार्यों के पास जाते थे। महत्वपूर्ण पाठयक्रमों में यहां वेद-वेदान्त, अष्टादश विद्याएं, दर्शन, व्याकरण, अर्थशास्त्र, राजनीति, युद्धविद्या, शस्त्र-संचालन, ज्योतिष, आयुर्वेद, ललित कला, हस्त विद्या, अश्व-विद्या, मन्त्र-विद्या, विविद्य भाषाएं, शिल्प आदि की शिक्षा विद्यार्थी प्राप्त करते थे। प्राचीन भारतीय साहित्य के अनुसार पाणिनी, कौटिल्य, चन्द्रगुप्त, जीवक, कौशलराज, प्रसेनजित आदि महापुरुषों ने इसी विश्वविद्यालय से शिक्षा प्राप्त की। तक्षशिला विश्वविद्यालय में वेतनभोगी शिक्षक नहीं थे और न ही कोई निर्दिष्ट पाठयक्रम था। आज कल की तरह पाठयक्रम की अवधि भी निर्धारित नहीं थी और न कोई विशिष्ट प्रमाणपत्र या उपाधि दी जाती थी। शिष्य की योग्यता और रुचि देखकर आचार्य उनके लिए अध्ययन की अवधि स्वयं निश्चित करते थे। परंतु कहीं-कहीं कुछ पाठयक्रमों की समय सीमा निर्धारित थी। चिकित्सा के कुछ पाठयक्रम सात वर्ष के थे तथा पढ़ाई पूरी हो जाने के बाद प्रत्येक छात्र को छरू माह का शोध कार्य करना पड़ता था। इस शोध कार्य में वह कोई औषधि की जड़ी-बूटी पता लगाता तब जाकर उसे डिग्री मिलती थी।

अनेक शोधों से यह अनुमान लगाया गया है कि यहां बारह वर्ष तक अध्ययन के पश्चात दीक्षा मिलती थी। 500 ई. पू. जब संसार में चिकित्सा शास्त्र की परंपरा भी नहीं थी तब तक्षशिला आयुर्वेद विज्ञान का सबसे बड़ा केन्द्र था। जातक कथाओं एवं विदेशी पर्यटकों के लेख से पता चलता है कि यहां के स्नातक मस्तिष्क के भीतर तथा अंतडिय़ों तक का आपरेशन बड़ी सुगमता से कर लेते थे। अनेक असाध्य रोगों के उपचार सरल एवं सुलभ जड़ी बूटियों से करते थे। इसके अतिरिक्त अनेक दुर्लभ जड़ी-बूटियों का भी उन्हें ज्ञान था। शिष्य आचार्य के आश्रम में रहकर विद्याध्ययन करते थे। एक आचार्य के पास अनेक विद्यार्थी रहते थे। इनकी संख्या प्रायरू सौ से अधिक होती थी और अनेक बार 500 तक पहुंच जाती थी। अध्ययन में क्रियात्मक कार्य को बहुत महत्व दिया जाता था। छात्रों को देशाटन भी कराया जाता था। शिक्षा पूर्ण होने पर परीक्षा ली जाती थी। तक्षशिला विश्वविद्यालय से स्नातक होना उस समय अत्यंत गौरवपूर्ण माना जाता था। यहां धनी तथा निर्धन दोनों तरह के छात्रों के अध्ययन की व्यवस्था थी। धनी छात्रा आचार्य को भोजन, निवास और अध्ययन का शुल्क देते थे तथा निर्धन छात्र अध्ययन करते हुए आश्रम के कार्य करते थे। शिक्षा पूरी होने पर वे शुल्क देने की प्रतिज्ञा करते थे। प्राचीन साहित्य से विदित होता है कि तक्षशिला विश्वविद्यालय में पढऩे वाले उच्च वर्ण के ही छात्र होते थे। सुप्रसिद्ध विद्वान, चिंतक, कूटनीतिज्ञ, अर्थशास्त्री चाणक्य ने भी अपनी शिक्षा यहीं पूर्ण की थी। उसके बाद यहीं शिक्षण कार्य करने लगे। यहीं उन्होंने अपने अनेक ग्रंथों की रचना की। इस विश्वविद्यालय की स्थिति ऐसे स्थान पर थी, जहां पूर्व और पश्चिम से आने वाले मार्ग मिलते थे। चतुर्थ शताब्दी ई. पू. से ही इस मार्ग से भारत वर्ष पर विदेशी आक्रमण होने लगे। विदेशी आक्रांताओं ने इस विश्वविद्यालय को काफी क्षति पहुंचाई। अंततः छठवीं शताब्दी में यह आक्रमणकारियों द्वारा पूरी तरह नष्ट कर दिया।

                                     
  • तक षश ल प ल : तक कस ल प र च न भ रत म ग ध र द श क र जध न और श क ष क प रम ख क न द र थ यह क व श वव द य लय व श व क प र च नतम व श वव द य लय
  • रह ह - तक षश ल व श वव द य लय ज आध न क प क स त न म इस ल म ब द, क प स स थ त ह स तव सद ईप स - 460 ईसव तक न ल द व श वव द य लय आध न क ब ह र
  • म अन क स स क त य म उच च - श क ष प रद न करन व ल स स थ ए व कस त क गय थ न लन द मह व ह र व क रमश ल व श वव द य लय तक षश ल व श वव द य लय
  • मह व ह र प र च न व श वव द य लय न लन द व श वव द य लय भ रत क प र च न व श वव द य लय बन रस तक षश ल व श वव द य लय प ष पग र व श वव द य लय तक षश ल व क रमश ल
  • द व स स क त व श वव द य लय लगभग 30 हज र वर गम टर म न र म त, न र म ण ध न और प रस त व त भवन क क ष त र ह श क षण क ल ए न र म त तक षश ल भवन त न म ज ल
  • स स क त क व मर श आल चन इल क ट र न क म ड य अ र स न म म ड य अध ययन तथ तक षश ल क तक षक कह न स ग रह न मक प स तक ल ख ह इसक अत र क त ज प न प रव स
  • जन म यह पर ह आ थ इस व श वव द य लय क स थ पन क श र य ग प त श सक क म रग प त प रथम - क प र प त ह इस व श वव द य लय क ह म त क म र ग प त क
  • च क त स मह व द य लय न न ज द शम ख पश च क त स व श वव द य लय जबलप र अभ य त र क मह व द य लय तक षश ल इ ज न यर ग ए ड ट क न ल ज मदन महल श रद च क जबलप र
  • चन द रग प त म र य क मह म त र थ व क ट ल य न म स भ व ख य त ह व तक षश ल व श वव द य लय क आच र य थ उन ह न न दव श क न श करक चन द रग प त म र य क र ज
  • म प रध न ह प र च न क ल म प रचल त ग र क ल पद धत और तक षश ल और न लन द आद व श वव द य लय इसक स क ष त प रम ण ह श क ष क म ल महत व क क रण ह
                                     
  • यह द श भ रत म व ख य त थ यह क प रस द ध क क रण वल लभ व श वव द य लय थ ज तक षश ल तथ न लन द क परम पर म थ वल लभ प र य वलभ स यह क श सक
  • खज न पह ड क प र तक षश ल म ह ज आध न क शहर इस ल म ब द स 35 क ल म टर द र ह तक षश ल क अध क श प र त त व क स थल तक षश ल स ग रह लय क आसप स स थ त
  • व गत श क क न म क उल ल ख ह अश क क ज य ष ठ भ ई स श म उस समय तक षश ल क प र न तप ल थ तक षश ल म भ रत य - य न न म ल क बह त ल ग रहत थ इसस वह क ष त र
  • ज ड ह प र च न क ल क त न प रम ख व श वव द य लय यथ तक षश ल न लन द और व क रमश ल म स एक व श वव द य लय भ गलप र म ह थ ज स हम व क रमश ल
  • म बख श ल ग व तत क ल न पश च म त तर स म प र न त अब प क स त न म तक षश ल स लगभग क म द र म म ल थ यह श रद ल प म ह एव ग थ ब ल स स क त
  • म वर णन म लत ह ग र क ल क ह व कस त र प तक षश ल न ल द व क रमश ल और वलभ क व श वव द य लय थ ज तक ह व वन स ग क य त र व वरण तथ अन य
  • करत रह फरवर सन म उनसत तर वर ष क आय म आपक न धन ह गय तक षश ल र क म नस व सर जन, अम त और व ष, इत य द य गद प, यथ र थ और कल पन
  • म प च व श वव द य लय थ अब स त नए व श वव द य लय स थ प त क ए गए बन रस ह द व श वव द य लय तथ म स र व श वव द य लय 1916 म पटन व श वव द य लय 1917 म
  • म ल आय उसक स य ग स ज वक न मक प त ररत न ह आ ब म ब स र न ज वक क तक षश ल म श क ष ह त भ ज यह ज वक एक प रख य त च क त सक एव र जव द य बन अज तशत र
  • म ल आय उसक स य ग स ज वक न मक प त ररत न ह आ ब म ब स र न ज वक क तक षश ल म श क ष ह त भ ज यह ज वक एक प रख य त च क त सक एव र जव द य बन अज तशत र
  • प र प त ह ए ब द धक ल म तक षश ल और न ल द ज स श क ष क द र क व क स ह आ ज नक स थ बह त अच छ प स तक लय थ तक षश ल क प स तक लय म व द, आय र व द
  • क व श वव द य लय अर थ त न लन द व श वव द य लय एव तक षश ल व श वव द य लय क च न थ क य क उस समय स स र म अपन तरह क यह द व श वव द य लय श क ष
  • क न म क त स कह ह प ण न क श क ष व षयक स ब ध, स भव ह तक षश ल क व श वव द य लय स रह ह कह ज त ह जब व अपन स मग र क स ग रह कर च क त
                                     
  • पब ल शर स प ल व ल, न र यण दत त क म ऊ न - ह न द शब दक श द ल ल तक षश ल प रक शन प ण ड च र चन द र क म ऊ न कव ग र द क क व य दर शन
  • भ ण ड लगभग 600.0 ई. प - ल ह वस त ओ क स थ उत तर क ल औपद र म द भ ण ड तक षश ल स क च क वस त ए आय र व द स ग रह, दक ष ण च क त सक आत र य, ज वक भ रत
  • ह - क श यप म तग और धर मरक ष त इसक ब द लग त र न ल द तक षश ल व क रमश ल और ओदन तप र आद व श वव द य लय क श क षक न उनक अन सरण क य जब आच र य क म रज व
  • तक क भ रत क ल ख त इत ह स स पत चलत ह क आय र व ज ञ न क श क ष तक षश ल तथ न ल द क मह व द य लय म द ज त थ ब द म य मह व द य लय नष ट
  • उत तर चलन पर ब न र घ ट पह च फ र इसन स ध नद प र क ह द पर और तक षश ल एक मह यन ब द ध र ज य, ज कश म र क अध न थ यह स वह कश म र पह च
  • अन ष ठ न और उसक सह यक व ज ञ न व द ग कहल त थ य व द ग प र च न व श वव द य लय ज स तक षश ल न ल द और व क रमश ल म प ठ यक रम क ह स स थ प र च न क ल
  • 252 म ह म तक षश ल व श वव द य लय क एक उत तम च त र म लत ह स खप ल ज तक 524 और दर म ख ज तक 378 म मगध क र जक म र क तक षश ल म श क ष र थ

शब्दकोश

अनुवाद
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →