पिछला

ⓘ फ़ातिमा जिन्नाह मादर-ए मिल्लत यानी जनता की माँ, क़ायदे आज़म के जीवन में मादर-ए मिल्लत उनके हमर उह प्रभावी रूप से १९ साल रहें यानी १९२९ से १९४८ तक और मृत्यु शुक् ..


फ़ातिमा जिन्नाह
                                     

ⓘ फ़ातिमा जिन्नाह

फ़ातिमा जिन्नाह मादर-ए मिल्लत यानी जनता की माँ, क़ायदे आज़म के जीवन में मादर-ए मिल्लत उनके हमर उह प्रभावी रूप से १९ साल रहें यानी १९२९ से १९४८ तक और मृत्यु शुक्रवार के बाद भी इतना ही समय जीवित रहीं।

हमारे विशेषज्ञ इतिहास ऑसाज्य ने मादर मिल्लत को कायदे आजम के घर की देखभाल करने वाली बहन को लेकर बहुत बुलंद स्थान दिया है लेकिन उन्होंने स्थापना पाकिस्तान और खासकर १९६५ के बाद के राजनीतिक नक्शे पर जो आश्चर्यजनक प्रभाव छोड़े हैं उनकी तरफ अधिक ध्यान नहीं। यह एक सार्थक बात है कि कायदे आजम के जीवन में मादर मिल्लत उनके हमर उह प्रभावी रूप से १९ साल रहें यानी १९२९ से १९४८ तक और मृत्यु शुक्रवार के बाद भी इतना ही समय जीवित रहीं यानी १९४६ से १९६७ तक लेकिन इस दूसरे दौर में उनकी अपनी व्यक्ति कुछ इस तरह उभरी और उनके विचारों भूमिका कुछ इस तरह नखरे कर सामने आए कि उन्हें बजा लिए कायदे आजम की लोकतांत्रिक बे बाक और पारदर्शी राजनीतिक मूल्यों को आज़सर नौ जीवित करने का श्रेय दिया जा सकता है जिन्हें शासक भूल चुके थे। इस सिलसिले में मादर मिल्लत ने जिन आरा जताई उनसे समकालीन राजनीतिशास्त्और मामलों पर उनकी ज़हनी पकड़ ना योग्य विश्वास हद तक और मजबूत नजर आती है। १९६५ के राष्ट्रपति चुनाव के मौके पर अय्यूब खान की आलोचना के जवाब में मादर मिल्लत ने ख़ुद कहा था कि अय्यूब सैन्य मामलों का विशेषज्ञ हो सकता है लेकिन राजनीतिक समझ और फ़्रासत मैंने कायदे आजम सीधे प्राप्त है और यह ऐसा क्षेत्र है जिसमें अमर बिल्कुल ना देशांतर है। १९६५ के बाद उत्पन्न होने वाली घटनाओं मादरमलत के इस बयान की पुष्टि करने के लिए काफी हैं। उदाहरण के मादर मिल्लत ने जिन खतरों की बार बार पहचान की उनमें से कुछ हैं:

  • मशरकी पाकिस्तान और अन्य सो मांदा क्षेत्रों की स्थिति जार।
  • गरीबी और समझशी ना हमवारयों के कांटों से भरा नाक वृद्धि।
  • अशिक्षा और साइन्टीफक शिक्षा के बारे में सरकार की आपराधिक चुप्पी।
  • लोकतांत्रिक और पार लीमानी संविधान बनाने में देरी।
  • बाहरी ऋण के असहनीय दबाव।
  • खारजहपाईतिय के एक द्विपक्षीय और असंतुलित व्यवहार।
  • नसाबात में इस्लामी मूल्यों और खासकर कुरआन की शिक्षाओं का अभाव।
  • की बढ़ती हस्तक्षेप।

मादरमलत ने नोइ अन्य राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय मामलों के बारसे में साहेबान सत्ता और जनता कोआंए वाले खतरों से आगाह करने वाले जो विवरण दिए वह उनकी दूर रस निगाहों और राजनीतिक दूरदर्शी का प्रतिनिधित्व करते हैं। अगर हम नी मादर मिल्लत के रूबरू कत आनतबह पर कान धरे होते और खतरों से बचने का आयोजन किया होता जो उनकी निगाहें साफ तौपर देख रही थीं तो आज हम कट्टरपंथी राजनीतिक, आर्थिक और सामाजिक बहरानों की चपेट में न होते जो हमारे राष्ट्र रात और दिन सामना कर रही है और यह बात तो सुनिश्चित मालूम होती है कि पूर्वी पाकिस्तान का दलख़राश घटना साइट विकासशील न होता। मादर मिल्लत राजनीतिक जीवन चाहे उन्होंने जिस अंदाज़ से रात और दिन बिताए और राष्ट्और मुसलमानों के लिए जो बलिदान करें उनके अंदर निश्चय एक आदर्श भूमिका के पूरे कारकों हैं। इन कारकों में पांच विशेष रूप से उल्लेखनीय हैं: पहला: वह एक आदर्श गरिलो महिला थीं। व्यर्थ ख़रची से पूरा परहेज़ और सरल लेकिन आवश्यक आसाइशों और सुविधाओं से भरपूघर कायदे आजम के लिए भोजन और आराम का एक प्रणाली अलाव कात साईतिय चहल पहल और मलाकातयों के भीड़ के बा वजूद पर आराम माहौल कायदे आजम अपनी गिर मयों के अंत में जब घर लौटते तो अपने स्वागत के लिए एक खन्दां और शादाँ बहन को मौजूद पाते। यही वह संतोषजनक और आ सोदा स्वदेशी माहौल था जिसके ्फ़ेल अपनी बीमारी के बावजूद कायदे आजम अपनी पूरी लगन और एक सुई के साथ आंदोलन पाकिस्तान का मयाबी दिलाने कर सके।

दो: मादर मिल्लत जीवन से एक महत्वपूर्ण सबक यह मिलता है कि महिलाओं को प्रो फेशनल शिक्षा आ रास्ता होनाचाहए ताकि वह आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर हैं और राष्ट्रीआय में भी वृद्धि कर सकें। मादर मिल्लत ने दांतों के इलाज चिकित्सक में क्रसीस हासिल की और कई साल तक पर ऐक्ट्स और इस दौरान गरीबों का मुफ्त इलाज किया। स्वयंसेवक: मादरमलत अपने जीवन का लगभग हिस्सा बेशुमार सामाजिक और रफाही संस्थान सिर सती केवल और उनकी प्रगति और विकास में दामे, ओरमे सखने मदद की लेकर कश्मीरी आप्रवासियों के लिए सेवाओं ना योग्य फ़्रा मोश हैं। चौथा: मादर मिल्लत का सबसे महत्वपूर्ण उपलब्धि पाकिस्तान को लोकतंत्र के रास्ते पर फिर चलने करना है उन्होंने १९६५ के राष्ट्रपति चुनाव में भाग लेकर आंदोलन पाकिस्तान के हमा पदार्थ सार्वजनिक भागीदारी की यादें ताज़ा कर और पूर्वी और पश्चिमी पाकिस्तान के बीच एक जहती और ईगाँगत के भावनाओं को जागरूक किया। हालांकि उन्हें धांधली से हराया गया लेकिन इसका नतीजा कुछ सालों के अंदर अय्यूब खान की सैन्य शासक के अंत के रूप में निकला।

मादरमलत राजनीतिक संघर्ष में पाकिस्तान की महिलाओं के लिए यह संदेश मज़मर है कि राजनीतिशास्त्र से संबंधित नहीं रहना चाहिए। अपने भीतर राजनीतिक चेतना पैदा करना चाहिए और चुनाव में भरपूर भाग लेकर महब देश और ईमानदार लोगों को सफल बनाना चाहिए। पंचम: उच्च हलकोंआओर सत्ता के गलियारों में घूमने के बावजूद मादरे ईरानी इस्लामी शआयरे के अनुसार रहने और अपने आप को हर प्रकार के घोटाले से सुरक्षित रखा। वह कायदे आजम की तरह बेहद आत्माभिमान और पर प्रतिष्ठा थी वह एकता इस्लामी के प्रशंसक थीं और उनकी भारी दस्त खवायश थी कि युवा छात्र के लिए कुरआन मजीद की शिक्षा को आवश्यक बताया है। महिलाओं और खासकर छात्राओं यह कर्तव्य लगाया है कि वह कायदे आजम की प्रिय बहन की हयात और सेवाओं का अध्ययन करें और अपने भीतर कम से कम वह गुण पैदा करें जिनका ऊपर उल्लेख किया गया है। इन्हीं विशेषताओं की बदौलत महिलाओं राष्ट्र विकास और निर्माण में भरपूर अंदाज़ में योगदान कर सकती हैं। मादरे ईरानी कुछ नये अफ़रोज़ विचारों: मादरे मिल्लत की हयात और सेवाओं के अध्ययन से पता चलता है कि पाकिस्तान के समाज का निर्माण और निर्माण और विकास नीतियों के बारे में स्पष्ट विचार रखती थीं। जैसा कि पहले भी कहा गया है उन्हें केवल एक घरेलू महिला समझना सही नहीं होगा। वह कायदे आजम की मृत्यु के बाद १९ साल तक जीवित रहीं और देश के राजनीतिक, आर्थिक, सामाजिक और शैक्षिक समस्याओं के बारे में तवातुर के साथ अपनी आरा देती रहीं। पंजाब विश्वविद्यालय अनुसंधान सोसाइटी ऑफ पाकिस्तान ने दो सौ से अधिक तकारीरछअपी हैं और इसके अलावा आंतरिक और बाहरी मामलों पर उनके नये अफ़रोज़ टिप्पणी अन्य पुस्तकों रसाइल में बघरे पड़े हैं। इन विचारों और बयानों मार्गदर्शन के लिए कायदे आजम मौजूद न थे। मादर मिल्लत अपने लिए पुस्तकें बीनिय और अध्ययन की बेहद शौकीन थीं और विभिन्न मामलों में स्वतंत्र ढंग से सोचती थीं। उनके विचारों और विचारों के बारे में अभी तक कोई विश्लेषिकी लेखन नज़र नहीं लगी। यहाँ नमूने के रूप में उनके चार बयानों दर्ज किए जाते हैं जो समस्याओं की फ़िक्री पकड़ का पता चलता है:

इस्लामी शिक्षाओं: इस समय दुनिया अजीब दौर से गुज़र रही है और यह कहना मुश्किल है कि कशमकश का क्या नतीजा होगा. इस समय सबसे बड़ी समस्या जो सारी दुनिया के लिए दर्द सिर बना हुआ है वह यह कि बनी नोइ इंसान में किस तरह ईगाँगत और समानता स्थापित की. ईद मीलाआलनबी एक समारोह को संबोधित, १४ जनवरी १९५०

कश्मीर: तब पाकिस्तान को विभिन्न मुद्दों का सामना है और यह सिद्ध अमर है कि इनमें कश्मीर सबसे महत्वपूर्ण है। प्रतिरोधक बिंदु दृष्टि से कश्मीर पाकिस्तान के जीवन और आत्मा की हैसियत रखता है। आर्थिक लिहाज़ से कश्मीर हमारी मरफि समय स्रोत है। पाकिस्तान के बड़े नदी उसी राज्य की सीमा से गुजर कर पाकिस्तान में दाखिल होते और हमारी खुशहाली में देते इसके बिना पाकिस्तान के मरफि समय खतरे में पड़ जाएगी। अगर ख़ुदा न करे हम कश्मीर से वंचित होने पर प्रकृति की दी गई नेमत पद का बड़ा हिस्सा हमसे छिन जाएगा। कश्मीर हमारी मदाफित का प्रमुख बिंदु है। अगर दुश्मन कश्मीर सुंदरत घाटी और पहाड़ों में मोर्चा बनाने का मौका मिल जाए तो फिर यह अटल अमर है कि हमारे मामलों में हस्तक्षेप और कस्टम चलाने की कोशिश करेगा। सो अपने आप को मजबूत और सचमुच शक्तिशाली राष्ट्र बनाने के लिए यह बहुत ज़रूरी है कि पाकिस्तान को दुश्मन की ऐसी गतिविधियों की चपेट में न आने दिया जाए. इस लिहाज से कश्मीर की हमारा पहला कर्तव्य हो जाता है। संगठन व्यापारियों कराची को संबोधित दिसम्बर १९४८

आंतरिक स्थिरता: आज स्थिति क्या है? आंतरिक रूप से हम उद्देश्य प्रक्रिया के गठबंधन से वंचित हैं बाहरी तौपर हमें वह सम्मान और आदर नहीं जिसके हम योग्य हैं। आप आस्षाब नफ़्स और सोचें कि उसकी जिम्मेदारी किस पर है निश्चित रूप से आपको वह अड़चनें पेश नहीं जो आज़ादी से पहले दो महान शक्तिशाली की तुलना में दर पेश थीं किया इसकी वजह यह है कि आप अब तक का नेतृत्व पैदा करने में असफल रहे जो आपके विचारों और समानता की सिदक दिल्ली से समर्थन हो? कयाआस वजह यह है कि आप आज़ादी का मतलब मेहनत और संघर्ष के बजाय आराम और तन आसानी समझ लिया है क्या इसकी वजह यह है कि अपने दुश्मनों को मौका दिया जाए कि वह दोस्तों के भेस मेंआप की सफों में अराजकता पैदा करेंआओर इन विचारों से आपको बहकाएँजन के लिए पाकिस्तान समझरज़ अस्तित्व में आया था। ये ऐसे प्रश्न हैं जिनका उत्तर खुद आप को देना चाहिए। आजकल विदेश नीति और विदेश मामलों पर यहां बड़ी बातें हो रही हैं लेकिन मेरे राय है कि इन बातों में सच्चाई परिचित को बहुत कम दखल है। सबसे स्वागत है कि हम स्थिति को सधारें, आगरहको मत को राजनीतिक और आर्थिक स्थिरता प्राप्त हो जाए तो उसे विदेश भी सम्मान नसीब होती है। उसकी विदेश नीति तो शायद किसी को पसंद आए या न आए लेकिन सम्मान से देखा जाता है।; कायदे आजम की दिवस जन्म पर प्रसारण भाषण, २५ दिसम्बर वर्ष १९५६ लोकतंत्र: हमारे रास्ते में आंतरिक और बाहरी समस्याओं आड़े हुई हैं। हम विभिन्न आज़तिशों से गुज़रे हैं हम परेशान किन क्षण आए हैं, लेकिन हमारा विश्वास मतज़ल्सल नहीं हुआ और हम निराश नहीं हुए। आज दस साल बाद हमें इस बात का सर्वेक्षण करना चाहिए कि हम सार्वजनिक आमंगों पाने में कितनी सफल हुए। पाकिस्तान कुछ जाह पसंद लोगों की शिकार स्थल बनने के लिए स्थापित नहीं हुआ था जहां वह लाखों लोगों के आंसोओं, पसीने और खून पर पुल कर मोटे होते रहें। पाकिस्तान सामाजिक न्याय, समानता, आसुत, सामूहिक भलाई, शांति और आनंद की प्राप्ति के लिए किया गया था। आज हमें इस उद्देश्य से दूर फेंक दिया गया है। आपको पता होना चाहिए कि यह छुपा हुआ हाथ किसका है जिसने सार्वजनिक जीवन में ज़हर घोल दिया है निजी हितों और सत्ता के लिए षड़यंत्और मोलतोल के रुझान बढ़ रहे हैं। लोगों को जमवरी अधिकार के उपयोग से वंचित रखने के लिए प्रयास हो रहे हैं। आपको संविधान की रक्षा और गैर लोकतंत्र रुझान को रोकने के लिए एकजुट होना चाहिए, जल्दी चुनाव की मांग ही इस स्थिति का एकमात्र समाधान है। में पाकिस्तानियों से अपील करती हूं वह देश में पराग्नदगी फैलाने वालों के खिलाफ डटकर जाएं और लोकतंत्र की ओर चलने रहें।

                                     
  • बटव र ज न न और न हर क र जन त क ल लच क वजह स ह आ ह म हम मद अल ज न न ह जन म न म: महमदअल झ ण भ ई, ग जर त મહમદઅલ ઝ ણ ભ ઇ क जन म आध न क स न घ
  • और एक कब र उत तर क और स थ त ह ज क फ त म ज न न ह क ह ब क क त न, ल यक त अल ख न, म हम मद अल ज न न ह और अब द र रब न स र क ह प क स त न य दग र
  • महत वप र ण भ म क न भ ई थ इनक अल व ब गम र ण ल य कत अल ख न और फ त म ज न न ह ज स मह ल ओ न भ अपन भ म क न भ ई थ न कर प श व ल ल ग न भ
  • र ष ट रपत ज ञ च न व म प र व प क स त न एकमत स न अय ब ख न क व र द ध, फ त म ज न न ह क पक ष म मतद न क य इन च न व क व य पक र प स अय ब ख न क पक ष
                                     
  • ब द ज न न बह त द ख रहन लग ऐस म उन ह अपन बहन फ त म ज न न क सहय ग म ल फ त म न ह ज न न क ब ट क प लन प षण क य ज न न स द न क

शब्दकोश

अनुवाद
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →