पिछला

ⓘ जोधपुर राजस्थान का दूसरा सबसे बड़ा नगर है। राव जोधा ने 12मई, 1459 ई. में आधुनिक जोधपुर शहर की स्थापना | इसकी जनसंख्या १० लाख के पार हो जाने के बाद इसे राजस्थान ..


                                               

फतेह सागर बहुविकल्पी

                                               

जसवंत सिंह द्वितीय

जोधपुर
                                     

ⓘ जोधपुर

जोधपुर राजस्थान का दूसरा सबसे बड़ा नगर है। राव जोधा ने 12मई, 1459 ई. में आधुनिक जोधपुर शहर की स्थापना | इसकी जनसंख्या १० लाख के पार हो जाने के बाद इसे राजस्थान का दूसरा "महानगर घोषित कर दिया गया था। यह यहां के ऐतिहासिक रजवाड़े मारवाड़ की इसी नाम की राजधानी भी हुआ करता था। जोधपुर थार के रेगिस्तान के बीच अपने ढेरों शानदार महलों, दुर्गों और मन्दिरों वाला प्रसिद्ध पर्यटन स्थल भी है।

वर्ष पर्यन्त चमकते सूर्य वाले मौसम के कारण इसे "सूर्य नगरी" भी कहा जाता है। यहां स्थित मेहरानगढ़ दुर्ग को घेरे हुए हजारों नीले मकानों के कारण इसे "नीली नगरी" के नाम से भी जाना जाता था। यहां के पुराने शहर का अधिकांश भाग इस दुर्ग को घेरे हुए बसा है, जिसकी प्रहरी दीवार में कई द्वार बने हुए हैं, हालांकि पिछले कुछ दशकों में इस दीवार के बाहर भी नगर का वृहत प्रसार हुआ है। जोधपुर की भौगोलिक स्थिति राजस्थान के भौगोलिक केन्द्र के निकट ही है, जिसके कारण ये नगर पर्यटकों के लिये राज्य भर में भ्रमण के लिये उपयुक्त आधार केन्द्र का कार्य करता है।

वर्ष २०१४ के विश्व के अति विशेष आवास स्थानों मोस्ट एक्स्ट्रा ऑर्डिनरी प्लेसेज़ ऑफ़ द वर्ल्ड की सूची में प्रथम स्थान पाया था। एक तमिल फ़िल्म, आई, जो कि अब तक की भारतीय सिनेमा की सबसे महंगी फ़िल्मशोगी, की शूटिंग भी यहां हुई थी।

                                     

1. नगर परिचय

सूर्य नगरी के नाम से प्रसिद्ध जोधपुर शहर की पहचान यहां के महलों और पुराने घरों में लगे छितर के पत्थरों से होती है, पन्द्रहवी शताब्दी का विशालकाय मेहरानगढ़ दुर्ग, पथरीली चट्टान पहाड़ी पर, मैदान से १२५ मीटर ऊंचाई पर विद्यमान है। आठ द्वारों व अनगिनत बुजों से युक्त यह शहर दस किलोमीटर लंबी ऊंची दीवार से घिरा है।

सोलहवीं शताब्दी का मुख्य व्यापार केन्द्र, किलों का शहर जोधपुर, अब राजस्थान का दूसरा विशालतम शहर है। पूरे शहर में बिखरे वैभवशाली महल, किले और मंदिर, एक तरफ जहां ऐतिहासिक गौरव को जीवंत करते हैं वही दूसरी ओर उत्कृष्ट हस्तकलाएं लोक नृत्य, संगीत और प्रफुल्ल लोग शहर में रंगीन समां बांध देते हैं।

                                     

2. जीवन शैली

जोधपुर शहर के लोग बहुत मिलनसार होते है, ये सदैव दुसरों की मदद के लिये ततपर रहते है, उलझी हुई घुमावदार गलियाँ पटरियों पर लगी दुकानों से घिरी हैं। कलात्मक रूप से बनी हुई रंगबिरंगी पोशाकें पहने हुए लोगों को देखकर प्रतीत होता हैं कि जोधपुर की जीवनशैली असाधारण रूप से सम्मोहित करने वाली है। औरतें घेरदार लहंगा और आगे व पीछे के हिस्सों को ढकने वाली तीन चौथाई लंबाई की बांह वाली नितम्ब स्थल तक की जैकेट पहनती हैं। पुरुषों द्वारा पहनी हुई रंगीन पगड़ियाँ शहर में ओर भी रंग बिखेर देती हैं। आमतौर से पहने जाने वाली ढ़ीली ढ़ाली और कसी, घुड़सवारी की पैंट जोधपुरी ने यहीं से अपना नाम पाया। जोधपुर के कपदो मैं जोधपुरी कोट पूरे भारत में प्रसिद्ध है।

                                     

3. शिक्षा क्षेत्र

राजस्थान में जोधपुर शिक्षा के क्षेत्र में बहुत आगे हैं। दूर दूर से विद्यार्थी यहाँ पढ़ने के लिये आते है। जोधपुर को सीए कि खान कहा जाता है। पूरे भारत में सबसे ज्यादा सीए यहीं से निकलते है। शिक्षा के लिये यहां पर विकल्प मौजूद है। यहाँ विश्व प्रसिद्ध आईआईटी, नेशनल लो युनिवर्सिटी, एम्स, काजरी, आफरी आयुर्वेदिक विश्वविद्यालय, कृषि विश्वविद्यालय जोधपुर स्थित है। इनके अलावा जयनारायण व्यास विश्वविद्यालय हैं। तथा साथ ही बालिकाओं के लिए भी कॉलेज है। जोधपुर में लगभग हर गांव में विद्यालय है।

                                     

4. हस्तशिल्प

उत्कृष्ट हस्तशिल्पों के समृद्ध संग्रह का रंगीन प्रगर्शन देख कर जोधपुर के बाजारों में खरीददारी करना एक उत्साहपूर्ण अनुभव है। बंधेज का कपड़ा, कशीदाकारी की हुई चमड़े, ऊँट की खाल, मखमल आदि की जूतियां आकर्षक रेशम की दरियां मकराना के संगमरमर से बने स्मृतिचिन्ह, उपयोगी व सजावटी वस्तुओं की विस्तृत किस्में आदि इन बाजारों में पाई जाती हैं।

अनगिनत त्योहारों, समृद्ध अतीत और शाही राज्य की संस्कृति का उत्सव मनाते हैं। वर्षा में एक बार विशाल पैमाने पर मारवाड़ समारोह भी मनाया जाता है।

                                     

5. उपलब्धियां

जोधपुर को राजस्थान की न्यायिक राजधानी कहा जाता है, राजस्थान का उच्च न्यायालय भी जोधपुर में ही स्थित है। जोधपुर पूरे विश्व से जुड़ने के लिये अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा भी मौजुद है। पूरे राजस्थान के प्रसिद्ध विभाग जैसे मौसम विभाग, नार्कोटिक विभाग सी बी आइ, कस्टम,वस्त्र मन्त्रालय आदि मौजूद है।

                                     

6. उत्सव व मेले

जोधपुर में सभी पर्वों को बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है, यहाँ का बेतमार मेला और कागा का शीतला माता मेला बहुत प्रसिद्ध है लोग दूर - दूर से ये मेला देखने आते है। राजस्थान के लोक देवता रामदेव पीर का मसुरिया मेला भी काफी प्रसिद्ध है।

मारवाड़ उत्‍सव, नागौर का प्रसिद्ध पशु मेला और पीपाड़ का गंगुआर मेला। यह कुछ महत्‍वपूर्ण उत्‍सव है जो जोधपुर में बड़े ही धूम-धाम से मनाया जाते है। यहाँ पर सावन माह की बड़ी तीज और बेतमार मेला विश्व प्रसिद्ध है।

जोधपुर में गणगौर पूजन का भी विशेष महत्व है और इसी उत्सव पर पुराने शहर में गणगौर की झांकियां भी निकाली जाती हैं। धिंगा गवर इसके बाद आने वाला एक आयोजन है इस दिन महिलाऐं शहर के परकोटे में तरह के स्वांग रच कर रात को बाहर निकलती हैं और पुरुषों को बैंत से मारती हैं अपने प्रकार का एक अनोखा त्योहार है।

                                     

7. निकटवर्ती स्थल

महामंदिर

इसका निर्माण ईसवीं सन १८१२ में किया था। यह अपने ८४ नक्काशीदार खंभों के कारण असाधारण है।

तिवंरी

यह जोधपुर कि एक तहसील है। यह एक उपनगर है। यहां पर प्राचीन खोखरी माता का मन्दिर हैं। इसके निकटवर्ती गाँव मथानिया व ओसियां हैं।

किला

40 किलोमीटर - अब हैरिटेज होटल है, यह किला देखने योग्य है।

लूनी किला

20 किलोमीटर - किले को अब हैरिटेज होटल में परिवर्तित कर दिया गया है। किला व उसके आसपास का वातावरण दर्शनीय है।

                                     

7.1. निकटवर्ती स्थल बालसंमद झील

यह जोधपुर से ५ कि॰मी॰ दूर है। इस सुंदर झील का निर्माण ईसवीं सन् ११५९ में हुआ था। झील के किनारे खड़ा भव्य ग्रीष्मकालीन महल खूबसूरत बगीचों से घिरा हुआ है। भ्रमण करने के लिए यह एक रमणीय स्थल है।

                                     

7.2. निकटवर्ती स्थल मंडोर गार्डन

यह शहर से ०८ किलोमीटर की दूरी पर है। मारवाड़ की प्राचीन राजधानी में जोधपुर के शासकों के स्मारक हैं। हॉल ऑफ हीरों में चट्टान से दीवार में तराशी हुई पन्द्रह आकृतियां हैं जो हिन्दु देवी-देवताओं का प्रतिनिधित्व करती है। अपने ऊँची चट्टानी चबूतरों के साथ, अपने आकर्षक बगीचों के कारण यह प्रचलित पिकनिक स्थल भी बन गया है।

                                     

7.3. निकटवर्ती स्थल महामंदिर

इसका निर्माण ईसवीं सन १८१२ में किया था। यह अपने ८४ नक्काशीदार खंभों के कारण असाधारण है।

                                     

7.4. निकटवर्ती स्थल कायलाना झील

कायलाना झील जो कि जोधपुर की एक प्रसिद्ध झील है। यह खूबसूरत झील एक आदर्श पिकनिक स्थल है। झील मुख्य शहर से ११ किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

कैलाना झील से 5 से6 किलोमीटर की दूरी पर सिद्धनाथ मंदिर स्थित है जो कि बहुत सुंदर है और एक दर्शनीय स्थल है

                                     

7.5. निकटवर्ती स्थल ओसियां

ओसियां जोधपुर जिले का एक प्राचीन क्षेत्र है तथा वर्तमान में एक तहसील के रूप में विस्तृत है। यह जोधपुर - बीकानेर राजमार्ग की दूसरी दिशा पर रेगिस्तान में बसा हुआ है। इस प्राचीन क्षेत्र की यात्रा के दौरान बीच - बीच में पड़ते हुए रेगिस्तानी विस्तार व छोटे-छोटे गांव अतीत के लहराते हुए भू-भागों में ले जाते है। ओसियां में सुंदर तराशे हुए जैन व ब्राह्मणों के ऐतिहासिक मन्दिर है। इनमें से सबसे असाधारण हैं आरंभ का सूर्य मंदिऔर बाद के काली मंदिर, सच्चियाय माता मन्दिऔर भगवान महावीर मन्दिर भी स्थित है। यह काफी प्राचीन नगर है पूर्व में इसका नाम उपकेश था।

                                     

7.6. निकटवर्ती स्थल तिवंरी

यह जोधपुर कि एक तहसील है। यह एक उपनगर है। यहां पर प्राचीन खोखरी माता का मन्दिर हैं। इसके निकटवर्ती गाँव मथानिया व ओसियां हैं।

                                     

7.7. निकटवर्ती स्थल लूनी किला

20 किलोमीटर - किले को अब हैरिटेज होटल में परिवर्तित कर दिया गया है। किला व उसके आसपास का वातावरण दर्शनीय है।

                                     

8. खरीददारी

जोधपुर के मोची गली से चमड़े का जूता, रंगीन कपड़ा, टाई, पॉलिश किया हुआ घरेलू सजावटी सामान आदि की खरीददारी की जा सकती है। जोधपुर के मिर्ची बड़े बाहर के देशों में भी निर्यात किये जाते है।

                                     

9. भोजन

शहर के खानपान की प्रसिद्धि का अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है भारत के कई शहरों में "जोधपुर स्वीट्स" नाम से दुकानें पाई जाती हैं। जोधपुर में खासतौपर दूध निर्मित खाद्य पदार्थों का ज्‍यादा प्रयोग होता है। जैसे मावा का लड्डू, माखनिया लस्‍सी, मावा कचौरी, और दूध फिरनी आदि।

यहाँ का मिर्ची बड़ा और प्याज कचोरी बहुत ही प्रसिद्ध है। भोजन में प्राय यहाँ बाजरे के आटे से बनी रोटियां, जिन्हें सोगरा कहते हैं, प्रमुखता से खाई जाती है। सोगरा किसी भी चटनी, साग आदि के साथ खाया जाता है। इसके अलावा यहां कई स्थानीय व्यंजन भी पाए जाते हैं जैसे दाल बाटी चूरमा, लहसुन की चटनी, गट्टे की सब्जी, केर सांगरी पंचकुट, काचरी, पापड़ की सब्जी, राब, लापसी, आटे का हलवा, और कढ़ी पकोड़ा इत्यादि जो खाने में स्वादिष्ट होते हैं। इसी प्रकार छाछ और प्याज भी इसके साथ खाया जाता है। इसके अलावा भी कई अन्य पकवान यहां पर पारंपरिक तौपर बनाए जाते हैं।

                                     

10. प्रमुख व्यक्ति

  • नारायण लाल पंचारिया, संसद सदस्य
  • शैलेश लोढा अभिनेता
  • सुरेंद्र बिश्नोई राणेरीक्रिकेटर
  • जसवंत सिंह बिश्नोई प्रदेश भाजपा उपाध्यक्ष,पूर्व सासंद जोधपुर,पूर्व मंत्री राजस्थान सरकार
  • गजेन्द्र सिंह शेखावतकेंद्रीय जल शक्ति मंत्री, भारत सरकार
  • करणवीर बोहरा अभिनेता
  • अशोक गहलोत वर्तमान राजस्थान के मुख्यमंत्री
  • राजेन्द्र मल लोढ़ा, भारत के सर्वोच्च न्यायाधीश
                                     

11.1. परिवहन रेलवे

शहर में परिवहन की अच्छी सुविधा उपलब्ध है। जहाँ लगभग सभी बड़े शहरों के लिए ट्रेनें निकलती है।

जोधपुर में कई रेलवें जंक्शन है। जोधपुर रेलवे स्टेशन उत्तर पश्चिम रेलवे एनडब्ल्यूआर का संभागीय मुख्यालय है। यह अच्छी तरह से अलवर, दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, चेन्नई, बेंगलुरू, तिरुवनंतपुरम, पुणे, कोटा, कानपुर, बरेली, हैदराबाद, अहमदाबाद, इंदौर, भोपाल, धनबाद, पटना, गुवाहाटी, नागपुर, लखनऊ जैसे प्रमुख भारतीय शहरों के लिए रेलवे के साथ जुड़ा हुआ है। ग्वालियर,जयपुर आदि मुख्य जोधपुर स्टेशन भीड़ कम करने के लिए, उपनगरीय स्टेशन भगत की कोठी रेलवे स्टेशन यात्री गाड़ियों के लिए दूसरा मुख्य स्टेशन के रूप में विकसित किया गया है।

                                     

11.2. परिवहन जोधपुर के आसपास के उपनगरीय स्टेशनों

  • सालावास रेलवे
  • लूनी रेलवे स्टेशन
  • बनाड़ रेलवे स्टेशन
  • राईका बाग़ पैलेस जंक्शन
  • मण्डोर रेलवे स्टेशन
  • जोधपुर कैंट रेलवे स्टेशन
  • भगत की कोठी रेलवे स्टेशन
  • महामन्दिर रेलवे स्टेशन
  • बासनी रेलवे स्टेशन
                                     

11.3. परिवहन विमानक्षेत्र

जोधपुर विमानक्षेत्र राजस्थान के प्रमुख विमानक्षेत्रों में से एक है। यह मुख्य रूप से नागरिक हवाई यातायात के लिए अनुमति देने के लिए एक नागरिक बाड़े के साथ एक सैन्य एयरबेस है। जोधपुर की राजनीतिक स्थिति के कारण, इस विमानक्षेत्र को भारतीय वायु सेना के लिए सबसे महत्वपूर्ण विमानक्षेत्र में से एक के रूप में माना जाता है।

वर्तमान में यहाँ एयर इंडिया और जेट एयरवेज और स्पाइसजेट द्वारा संचालित करने के लिए दिल्ली, मुंबई, उदयपुर, जयपुर, बैंगलोऔर पुणे से दैनिक उड़ानें भरती हैं।

                                     

11.4. परिवहन सड़क

जोधपुर राज्य के सड़क परिवहन में भी प्रमुख माना जाता है। यहाँ से दिल्ली, अहमदाबाद, सूरत, उज्जैन, आगरा,मुम्बई,पुणे तथा बैंगलोर आदि के अलावा डीलक्स और एक्सप्रेबस सेवा से जैसे पड़ोसी राज्यों के लिए सड़क मार्ग से जुड़ा हुआ है। राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम दिल्ली के लिए वोल्वो और मर्सिडीज बेंज बस सेवा प्रदान करता है। जबकि अहमदाबाद, जयपुर, उदयपुऔर जैसलमेर हाल ही में बस रैपिड ट्रांजिट सिस्टम बीआरटीएस लो फ्लोऔर सेमी लो फ्लोर प्रमुख मार्गों पर चलने वाली बसों के साथ शहर में शुरू की है। जोधपुर में तीन राष्ट्रीय राजमार्गों के साथ और दस राज्य राजमार्गों के साथ राजस्थान राज्य राजमार्ग नेटवर्क के लिए राष्ट्रीय राजमार्ग नेटवर्क से जोड़ा गया है।

                                     
  • ज धप र ज ल भ रत क र जस थ न र ज य क एक ज ल ह इसक म ख य लय ज धप र नगर म ह ज क र जस थ न क द सर सबस बड नगर ह ज धप र स र य नगर क न म
  • ज धप र र य सत  म रव ड क ष त र म स तक चल र य सत थ इसक र जध न वर ष स ज धप र नगर म रह लगभग 90, 554 क म 2 34, 963 वर ग म ल क ष त रफल
  • ह ज धप र र लव स ट शन 1885 म नई ज धप र र लव क क ष त र ध क र म ख ल गय थ पहल र लग ड 9 म र च 1885 क ज धप र स ल न तक चल गई नई ज धप र र लव
  • स व ध क ल ए म डल म व भ ज त क य गय ह इनम स ज धप र म डल भ एक ह ज धप र म डल म ब ड म र, ज सलम र, ज ल र, ज धप र प ल स र ह ज ल ह
  • ज धप र एक स प र स 6508 भ रत य र ल द व र स च ल त एक म ल एक स प र स ट र न ह यह ट र न ब गल र स ट ज क शन र लव स ट शन स ट शन क ड: SBC स 09: 50PM बज छ टत
  • tower क न म स भ ज न ज त ह यह र जस थ न र ज य क ज धप र ज ल म स थ त ह इसक न र म ण ज धप र क सरद र स ह न करव य थ इसम ल ग खर दद र करन
  • जयसलम र ज धप र एक स प र स 4809 भ रत य र ल द व र स च ल त एक म ल एक स प र स ट र न ह यह ट र न जयसलम र र लव स ट शन स ट शन क ड: JSM स 11: 15PM बज छ टत
  • प र ज धप र एक स प र स 8473 भ रत य र ल द व र स च ल त एक म ल एक स प र स ट र न ह यह ट र न प र र लव स ट शन स ट शन क ड: PURI स 02: 30PM बज छ टत ह
  • ज धप र र लव म डल भ रत य र लव क उत तर पश च म र लव म डल क अ तर गत आन व ल च र र लव म डल म स एक ह इस र लव म डल क स थ पन नव बर क क
                                     
  • च न नई ज धप र एक स प र स 6125 भ रत य र ल द व र स च ल त एक म ल एक स प र स ट र न ह यह ट र न च न नई एग म र र लव स ट शन स ट शन क ड: MS स 03: 15PM बज
  • यशव तप र ज धप र एक स प र स 6534 भ रत य र ल द व र स च ल त एक म ल एक स प र स ट र न ह यह ट र न यशव तप र ज क शन र लव स ट शन स ट शन क ड: YPR स 05: 00PM
  • ज धप र यशव तप र एक स प र स 6533 भ रत य र ल द व र स च ल त एक म ल एक स प र स ट र न ह यह ट र न ज धप र ज क शन र लव स ट शन स ट शन क ड: JU स 05: 30AM बज
  • प ण ज धप र एक स प र स 1090 भ रत य र ल द व र स च ल त एक म ल एक स प र स ट र न ह यह ट र न प ण ज क शन र लव स ट शन स ट शन क ड: PUNE स 07: 50PM बज छ टत
  • ह वड ज धप र एक स प र स 2307 भ रत य र ल द व र स च ल त एक म ल एक स प र स ट र न ह यह ट र न ह वड ज क शन र लव स ट शन स ट शन क ड: HWH स 11: 30PM बज
  • ज धप र बर म र एक स प र स 4059A भ रत य र ल द व र स च ल त एक म ल एक स प र स ट र न ह यह ट र न ज धप र ज क शन र लव स ट शन स ट शन क ड: JU स 06: 00AM बज
  • ज धप र प र क क लक त क एक क ष त र ह यह क लक त नगर न गम क अध न आत ह
  • Technology Rajasthan भ रत क प र द य ग क श क षण क स स थ न ह यह र जस थ न क ज धप र म स थ त ह यह सन और क ब च ख ल आठ नय भ रत य प र द य ग क
  • ज धप र ल क सभ न र व चन क ष त र भ रत क र जस थ न र ज य क एक ल क सभ न र व चन क ष त र ह ज धप र ल क सभ न र व चन क ष त र म आठ व ध नसभ क ष त र आत ह
  • बरकत ल ल ख स ट ड यम एक प रम ख ख ल क म द न ह ज र जस थ न क ज धप र ज ल म स थ त ह यह पर द एक द वस य अ तर र ष ट र य म च क आय जन ह च क ह प रथम
  • गण श नगर एक छ ट स ग व ह ज भ रत य र ज य र जस थ न तथ ज धप र ज ल क फल द तहस ल म स थ त ह गण श नगर ग व क ज य द तर ल ग ख त पर न र भर करत ह
                                     
  • ग ध नगर एक छ ट स ग व ह ज भ रत य र ज य र जस थ न तथ ज धप र ज ल क फल द तहस ल म स थ त ह ग ध नगर ग व क ज य द तर ल ग ख त पर न र भर करत ह
  • ड बर एक छ ट स ग व ह ज भ रत य र ज य र जस थ न तथ ज धप र ज ल क फल द तहस ल म स थ त ह ड बर ग व क ज य द तर ल ग ख त पर न र भर करत ह इस क रण
  • इ ड य इ स ट ट य ट ऑफ म ड कल स इ स ज ज धप र एम स ज धप र आध क र क त र पर अख ल भ रत य आय र व ज ञ न स स थ न ज धप र र जस थ न, भ रत म स थ त एक म ड कल
  • ज सलम र - ज धप र एक सप र स उत तर पश च म र लव म डल स स ब ध त एक एक सप र स ट र न ह ज भ रत म ज सलम र और ज धप र ज क शन क ब च चलत ह वर तम न म इस
  • ज म ज धप र Jam Jodhpur भ रत क ग जर त र ज य क ज मनगर ज ल म स थ त एक नगर और नगरप ल क ह सन 2001 क भ रत क जनगणन क अन स र, ज म ज धप र क आब द
  • भ ड एक भ रत य र ज य र जस थ न क ज धप र ज ल क एक ग व ह ज ओस य तहस ल क अ तर गत आत ह ग व क प न क ड 342309 ह तथ ट ल फ न क क ड 02927
  • अब हर - ज धप र - बठ ड प स जर प ज ब क अब हर ज क शन और र जस थ न क ज धप र ज क शन र लव स ट शन क ज ड न व ल भ रत य र ल क एक य त र र ल ह
  • ज धप र र ष ट र य व श वव द य लय JNU र जस थ न क एक न ज व श वव द य लय ह यह ज धप र क उपनगर य क ष त र म स थ त ह इसक प र गण लगभग एकड म फ ल
  • घ वड र जस थ न क ज धप र ज ल क त वर तहस ल क एक ग व ह घ वड स ज धप र शहर लगभग 40 क ल म टर द र ह तथ त वर एव मथ न य इनक सबस नजद क कस ब
  • व श वव द य लय र जस थ न क ज धप र ज ल म स थ त एक ड म ड व श वव द य लय ह इसक स थ पन 1962 म क थ प र व म इसक न म ज धप र व श वव द य लय थ ज स

शब्दकोश

अनुवाद
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →