पिछला

ⓘ कुलपति. प्राचीन भारत में गुरुकुल आश्रमों के प्रधान कुलपति कहलाते थे। रामायण काल में वशिष्ठ का बृहद् आश्रम था जहाँ राजा दिलीप तपश्चर्या करने गये थे, जहाँ विश्वाम ..


                                               

भारतीदासन विश्वविद्यालय

भारतीदासन यूनिवर्सिटी, तमिलनाडु तिरुचिरापल्ली नगर में स्थित एक सार्वजनिक विश्...

                                     

ⓘ कुलपति

प्राचीन भारत में गुरुकुल आश्रमों के प्रधान कुलपति कहलाते थे। रामायण काल में वशिष्ठ का बृहद् आश्रम था जहाँ राजा दिलीप तपश्चर्या करने गये थे, जहाँ विश्वामित्र को ब्रह्मत्व प्राप्त हुआ था। इस प्रकार का एक और प्रसिद्ध आश्रम प्रयाग में भारद्वाज मुनि का था।

कालिदास ने वसिष्ठ तथा कण्व ऋषि को कुलपति की संज्ञा दी है। गुप्तकाल में संस्थापित तथा हर्षवर्धन के समय में अपनी चरमोन्नति को प्राप्त होनेवाले नालंदा महाविहार नामक विश्वविद्यालय के कुछ प्रसिद्ध तथा विद्वान कुलपतियों के नाम ह्वेन्सांग के यात्राविवरण से ज्ञात होता हैं। बौद्ध भिक्षु धर्मपाल तथा शीलभद्र उनमें प्रमुख थे।

प्राचीन भारतीय काल में अध्ययन अध्यापन के प्रधान केंद्र गुरुकुल हुआ करते थे जहाँ दूर दूर से ब्रह्मचारी विद्यार्थी, अथवा सत्यान्वेषी परिव्राजक अपनी अपनी शिक्षाओं को पूर्ण करने जाते थे। वे गुरुकुल छोटे अथवा बड़े सभी प्रकार के होते थे। परंतु उन सभी गुरुकुलों को न तो आधुनिक शब्दावली में विश्वविद्यालय ही कहा जा सकता है और उन सबके प्रधान गुरुओं को कुलपति ही कहा जाता था। स्मृतिवचनों के अनुसार

‘मुनीनां दशसाहस्रं योऽन्नदानादि पोषाणात। अध्यायपति विप्रर्षिरसौ कुलपति: स्मृत:।’

स्पष्ट है, जो ब्राह्मण ऋषि दस हजार मुनि विद्यार्थियों को अन्नादि द्वारा पोषण करता हुआ उन्हें विद्या पढ़ाता था, उसे ही कुलपति कहते थे। ऊपर उद्धृत स्मृतः hhffffhhtj शब्द के प्रयोग से यह साफ दिखाई देता है कि कुलपति के इस विशिष्टार्थग्रहण की परंपरा बड़ी पुरानी थी। कुलपति का साधारण अर्थ किसी कुल का स्वामी होता था। वह कुल या तो एक छोटा और अविभक्त परिवार हो सकता था अथवा एक बड़ा और कई छोटे छोटे परिवारों का समान उद्गम वंशकुल भी। अंतेवासी विद्यार्थी कुलपति के महान विद्यापरिवार का सदस्य होता था और उसके मानसिक और बौद्धिक विकास का उत्तरदायित्व कुलपति पर होता था; वह छात्रों के शारीरिक स्वास्थ्य और सुख की भी चिंता करता था।

आजकल कुलपति शब्द का प्रयोग विश्वविद्यालय के वाइसचांसलर के लिए

                                     
  • बन थ भ रत य व श वव द य लय म प र व म इनक प रश सन क अक दम क म ख य क ल ए उप क लपत प रय क त ह आ करत थ ज ब द म बदल कर क लपत कर द य गय
  • क क लपत अमर उज ल अभ गमन त थ मई शर म र मब ब मई उत तर प रद श: प र र ज र म श क ल स प र ण न द स स क त व व क क लपत बन
  • पद ह त ह उपक लपत स ध स ध क लपत क न य त रण ध न ह त ह ज एक स व ध न क एव प रत क त मक प रम ख ह त ह क लपत क स र फ स कट क समय व श ष ध क र
  • अन श स पर क लपत पद पर अगस त क र ष ट र य प र द य ग क स स थ न, र यप र म प र फ सर ड म क श क म र वर म क स एसव ट य क क लपत न य क त क य
  • ग ध व श वव द य लय त र वन तप रम क रल क क लपत रह इसक ब द उन ह न क द र य व श वव द य लय ग लबर ग क क लपत क र प म भ अपन स व ए द अगस त
  • उप - क लपत स प र फ सर आर. स र हर उप - क लपत स प र फ सर क ऍस. च लम उप - क लपत प र फ सर ज लक ष म न र यण उप - क लपत अगस त
  • इल ह ब द र ज य व श वव द य लय क अ तर गत आ गए ह व श वव द य लय क प रथम क लपत क अन स र यह व श वव द य लय र ज ड न श यल कम एफ ल एट ग व श वव द य लय ह ग
  • प र च न भ रत य ग र क ल म क लपत ह आ करत थ क ल द स न वस ष ठ तथ कण व ऋष क रघ व श, प रथम, 95 तथ अभ श , प रथम अ क क लपत क स ज ञ द ह ग प तक ल
  • ड ग र क ल ए जर मन क बर ल न व श वव द य लय गए और ल ट कर ज म य क उप क लपत क पद पर भ आस न ह ए 1920 म उन ह न ज म य म ल य इस ल म य क स थ पन
  • व श वव द य लय ह क म ऊ व श वव द य लय क क लपत रह च क प र एच.एस ध म क व श वव द य लय क पहल क लपत न य क त क य गय उदय श कर र ष ट र य स ग त
                                     
  • अर ण पल ट क क र यभ र ग रहण करन क त थ स ह मच द य दव व श वव द य लय क क लपत न य क त क य ह र यप र : प रद श क य व ओ क म ल ग एक नय व श वव द य लय
  • न य य ध श जस ट स प आर र मच द र म नन व श वव द य लय क क ल ध पत ह वर तम न क लपत प र ड व स व व क न दन ह ज न ह न स त बर क पदभ र ग रहण
  • फ रवर 1918 भ रत क न य यव द तथ श क ष श स त र थ व इल ह ब द व श वव द य लय क प रथम भ रत य क लपत तथ बन रस ह न द व श वव द य लय क प रथम क लपत थ
  • व श वव द य लय ह इसक स थ पन स त बर म क गई थ व श वव द य लय क क लपत ड र हण प रस द ह Sarguja University www.4icu.org. अभ गमन त थ
  • एमए, एमस सह त ड प ल म क र स स च ल त ह व श वव द य लय क बत र प रभ र क लपत आईएएस ज आर च र द र न य क त क ए गए ह व श वव द य लय क आध क र क ज लस थल
  • द र ग व श वव द य लय क प रथम क लपत क र प म न य क त ड द क ष त वर तम न म र स र ष ट र य उच च श क ष अभ य न क सदस य व गवर नम ट स इ स क ल ज, द र ग
  • म नवव ज ञ न स रक षणव द और व श वव द य लय प रश सक ह वह क म ब र ज व श वव द य लय क 344 व क लपत थ वह व श वव द य लय क द सर मह ल क लपत रह
  • स व श वव द य लय न क र य करन प र रम भ कर द य क ल ध पत क लपत प रत क लपत क लसच व व त त न य त रक ड न श क ष क क र य कल प ड न सतत श क ष एवम
  • ड ल लज स ह क लपत बन रस ह द व श वव द य लय 5 ज ल ई 1947 10 द सम बर 2017 ह दर ब द स थ त क श क य एव आणव क ज वव ज ञ न क न द र CCMB क भ तप र व
  • क अल प य म व कलकत त व श वव द य लय क क लपत बन इस पद पर न य क त प न व ल व सबस कम आय क क लपत थ एक व च रक तथ प रखर श क ष व द क र प म

शब्दकोश

अनुवाद
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →