पिछला

ⓘ जन्‍मेजय. महाभारत के बाद हस्तिनापुर के महाराज परीक्षित के पुत्र जन्मेजय हुए | इन्होने नागयज्ञ किया तथा तक्षक सर्प को मारने हेतु यह यज्ञ किया जिसमे पृथ्वी के सार ..

                                     

ⓘ जन्‍मेजय

महाभारत के बाद हस्तिनापुर के महाराज परीक्षित के पुत्र जन्मेजय हुए | इन्होने नागयज्ञ किया तथा तक्षक सर्प को मारने हेतु यह यज्ञ किया जिसमे पृथ्वी के सारे नाग मरे गए। इनके वंशज आगे चलके तोमर कहलाये | सम्राट क्षेमक इनके वंशज थे जो अंतिम सम्राट हुए तथा उनके वंशज रजा तुंग हुए जो दक्षिण भारत में कर्नाटक में पुनः राज्य स्थापित करने में सक्षम हुए।

                                     
  • जन म जय स ईब ब जन म : एक छ उ कल क र और ग र ह वह मय रभ ज छ उ कल म न प ण ह और प छल स ल स इसक श क ष द न करत आ रह ह इस कल म
  • जन म जय स ह, भ रत क उत तर प रद श क स लहव व ध नसभ सभ म व ध यक रह 2012 उत तर प रद श व ध न सभ च न व म इन ह न उत तर प रद श क द वर य व ध न
  • जन म जय य जन म द एक ज ट ग त र ह इस ग त र क ल ग प नडव क ल क व शज ह इनक र जगदद हसत न प र रह ह ड प म र म 2010 र जस थ न क ज ट क इत ह स
  • म त य ह गई थ और जन म जय न न ग ओ क हर कर अपन प त क म त य क बदल ल य थ सर पश स त र क पर पर ओ क प लन करत ह ए जन म जय न ज स स थ न पर स प
  • य द ध क ब द स थल ध वस त ह गय थ पर क ष त क प त र जन म जय न इसक ज र ण द ध र कर कर व णप र जन म जय न म रख थ ज अपभ र श र प म बन प र ज नई ह गय
  • छऊ न त य श ल प त य र क य ह म इनक द ह त क ब द इनक भत ज जन म जय स ईब ब और उनक द न प त र र ज श और र क श इस कल क आग ल ज रह ह
  • म हम मदप र स थ त अव न क प र क फ प रस द ध स थ न ह ऐस म न ज त ह क र ज जन म जय न एक ब र प थ व पर ज तन भ स प ह उन ह म रन क ल ए यह एक यज ञ क
  • पर क ष त ह आ, ज सक म त य तक षक सर प क क टन स ह ई पर क ष त प त र जन म जय न अपन छ: भ इय क स थ प रत श ध म सर प ज त क व न श क ल य सर प ष ठ
  • उस स थ न पर छ ड न पड ग र म ण ल ग बड च व स इस ब त क कहत ह क जन म जय न गयज ञ यह स पन न ह आ थ व श ख म यह पर एक व श ल म ल भ लगत ह
  • सम र ट क स च भ द ह ई ह ज नक अभ ष क व द क न यम स ह आ थ य ह 1 जन म जय प र क ष त, त र क वश य द व र अभ ष क त, 2 श र य त म नव, च यवन भ र गव द व र
  • आय क त भ ग और म क षद त भ गवत प र ण स वय ग र ज न जन म जय क स न य आप ज नत ह - जन म जय क प त र ज पर क ष त क तक षक सर प न डस ल य थ और र ज
                                     
  • हर श नवल द ल ल ड हर श अर ड द ल ल ड रम द ल ल ड प र म जन म जय द ल ल प र जवर मल प रख द ल ल प कज चत र व द मध य प रद श प र
  • च तन इत ह स क भ त त पर स स थ त ह स क दग प त च द रग प त ध र वस व म न जन म जय क न ग यज ञ र ज यश र क मन एक घ ट जयश कर प रस द न अपन द र क प रस
  • न र म त म न ज त ह जनश र त ह क इसक न र म ण प डव य उनक व शज जन म जय द व र करव य गय थ स थ ह यह भ प रचल त ह क म द र क ज र ण द ध र जगद ग र
  • म हम मदप र स थ त अव न क प र क फ प रस द ध स थ न ह ऐस म न ज त ह क र ज जन म जय न एक ब र प थ व पर ज तन भ स प ह उन ह म रन क ल ए यह एक यज ञ क
  • भ रतवर ष क उत तर भ ग पर न गव श क र ज व स क क श सन थ उसक शत र र ज जन म जय न उस म ट न क प रण ल रख थ द न र ज ओ क ब च य ध द श र ह आ, ल क न
  • झरन आ स लहर क म यन प र म पथ क न टक स क दग प त च द रग प त ध र वस व म न जन म जय क न ग यज ञ र ज यश र क मन एक घ ट कह न स ग रह छ य प रत ध वन आक शद प
  • मह श वर म ह ष मत उसक र जध न थ मह भ रत क पश च त सम र ट पर क ष त और जन म जय क र ज यक ल तक धरमप र क व भव अपन पर क ष ठ पर पह च च क थ ल ख और
  • ह स वत र कथन द व दश स क ध - ब द ध वत र, कल क - अवत र - कथन, र ज पर क ष त तथ जन म जय कथ भगवत अवत र क वर णन आद इस प रक र यत र - तत र ब खर इस श र मद भ गवत
  • ग र ज क म र जन म क द - ग र ज क म र म थ र जन म जन म क फ र - र म न र यण जन म जय बच - श वस गर म श र जब ज ल फ पर र सर च ह ग - ड प र ण स ह जब ज ल फ
  • ह त र ज हठ स ह न यद आर प र क स ग र म क य न ह त पर क ष त - जन म जय - अश वम घ - धर मद व - मनज त च त ररथ - द पप ल - उग रस न - स रस न - भ वनपत
  • अभ मन य ह ए अभ मन य और उत तर क प त र र ज पर क ष त ह ए पर क ष त - जन म जय - अश वम घ - धर मद व - मनज त च त ररथ - द पप ल - उग रस न - स रस न - भ वनपत
                                     
  • जन म जय क सर प सत र क र कन क प रयत न करत ह ए आस त क ऋष

शब्दकोश

अनुवाद