पिछला

ⓘ ई-पुस्तक का अर्थ है डिजिटल रूप में पुस्तक। ई-पुस्तकें कागज की बजाय डिजिटल संचिका के रूप में होती हैं जिन्हें कम्प्यूटर, मोबाइल एवं अन्य डिजिटल यंत्रों पर पढ़ा ज ..


                                               

कलाल (अहलूवालिया)

कलाल दक्षिण भारत केे महान क्षत्रिय "कलचूूरि राजवंंश" के शुद्ध रक्त क्षत्रिय व...

                                               

कलाल वंश

कलाल दक्षिण भारत केे महान क्षत्रिय "कलचूूरि राजवंंश" के शुद्ध रक्त क्षत्रिय व...

ई-पुस्तक
                                     

ⓘ ई-पुस्तक

ई-पुस्तक का अर्थ है डिजिटल रूप में पुस्तक। ई-पुस्तकें कागज की बजाय डिजिटल संचिका के रूप में होती हैं जिन्हें कम्प्यूटर, मोबाइल एवं अन्य डिजिटल यंत्रों पर पढ़ा जा सकता है। इन्हें इण्टरनेट पर भी छापा, बाँटा या पढ़ा जा सकता है। ये पुस्तकें कई फाइल फॉर्मेट में होती हैं जिनमें पी॰डी॰ऍफ॰, ऍक्सपीऍस आदि शामिल हैं, इनमें पी॰डी॰ऍफ॰ सर्वाधिक प्रचलित फॉर्मेट है। जल्द ही पारंपरिक किताबों और पुस्तकालयों के स्थान पर सुप्रसिद्ध उपन्यासों और पुस्तकों के नए रूप जैसे ऑडियो पुस्तकें, मोबाइल टेलीफोन पुस्तकें, ई-पुस्तकें आदि उपलब्ध होंगी।।

                                     

1. ई-बुक रीडर

ई-पुस्तको को पढ़ने के लिए कम्प्यूटर अथवा मोबाइल पर एक सॉफ्टवेयर की आवश्यकता होती है जिसे ई-पुस्तक पाठक eBook Reader कहते हैं। पीडीऍफ ई-पुस्तकों के लिए ऍडॉब रीडर तथा फॉक्सिट रीडर नामक दो प्रसिद्ध पाठक हैं। इनमें से ऍडॉब तो पी॰डी॰ऍफ॰ फॉर्मेट की निर्माता कम्पनी ऍ़डॉब वालों का है, ये आकार में काफी बड़ा है तथा पुराने सिस्टमों पर काफी धीमा चलता है, फॉक्सिट रीडर इसका एक मुफ्त एवं हल्का-फुल्का विकल्प है।

                                     

2. ई-पुस्तक रीडर उपकरण

ई-पुस्तकों को पढ़ने हेतु अब कुछ हार्डवेयर उपकरण अलग से भी उपलब्ध हैं। इनमें अमेजन.कॉम का किण्डल तथा "ऍप्पल इंक" का आइपैड शामिल है।

"पाइ" ऐसा एक अन्य उपकरण है। आकार में यह १८८ मि.मी. ऊंचा और ११८ मि.मी. चौड़ा होता है।

इसमें एसडी कॉर्ड और मिनी यू॰एस॰बी॰ स्लॉट भी उपलब्ध होते है। इसकी मैमोरी ५१२ एमबी के लगभग होती है व इसमें ४ जीबी एसडी कार्ड लग सकता है। रैम मैमोरी ६४ एमबी। इसके अतिरिक्त इसमें कंप्यूटर गेम्स की भी सुविधा हो सकती है। बहुत सी नवीन पुस्तकों सहित कई अन्य पुरानी किताबें भी इसमें ऑनलाइन माध्यम से स्टोकर सकते हैं। इसमें कई भाषाओं में पढ़ने की सुविधा भी उपलब्ध होती है। मोबाइल के लिए ऍडॉब रीडर लाइट नामक पाठक उपलब्ध है।

यह युक्ति प्रयोग में अत्यंत सरल व भार में १८० ग्राम की कई पत्रिकाओं से भी हल्की होती है। इसका छह इंच ई-इंक विजप्लैक्स स्क्रीन होता है। इसमें टाइपफेस का आकार भी चुना जा सकता है, जिससे चार विभिन्न आकारों के फॉन्ट पढ़ने के लिए प्रयोग में ला सकते हैं। कोई पंक्ति बीच में से खोजने के लिए भी सुविधा है और बुकमार्क भी भी होते हैं, जिनसे पेज आसानी से उलटने-पलटने की सुविधा रहती है। इसकी बैटरी लाइफ भी अच्छी होती है जिससे बिना रीचार्ज किए कुछ दिनों तक पढ़ना जारी रख सकते हैं। सामान्यतः इसे चार घंटे तक चार्ज करना होता है।

                                     

3. ई-पुस्तक बनाना

ई-पुस्तक बनाने के दो तरीके हैं।

  • कम्प्यूटर पर टाइप की गई सामग्री को विभिन्न सॉफ्टवेयरों के द्वारा ई-पुस्तक रूप में बदला जा सकता है।
  • छपी हुई सामग्री को स्कैनर के द्वारा डिजिटल रूप में परिवर्तित करके उसे ई-पुस्तक का रूप दिया जा सकता है।

ई-पुस्तक हेतु सर्वाधिक लोकप्रिय एवं प्रचलित फॉर्मेट पीडीऍफ फाइल है। पीडीऍफ फाइल बनाने सम्बंधी जानकारी यहाँ देखें।

                                     
  • प स तक य क त ब ल ख त य म द र त पन न क स ग रह क कहत ह ड ज टल प स तक क ई - प स तक ई - ब क कहत ह जबक हस तल ख त प स तक क प ड ल प य कहत
  • फ र म ट ई - प स तक ह त प रचल त फ र म ट ह यह अड ब न मक स फ टव यर कम पन क द व र व कस त क य गय थ वर तम न म यह सबस ल कप र य ई - ब क फ र म ट ह ई - प स तक
  • अन य च ज क अल व 1940 ई तक क स ह त य क आल चन त मक व वरण भ द द य गय थ अब यह स ह त य त ह स क प स तक एक म कम मल प स तक क र प ल च क थ इस ग रन थ
  • म स प ट म य म न ज त ह तथ प उत तपत प स तक क म ख य ध र म क श क ष म ल क ह ह उस ग र थ क रचन पर म स 15व शत ब द ई प क प रभ व सबस महत वप र ण
  • ह ई - श सन स कम समय म क म ह ज त ह क य क उसम क र य मश न कम प य टर द व र ह त ह इसक अल व क म कह स कभ भ कर य ज सकत ह ई - श सन
  • म शनर य क ह प दर स ट फ स क प स तक द त र न क र श त इस भ ष क प रथम प स तक ह ज 1622 ई म ल ख गई थ उसक ब द 1640 ई म उन ह न प र तग ल भ ष
  • न लकण ठ स मय ज द व र स स क त म रच त खग लश स त र य ग र थ ह यह ग र थ 1501 ई म प र ण ह आ इसम 432 श ल क ह ज आठ अध य य म व भक त ह इस ग रन थ
  • स ई तक भ रत य जन क इत ह स ग गल प स तक प र व - मध यक ल न भ रत ग गल प स तक ल खक - श र न त र प ण ड य हम और हम र आज द ग गल प स तक अ ग र ज
  • प क कल प स तक रस ईघर स स ब ध त एक प स तक ह ज सम आम त र पर ख न पक न क व ध य क स ग रह ह त ह इस प स तक क आध न क स स करण म र ग न च त र
  • उर द - ह न द क श ग गल प स तक ल खक - बदर न थ कप र Views on the issue of national language in Pakistan भ ष ई अस म त और ह न द ग गल प स तक ल खक - ड रव न द रन थ
  • Euler न 1764 ई म और ल ग र ज न 1768 ई म प रत प द त क य मध यय ग क अद व त य गण तज ञ भ स कर च र य द व त य न अपन प रस द ध प स तक स द ध न तश र मण
                                     
  • उत पत त ल त न शब द ल इवर स ह ई ह ज सक अर थ ह प स तक प स तक लय क इत ह स ल खन प रण ल प स तक और दस त व ज क स वर प क स रक ष त रखन क पद धत य
  • लगध ऋष व द क ज य त षश स त र क प स तक व द ग ज य त ष क प रण त ह इनक क ल ई प म न ज त ह इस ग रन थ क उपय ग करक व द क यज ञ क अन ष ठ न
  • उत तम ई - प स तक ह न द म ध यम स मर ठ स ख मर ठ - ह न द शब दक श मर ठ - अ ग र ज शब दक श मर ठ फ न ट स ग रह मर ठ स ह त य : पर द ष य ग गल प स तक ल खक
  • आईप ड ऍप पल इ क क एक ड ज टल ग ज ट ह ज क म ख यत: ई - प स तक र डर क र प म प रच र त क य गय ह ब ल ट थ नह य ऍसब प र ट नह ज प आरऍस ऍज ज नह स र त:
  • अम र क क र ष ट र य प स तक प रस क र See: en: National Book Award for Poetry 2006 - एड र य न र च 2005 - न र मन म लर 2004 - ज ड ब ल म 2003 - स ट फन क ग
  • उनक म ल क प स तक म न ट यश स त र 1904 ई व क रम कद व चर तचर य 1907 ई ह न द भ ष क उत पत त 1907 ई और स पत त श स त र 1907 ई प रम ख ह
  • ल इस स द ख ह कर म स त र ल न स न ट स ऑफ ड थ न मक कव त - प स तक ल ख थ इस प स तक क प रक शन 1914 म ह आ थ और इस च ल म स ह त य क प रत य ग त
  • र पर ख प रक शन वर ष: 1953 ई तथ स ह त य, कल सम क ष प रक शन वर ष: 1954 ई क अध क ख य त ह ई ह मन मथ ज क ज प स तक चर च म रह उनक न म
  • क न म स ज न ज त थ यह प स तक सर व ध क ब कन व ल क प र इट प स तक क र प म स वय एक र क र डध र प स तक ह यह प स तक अम र क क स र वजन क प स तक लय
  • 1817 - 1897 ई क ल य ज सकत ह उन ह क न त त व म ह ल 1887 - 1914 ई आज द 1833 - 1910 ई नज र अहमद 1834 - 1912 ई और श बल 1857 - 1914 ई न उर द
  • डब ल य ई क म डब ल य ई क र प र ट व बस इट डब ल य डब ल य ई आध क र क व बस इट डब ल य डब ल य ई स ट क डब ल य डब ल य ई स बद ध व बस इट डब ल य डब ल य ई श प
  • क क द र कर न टक क भ भ ग रह इसल ए इस कर न टक क य द ध कहत ह ई म और गज ब क न धन क ब द म गल क भ रत क व भ न न भ ग स न य त रण कमज र
                                     
  • ड स ट शन प र प त करत ह व और व क ब र ड क पर क ष ए आई स एस ई नई द ल ल द व र आय ज त क ज त ह और पढ ई क अत र क त अन य गत व ध य
  • प र स टल न ई म व द य त स ब ध प स तक ह स ट र ऐ ड प र ज ट स ट ट ऑव इल क ट र स ट ल ख इसक ब द ह इनक प रक श स ब ध प स तक व ज हन, ल इट
  • उपन य स - 1976 ई ज गल क कह न उपन य स - 1977 2000 ई स घर ष क ओर उपन य स - 1978 ई य द ध द भ ग उपन य स - 1979 ई अभ ज ञ न उपन य स - 1981 ई आत मद न
  • सम न ह व कम न - च णक य क उपय ग क छ प रक शन द व र प स तक क छप य ह त क य ज त ह च णक य फ ण ट ई - पण ड त आइऍमई ड उनल ड कर व कम न - च णक य
  • 1876 - 1935 ई भ रत य गण तज ञ तथ बन रस म थ म ट कल स स यट क स स थ पक थ व ह न द क मह न प र म थ इनक जन म 15 नवम बर 1876 ई क बल य उत तर
  • व षय पर द नकर त न मक प स तक रच गई, ज सम प रस य क प रथ ओ इत ह स, आद पर बह त क छ ल ख ह आ ह ब दह श न भ ध र म क प स तक ह ज 12व शत ईसव
  • क द व द व प र च न क ल स चल आ रह ह ह र क ल इटस - ई प तथ ज न जन म, ई प न उसक ध य न व श ष र प स आकर ष त क य ह र क ल इटस गत
ईपब
                                               

ईपब

ईपब एक ई-बुक फाइल फॉर्मट है जिसका इक्स्टेन्सन ".epub" है। EPUB फाइलें पढ़ने के लिए बहुत से ई-पाठक हैं। EPUB अन्तरराष्ट्रीय डिजिटल प्रकाशन मंच द्वारा प्रकाशित एक तकनीकी मानक है जो २००७ में इसका आधिकारिक मानक बन गया। इसके पहले ओपेन ईबुक इसका मानक हुआ करता था।

शब्दकोश

अनुवाद
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →