पिछला

ⓘ हेतु. धूम और अग्नि में अविनाभाव संबंध होना चाहिए। साध्य अग्नि का पक्ष में पर्वत, गाँव आदि जहाँ धूम दिखाई पड़ता हो अस्तित्व तभी ज्ञात हो सकता है जब हेतु या लिंग ..


                                               

ये धर्मा हेतु

ये धर्मा हेतु एक प्रसिद्ध संस्कृत मन्त्र है जो प्राचीन काल में बहुत प्रचलित थ...

                                               

बैठक बिंदु २००० - लोकतंत्र और कल्याण हेतु दल

बैठक बिंदु २००० - लोकतंत्और कल्याण हेतु दल सूरीनाम का एक राजनैतिक दल है। पिछ्...

                                               

नील-हरित

यह नीला एवं हरा रंग के मिश्रण से बनने वाला एक रंग है। इसके अन्य निकटवर्ती रंग...

                                               

रोबोटिक अंतरिक्ष यान

                                               

गायत्री

यह हिन्दू धर्म की एक देवी हैं। इसका संशोधन महर्षि विश्वामित्र द्वारा किया गया...

हेतु
                                     

ⓘ हेतु

धूम और अग्नि में अविनाभाव संबंध होना चाहिए। साध्य अग्नि का पक्ष में पर्वत, गाँव आदि जहाँ धूम दिखाई पड़ता हो अस्तित्व तभी ज्ञात हो सकता है जब हेतु या लिंग ऐसा हो जो सर्वदा साध्य के साथ वर्तमान देखा गया हो। अनुमान की मानसिक प्रक्रिया को जब दूसरे के लिए शब्दों में व्यक्त करते हैं तो हम न्यायशास्त्र के अनुसार पाँच अवयवों के वाक्यों का तथा बौद्ध एवं पाश्चात्य तर्कशास्त्र के अनुसार तीन अवयवों के वाक्यों का प्रयोग करते हैं। पाँच अवयवोंवाले वाक्य में दूसरा अवयव हेतु कहलाता है। जैसे:

1. पर्वत में आग है प्रतिज्ञा।

2. क्योंकि उसमें धुआँ है हेतु।

3. जहाँ जहाँ धूम होता है वहाँ वहाँ आग रहती है, जैसे रसोई में उदाहरण।

4. इस पर्वत में जो धूम है वह आग के साथ व्याप्त है उपनय।

5. अत: पर्वत में धूम है। निगमन।

इसी अनुमान को तीन अवयवोंवाले वाक्य में इस तरह कहा जाएगा:

1. जहाँ जहाँ धुआँ है वहाँ आग होती है।

2. पर्वत में धुआँ है।

3. अत: पर्वत में आग है।

इन तीन अवयवोंवाले वाक्य में हेतु के लिए कोई अलग वाक्यावयव नहीं आता, हेतु का प्रयोग केवल पद के रूप में होता है।

हेतु के लिए पाँच बातों का होना अवश्यक माना गया है -

1. इसे पक्ष में वर्तमान रहना चाहिए,

2. इसे उन स्थानों पर होना चाहिए जहाँ साध्य वर्तमान रहता है,

3. इसे वहाँ नहीं रहना चाहिए जहाँ साध्य नहीं रहता,

4. इसे अबाधित होना चाहिए अर्थात् इसे पक्ष के विरुद्ध नहीं होना चाहिए और

5. इसे इसके विरोधी तत्वों से रहित होना चाहिए।

                                     

1. हेतु के प्रकार

हेतु तीन प्रकार के होते हैं:

1. अन्वयतिरेकी वह हेतु है जो साध्य के साथ रहता है और साध्य के अभाव में नहीं रहता - जैसे धूम और आगे।

2. केवलान्वयी हेतु सर्वदा साध्य के साथ रहता है - उनका अभाव संभव नहीं है; जैसे ज्ञेय और प्रमेय।

3. केवलव्यतिरेकी हेतु अपने अभाव के साथ ही साध्य से संबद्ध होता है - जैसे-गंध और पृथ्वी से इतर द्रव्य।

दूषित अनुमानों में हेतु वास्तव में हेतु नहीं होता अत: उसको हेत्वाभास कहते हैं।

                                     
  • अन क त क ह त ह त व भ स क एक भ द ह ज स सव यभ च र भ कहत ह अन म न म ह त क स ध य क अप क ष कम स थ न पर क त स ध य क स थ रहन च ह ए यद ह त ऐस
  • स व गत ह क व य - ह त त त पर य क व य क त त पर य कव - कर म तथ ह त क अर थ ह क रण क व य - ह त अर थ त क व य क रचन करन व ल कव म ऐस क न स व लक षण शक त
  • शरण र थ य ह त स य क त र ष ट र उच च य क त क क र य क ल United Natonals high Commisioner for Refugees: य एनएचस आर मह सभ क प रस त व ध न 3 द स बर, 1949
  • धर म ह त - प रभव ह त त ष तथ गत ह यवदत त ष च य न र ध एव व द मह श रमण अर थ : ज घटन ए ह त स उत पन न ह त ह तथ गत न उन घटन ओ क ह त क रण
  • ल कत त र और व क स ह त नव न म र च Nieuwe Front voor Democratie en Ontwikkeling स र न म क एक स म ज क - ल कत त र क - र जन त क गठब धन ह प छ ल व ध य च न व
  • स तम बर 2000 म इस ज 2एमई J2ME ह त सम त न स व क र कर ल य ज एसआर - 82 JSR - 82 न पहल ब र ब ल ट थ प र ट क ल ह त म नक ज व एप आई उपलब ध कर य इसक
  • ब ठक ब द - ल कत त र और कल य ण ह त दल Trefpunt 2000 Partij voor Democratie en Welzijn स र न म क एक र जन त क दल ह प छ ल व ध य च न व
  • उद द श य भ रत क अन तर र ष ट र य एव आन तर क क ट नर क त क र ग एव व यवस य ह त बह व ध य त य त स भ रत त र क बढ व द न थ तथ इसक क र य, यह ध य न म
  • ज लर द न क ह त भ रत क प रस द ध ह द उपन य सक र और ल खक स र न द र म हन प ठक क अगस त 2014 म ह र पर क ल सप रक शन द व र छ प गय उपन य स ह वर ग करण
  • इक इय क अ तरण अन य इक इय स त लन ह त महत त क क रम लम ब ई प रक श क गत म प व द य ISO 1 लम ब ई म पन ह त म नक सन दर भ त पम न Bureau International
                                     
  • प रसन न करन ह त व द प र ण तथ क व य म सर वत र स क त तथ स त त र भर पड ह अन क भक त द व र अपन इष टद व क आर धन ह त स त त र रच गय
  • क स थ त क अ क त करन ह त अत - प रय गन य तर क त नह ह क न त य द र य न पन एव अन य गण त य प रक र य स पन न करन ह त प रय ग क य ज त ह इसक
  • रक ष ह त त व र स धन च ह ए थ भ रत क सभ भ ग म बस स न य छ व न य ह त स च र क त व र और सस त स धन च ह ए थ ब र ट न क म ल ब चन ह त भ रत स
  • दस त व ज म ह न द ट क स ट क प रदर शन ह त बन य गय ह क क ल स न दर बन वट व ल फ ण ट ह ज क ग र फ क स क र य ह त उपय क त ह ह ल क यह बह त छ ट फ ण ट
  • उपनगर य र लव भ रत क च न नई शहर क शहर और उपनगर क ज ड त द न क य त र य ह त स च ल त स थ न य र ल स व ध ह इसक स च लन दक ष ण र लव स ह त ह इसक
  • क आवश यकत नह सभ भ रत य भ ष ओ ह त एक क ज पटल व न य स ह न स एक भ ष ह त ट इप ग स खन पर सभ भ ष ओ ह त आ ज त ह इनस क र प ट टच ट इप ग एव
  • म नव अध व सन ह त स य क त र ष ट र क द र United Nations Centre for Human Settlements UNCHS or Habitat: इसक स थ पन 1978 म क गय थ 1976 म कन ड
  • स स क त ह त एक य न क ड फ ण ट ह यह द वन गर क स य क त क षर सह त श द ध प रम पर क र प म दर श त ह ज स क रण यह ह न द स स क त ट क स ट क म द रण ह त व श ष
  • द ल ल क र ग म र ग पर पड न व ल एक व यस त ब ज र ह इसक स थ ह यह आव स य क ष त र भ ह अध क ब य र ह त द ख स उथ एक स ट शन स उथ एक स ट शन
  • व क स ह त अन स ध न हर बल उत प द क छ ट औद य ग क प यलट स तर पर उत प दन व यरस जन त र ग एच.आई.व यक तद ष, ड यब ट ज आद क न यन त रण उपच र ह त औषध य
  • ह आ ह इस ट इप करन ह त सम ट क ह एक ट इप म न जर प रय क त क य ज त थ ब द म द न क भ स कर सम च र - पत र न अपन क र य ह त इसक ल य स प लस न मक
  • ब ग ल द श क क ल ज ल म व भ ज त क य गय ह ज न ह प रश सन क क रण ह त क ल प रश सन क अ चल म स य ज त क य गय ह ज न ह व भ ग कह ज त ह
                                     
  • व ब पन न र प कन ह त प रय ग ह त ह व ब र प कन क कर त ओ क प स बह त व कल प ह त ह इन र ग क व ब घटक क व वरण द न ह त इन ह बत य ज सकत
  • दस त व ज म ह न द ट क स ट क प रदर शन ह त बन य गय ह उत स ह एक स पष ट र प स पठन य फ ण ट ह ज क स क र न र ड ग ह त उपय क त ह यह ह बह क त द व फ ण ट
  • तक इस अ तरर स ट र य उड न ह त ख ल द य ज य ग इस ह त यह 50 कर ड ड लर क न व श क य ज य ग र ज य सरक र न इस ह त आवश यक भ म भ अध ग रह त कर
  • ह त क ध वज ह त क र ष ट र य ध वज ह
  • ग र फ क स क र य ह त उपय क त ह ह ल क यह छ ट फ ण ट आक र म स पष ट नह द खत यह बड फ ण ट आक र म श र षक ह ड ग आद ल खन ह त उपय क त ह अपर ज त
  • द वन गर ह त एक म फ त एव स न दर य न क ड फ ण ट द वन गर ऍमट - म क ण ट श प रच लन तन त र क ड फ ल ट ह न द फ ण ट स द ध न त - स स क त ह त सर व ध क वर णखण ड
  • एक प रक र क अल क र ह जह क म क बन न व ल एक ह त म ज द ह त भ उस क म क स धक अन य ह त भ यद इकट ठ ह ज य त सम च चय अल क र कहल त ह
  • प रचल त ह जह च णक य म ब न क स अलग स फ टव यर र म गटन ह त स ल प क इन स क र प ट ह त ई - पण ड त आइऍमई क नह ल ख ज सकत वह व कम न - च णक य म

शब्दकोश

अनुवाद
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →