पिछला

ⓘ कृष्णदेवराय. विजयनगर साम्राज्य: कृष्णदेवराय 1509-1529 ई. ; राज्यकाल 1509-1529 ई. विजयनगर साम्राज्य के सर्वाधिक कीर्तिवान राजा थे। ये स्वयंयं कवि और कवियों के सं ..


                                               

तिरुमालादेवी

तिरुमालादेवी विजयनगर साम्राज्य के राजा कृष्णदेवराय की दूसरी और छोटी पत्नी थी।...

कृष्णदेवराय
                                     

ⓘ कृष्णदेवराय

विजयनगर साम्राज्य:

कृष्णदेवराय 1509-1529 ई. ; राज्यकाल 1509-1529 ई. विजयनगर साम्राज्य के सर्वाधिक कीर्तिवान राजा थे। ये स्वयंयं कवि और कवियों के संरक्षक थे। तेलुगु भाषा मेइ उनका काव्य अमुक्तमाल्यद साहित्य का एक रत्न है। इनकी भारत के प्राचीन इतिहास पर आधारित पुस्तक वंशचरितावली तेलुगू के साथ - साथ संस्कृत में भी मिलती है। संभवत तेलुगू का अनुवाद ही संस्कृत में हुआ है। प्रख्यात इतिहासकार तेजपाल सिंह धामा ने हिन्दी में इनके जीवन पर प्रामाणिक उपन्यास आंध्रभोज लिखा है। तेलुगु भाषा के आठ प्रसिद्ध कवि इनके दरबार में थे जो अष्टदिग्गज के नाम से प्रसिद्ध थे। स्वयं कृष्णदेवराय भी आंध्रभोज के नाम से विख्यात थे।

                                     

1. परिचय

जिन दिनों ये सिंहासन पर बैठे उस समय दक्षिण भारत की राजनीतिक स्थिति डाँवाडोल थी। पुर्तगाली पश्चिमी तट पर आ चुके थे। कांची के आसपास का प्रदेश उत्तमत्तूर के राजा के हाथ में था। उड़ीसा के गजपति नरेश ने उदयगिरि से नेल्लोर तक के प्रांत को अधिकृत कर लिया था। बहमनी राज्य अवसर मिलते ही विजयनगर पर आक्रमण करने की ताक में था। चिन्नादेवी व तिरुमालादेवी कृष्णदेवराय की पत्नियाँ थीं । चिन्नादेवी तिरुमालादेवी से आयु में बड़ी थीं । चिन्नेशवरी, चिन्नाकुमारी व वेन्गलम्बा चिन्नादेवी की पुत्रियाँ हैं। तिरुमालुमबा,तिरुमलराय व रामराया तिरुमालादेवी पुत्र-पुत्रियाँ हैं। कृष्णदेवराय ने इस स्थिति का अच्छी तरह सामना किया। दक्षिण की राजनीति के प्रत्येक पक्ष को समझनेवाले और राज्यप्रबंध में अत्यंत कुशल श्री अप्पाजी को इन्होंने अपना प्रधान मंत्री बनाया। उत्तमत्तूर के राजा ने हारकर शिवसमुद्रम के दुर्ग में शरण ली। किंतु कावेरी नदी उसके द्वीपदुर्ग की रक्षा न कर सकी। कृष्णदेवराय ने नदी का बहाव बदलकर दुर्ग को जीत लिया। बहमनी सुल्तान महमूदशाह को इन्होंने बुरी तरह परास्त किया। रायचूड़, गुलबर्ग और बीदर आदि दुर्गों पर विजयनगर की ध्वजा फहराने लगी। किंतु प्राचीन हिंदु राजाओं के आदर्श के अनुसार महमूदशाह को फिर से उसका राज लौटा दिया और इस प्रकार यवन राज्य स्थापनाचार्य की उपाधि धारण की। 1513 ई. में इन्होंने उड़ीसा पर आक्रमण किया और उदयगिरि के प्रसिद्ध दुर्ग को जीता। कोंडविडु के दुर्ग से राजकुमर वीरभद्र ने कृष्णदेवराय का प्रतिरोध करने की चेष्टा की पर सफल न हो सके। उक्त दुर्ग के पतन के साथ कृष्ण तक का तटीय प्रदेश विजयनगर राज्य में सम्मिलित हो गया। इन्होंने कृष्णा के उत्तर का भी बहुत सा प्रदेश जीता। 1519 ई. में विवश होकर गजपति नरेश को कृष्णदेवराय से अपनी कन्या का विवाह करना पड़ा। कृष्णदेवराय ने कृष्णा से उत्तर का प्रदेश गजपति को वापस कर दिया। जीवन के अंतिम दिनों में कृष्णदेवराय को अनेक विद्रोहों का सामना करना पड़ा। इनके पुत्र तिरुमल की विष द्वारा मृत्यु हुई।

कृष्णदेवराय ने अनेक प्रासादों, मंदिरों, मंडपों और गोपुरों का निर्माण करवाया। रामस्वामीमंदिर के शिलाफलकों पर प्रस्तुत रामायण के दृश्य दर्शनीय हैं।

                                     
  • क रन ल म स न तक त तर क द र 1993 म श र क ष णद वर य व श वव द य लय क ल ए बन य गय थ श र क ष णद वर य व श वव द य लय क ल ज ऑफ इ ज न यर ग ए ड ट क न ल ज
  • र ज क ष णद वर य 1509 - 1530 दक ष ण क मह न र ज क ष णद वर य व जयनगर क श सक थ उन ह न दक ष ण भ रत म म ग ल श सन क बढ त क र क द य और बह त स म द र
  • त ल व नरस न यक र ज क ष णद वर य क प त थ व जयनगर स म र ज य क र ज
  • आख र म वह व जयनगर आय व र ज क ष णद वर य क प त त ल व नरस न यक स म ल व वह र ज त ल व क र जप र ह त बन क ष णद वर य क र ज बनन क ब द तथ च र य त न ल
  • द र न म त य ह गय थ वह अपन प त र क स थ रहत थ धनन जय सम र ट क ष णद वर य स शत र त करत थ ज स द न व जयनगर स म र ज य म क ल म प ज ह रह
  • मन च र य व जयनगर क र ज क ष णद वर य क र जप र ह त तथ च र य क द श ष य म स एक थ धन च र य तथ च र य क द सर श ष य थ मन च र य धन च र य क छ ट
  • धन च र य व जयनगर क र ज क ष णद वर य क र ज - प र ह त तथ च र य क द श ष य म स एक थ मन च र य तथ च र य क द सर श ष य थ धन च र य मन च र य क बड
  • त म म रस व जयनगर क र ज क ष णद वर य क मह - म त र थ वह त न ल र म क हम श स थ द त थ प र दरब र म त म म रस व त न ल र म ह र जप र ह त तथ च र य
  • वर णम ल व जयनगर स म र ज य क र ज क ष णद वर य क र ज - प र ह त तथ च र य क पत न थ व य स च र य वर णम ल और तथ च र य क प त र थ
  • त र म ल द व व जयनगर स म र ज य क र ज क ष णद वर य क द सर और छ ट पत न थ त र ल म द व क प त र त र म ल मब थ त र म ल द व क द ब ट त र मलर य
  • व य स च र य व जयनगर स म र ज य क र ज क ष णद वर य क र ज - प र ह त तथ च र य क प त र थ वर णम ल व य स च र य क म त थ व य स च र य क य ग क सभ आसन
                                     
  • त र क लभक त व जयनगर क र ज क ष णद वर य क र ज - प र ह त तथ च र य क प त थ तथ न त र क लभक त क पत न थ
  • उप - न र क षक दक ष अद लत - अभ नव श ख वत यम ह हम - यमर ज त न ल र म - र ज क ष णद वर य Why celebrities are turning to Buddhism Daily News and Analysis. 20
  • भ रत म दक कन म स थ त एक शक त श ल दक ष ण भ रत य स म र ज य थ जब क ष णद वर य क छ ट भ ई व जयनगर श सक अच य त र य, ईस व म उनक ब ट व कट
  • ह आ बन रस म द क ष प र करक अपन ग हनगर व जयनगर चल गए जह इनक क ष णद वर य क स रक षण प र प त ह आ श द ध द व त दर शन, आच र य श कर क अद व तव द स
  • प प 85 87. व जयनगर स म र ज य व जयनगर क व स त श ल प कनकग र ब क क क ष णद वर य व द य रण य म द र क शहर : हम प श र न य ज आस थ और ऐत ह स क पव त रत
  • क क रण प रस द ध ह य त न ल व जयनगर स म र ज य - क र ज क ष णद वर य क दरब र क अष टद ग गज म स एक थ व जयनगर क र ज - प र ह त तथ च र य
  • ब क क र य सर वदर शनस ग रह अद व त व द न त स व म व द य रण य और मह र ज क ष णद वर य म धव च र य - क त सर वदर शनस ग रह Biography of Sages Panchadasi by Vidyaranya
  • क ल ज और व श वव द य लय ह प रम ख स स थ न और व श वव द य लय म श र क ष णद वर य व श वव द य लय, ज एनट य अन तप र, श र सत य स ई व श वव द य लय, सरक र
  • च द रब ब न यड व व एस लक ष मण ज न ल वर क क त य र जव श स तव हन र जव श क ष णद वर य त ल ग न स ल ग क स च आ ध र प रद श क ल ग क स च त ल ग व क स
  • क ज त क स थ सम प त ह आ त ल ग न व जयनगर स म र ज य - क क ष णद वर य क न त त व म स वत त रत ह स ल क बहमन सल तनत क क त ब श ह व श न
  • मह र ज अन गप ल क यह शरण ल शब न क श द मह र ज अन गप ल स ह ई क ष णद वर य क समय क स स क त क एक प र च न प स तक व शचर त वल म इसक वर णन इस
                                     
  • म श क ल समस य ओ क हल न क लन क ल य बड ह न र ल तर क अपन त ह क ष णद वर य धर म और न य य पर भर स करत ह भल ह उन ह भगव न क डर ह ल क न
  • क र यक रम स ट र उत सव और एस ट र मल श य प प रस र त ह आ त न ल र म, मह र ज क षणद वर य क दरब र क र ज व द षक यह श र खल सभ आय वर ग क ल ए स म न य मन र जन
  • र द र म म क भ जशक त मल लम म क पत भक त त म म र स क ध य क त क ष णद वर य क क र त जब तक हम र क न म ग जत रह ग हम आपक ध न बज त रह ग
  • क श : न मम ल क च क त स व ज ञ न : आय र व दसर वस व, व जयनगर क सम र ट क ष णद वर य स वय उच चक ट क व द व न और प रत भ स पन न कव थ उस आ ध र क भ ज
  • आक रमण कर द य भयभ त ह कर आद लश ह य द व क म द न स भ ग गय तथ सम र ट क ष णद वर य क व जय ह य सम र ट क ष णद व र य क इस व जय क दक ष ण भ रत क महत वप र ण
  • व ष णव स ह त य क प षक र ज क ष णद वर य
  • म र क ड श वर म द र भगव न म र क ड श वर श व क समर प त ह व जयनगर स म र ज य क क ष णद वर य न अपन पर व र क स थ इन म द र म प ज क म र कण ड श वर अत प र च न
  • व श वव द य लय, व जयव ड श र व कट श वर व श वव द य लय, त र पत श र क ष णद वर य व श वव द य लय, अन तप र श र सत य स ई व श वव द य लय, प ट टपर त र ज व

शब्दकोश

अनुवाद
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →