पिछला

ⓘ शैलेंद्रकुमार शर्मा वरिष्ठ लेखक, आलोचक, लोक संस्कृति मनीषी और सम्पादक हैं। वे आलोचना, निबंध लेखन, संस्मरण, इंटरव्यू, नाटक तथा रंगमंच समीक्षा, लोक साहित्य एवं सं ..

                                     

ⓘ शैलेंद्रकुमार शर्मा

शैलेंद्रकुमार शर्मा वरिष्ठ लेखक, आलोचक, लोक संस्कृति मनीषी और सम्पादक हैं। वे आलोचना, निबंध लेखन, संस्मरण, इंटरव्यू, नाटक तथा रंगमंच समीक्षा, लोक साहित्य एवं संस्कृति के विमर्श, राजभाषा हिन्दी एवं देवनागरी के विविध पक्षों पर लेखन और अनुसंधान कार्य में सक्रिय हैं। उन्होंने 40 से अधिक ग्रन्थों का लेखन एवं सम्पादन किया है। उन्हें देश विदेश में अनेक सम्मान और पुरस्कारों से अलंकृत किया गया है। प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा उज्जैन स्थित विक्रम विश्वविद्यालय के कुलानुशासक और हिंदी विभाग के आचार्य एवं विभागाध्यक्ष हैं।

                                     

1. प्रमुख कृतियाँ

  • मालव मनोहर, मालव लोक संस्कृति प्रतिष्ठान, उज्जैन, २०१० ई.
  • शब्दशक्ति सम्बन्धी भारतीय और पाश्चात्य अवधारणा तथा हिन्दी काव्यशास्त्र, नेशनल पब्लिशिंग हाऊस, नई दिल्ली, २००३ ई.
  • हरियाले आँचल का हरकाराः हरीश निगम, समीक्षा ग्रन्थ ऋषि मुनि प्रकाशन, उज्जैन, २००१ ई.
  • देवनागरी विमर्श, मालव नागरी लिपि अनुसंधान केन्द्र, उज्जैन २००३ ई.
  • हिन्दी भाषा संरचना सम्पा., मध्यप्रदेश हिन्दी ग्रन्थ अकादमी, भोपाल, २००८ ई.
  • मालवा का लोकनाट्‌य माच और अन्य विधाएं, लोक नाट्‌य एवं संस्कृति विमर्श अंकुर मंच, उज्जैन २००८ ई.
  • अवन्ती क्षेत्और सिंहस्थ महापर्व सम्पा. क्लैसिकी शोध संस्थान, उज्जैन २००४ ई.
  • मालव सुत पं. सूर्यनारायण व्यास, लोक मानस अकादमी, उज्जैन २००२ ई.
  • आचार्य नित्यानंद शास्त्री और रामकथा कल्पलता, समीक्षा आचार्य नित्यानंद स्मृति संस्कृत शिक्षा एवं शोध संस्थान, कोलकाता, २००६ ई.
  • मालवी भाषा और साहित्य, मध्यप्रदेश हिन्दी ग्रन्थ अकादमी, भोपाल, २०१० ई
  • सोंधवाड़ी साहित्य, संस्कृति और व्याकरण, डॉ. प्र.च. जोशी लोक संस्कृति केन्द्र, उज्जैन २००१ ई.

शब्दकोश

अनुवाद