पिछला

ⓘ मालविका सरुक्कई एक भारतीय शास्त्रीय नर्तकी और भरतनाट्यम में विशेषज्ञता वाली कोरियोग्राफर हैं। उनकी माँ का नाम सरोजा कामाक्षी सरुक्कई था। उनकी शास्त्रीय नृत्य शै ..

मालविका सरुक्कई
                                     

ⓘ मालविका सरुक्कई

मालविका सरुक्कई एक भारतीय शास्त्रीय नर्तकी और भरतनाट्यम में विशेषज्ञता वाली कोरियोग्राफर हैं। उनकी माँ का नाम सरोजा कामाक्षी सरुक्कई था। उनकी शास्त्रीय नृत्य शैली के प्रति उनके उत्साह ने उन्हें शास्त्रीय नृत्य सिखाने के लिए प्रेरित किया भरतनाट्यम सीखना शुरू किया इन्हे। भारत सरकार द्वारा संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार दिया गया, तथा भारत सरकार द्वारा 2003 में चौथे सर्वोच्च भारतीय नागरिक पद्म श्री से भी सम्मानित किया गया था। शास्त्रीय नृत्य और भारत की महत्वपूर्ण परंपरा में उत्कृष्टता को बढ़ावा देने के लिए, मालबिका ने कलाभिनी नामक एक ट्रस्ट बनाया, जिसका उद्देश्य होनहार नर्तकियों की अगली पीढ़ी की पहचान करना और उनका पोषण करना है, जो अपने अद्वितीय नृत्य प्रदर्शन की गुणवत्ता को बढ़ाने के लिए काम कर रहे हैं।

                                     

1. जीवनी

मालविका सरुक्कई का जन्म 1959 में दक्षिण भारतीय राज्य तमिलनाडु में हुआ था। उन्होंने 7 साल की उम्र में भरतनाट्यम सीखना शुरू कर दिया था और कल्याणसुंदरम पिल्लई तंजावुर स्कूल और राजारत्नम वझुवूर स्कूल में प्रशिक्षण लिया था। उन्होंने कलानिधि नारायणन के अधीन अभिनय सीखा और उन्होंने प्रसिद्ध गुरुओं, केलुचरण महापात्और रमणी रंजन जेना के तहत ओडिसी भी सीखा। उन्होंने 12 साल की कम उम्र में मुंबई में अपनी शुरुआत की और भारत सहित विदेशों में कई अन्य स्थानों पर प्रदर्शन किया" जिन में, लिंकन सेंटर फॉर द परफॉर्मिंग आर्ट्स, न्यूयॉर्क, जॉन एफ कैनेडी सेंटर फॉर द परफॉर्मिंग आर्ट्स शिकागो में। उनका जीवन और कार्य भारत सरकार द्वारा वृत्तचित्र, समरपनम के माध्यम से दर्ज किया गया है। उन्होंने नृत्य शीर्षक के तहत बीबीसी / WNET द्वारा नौ घंटे की एक टेलीविज़न वृत्तचित्र में भी भाग लिया है, द अनसीन सीक्वेंस - एक्सप्लोरिंग भरतनाट्यम थरु द आर्ट ऑफ़ मालविका सरुकाई उनकी कला पर बनागई एक और वृत्तचित्र है जिसे मुंबई के नेशनल सेंटर फॉर द परफॉर्मिंग आर्ट्स में प्रदर्शित किया गया है। ।

                                     

2. पुरस्काऔर मान्यताएँ

सरुक्कई को 2002 में भारत सरकार द्वारा संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। वह तमिलनाडु सरकार की ओर से एक कलीममणि उपाधि और अन्य पुरस्कार जैसे मृणालिनी साराभाई पुरस्कार, नृत्यचूडामणि उपाधि, संस्कृतिक पुरस्काऔर हरिदास सम्मान पुरस्कार भी प्राप्त कर चुकी हैं। भारत सरकार ने उन्हें 2003 में पद्म श्री के नागरिक पुरस्कार से सम्मानित किया।

यह भी देखें

शब्दकोश

अनुवाद