पिछला

ⓘ अस्तित्व. जीवन के अस्तित्व जीवन का उद्देश्य है बस रोटी बनावट या मकान नहीं है । लेकिन अपने जन्म के उद्देश्य को पता करने के लिए इसका मतलब है अपने अस्तित्व को दबाय ..


                                     

ⓘ अस्तित्व

जीवन के अस्तित्व

जीवन का उद्देश्य है बस रोटी बनावट या मकान नहीं है । लेकिन अपने जन्म के उद्देश्य को पता करने के लिए इसका मतलब है अपने अस्तित्व को दबाया नहीं है.

एक व्यक्ति के जीवन का उद्देश्य और अस्तित्व के लिए कहा और नहीं कहा कि व्यक्ति के कर्म का एक रूप है. और इन बातों के और अधिक विवरण के लिए मानव जीवन है कि सोच - Vicariate पर एक नजर डालना आवश्यक है.

जीव के जन्म और मृत्यु के बीच के अंतर को अविवाहित जीवन पते. लेकिन जीव का जन्म क्यों होता है? या कोई अपने स्टैंड के लिए होता है? क्या प्रयोजन है? इन सवालों के जवाब के लिए आत्मा के कर्मो पर आधारित है, जो प्रकृति के देश के अंतर्गत है. और जो इन में से कई जवाब की व्याख्या करने के लिए, इस ब्रह्मांड में जीवन के अस्तित्व को समझ पाया.

के रूप में हिस्सा है तो वह है "चेतना" है, जो जीवन के सभी कार्यों का साक्षी होता है. आप और हम समझ है कि, और मिल गया "मैं" का विस्तार किया जा करने के लिए एक ही चेतना का विस्तार है और जो चेतना का विस्ताकर रहे हैं, वे सही दिशा में, जीवन के लक्ष्य,उद्देश्य या अस्तित्व के लिए जीवन ले लिया.

चेतना है कि अनुभूति होती है, मस्तिष्क है, जो फोन में मोबाइल फोनों के लिए आवेगों से उत्पन्न होती है जो विज्ञान कहते हैं ।

मुंह शास्त्रों और वेदों के अनुसार चेतना है कि शक्ति है जो पूरे ब्रह्मांड में व्याप्त परम शक्ति है । सृष्टि बनी हर चीज चाहे panchamahabhoota, आकाश में, जीव,पशु, जल, पृथ्वी, मनुष्य, प्राणी,अंतरिक्ष, भगोड़ा ग्रह हर एक बात, प्रकृति से जुड़ा हुआ एक ही मूल्य है, साँप चेतना है । इसी चेतना के कारण, पृथ्वी, और पानी के नीचे सभी मनुष्य, प्राणी, जलीय, हम,जंतु आदि । सभी जीवित हैं और है कि जीवन के प्रति सचेत अभिव्यक्ति, रहते ही चेतना है ।

"बिना चेतना का अस्तित्व संभव नहीं है, जो कोई कल्पना नहीं है".

धोखा दे आदमी है कि वे कामना की है जो आदमी को जीवित रखती है अपने पीतल के होते हैं ईमानदारी से बातें या शारीरिक पर्यावरण कि ज्ञान प्रदान करता है एक ही ज्ञान गुण या अंधापन का कहना है.

अगर तुम समुद्र तट की तरह तो आप में गेट के आप जिंदा है, जीवन महसूस करने के लिए ही किया गया है. मनुष्य Keele से उत्पन्न किया गया घर प्रेरणा के कारण ही किसी भी काम हो सकता है.

हम इस शरीर के साथ अपने लगता है का फैसला किया है इस तरह के रूप में "मैं और तुम" में है. हो सकता है चेतना एक ही है, वह अलग नहीं है शरीर से, के बराबर नहीं है, हम इन के द्वारा देखा गया था जो हम इस शरीर को अपनी पहचान स्थापित कर रहे हैं. यदि शरीर में उस जगह अपनी पहचान चेतना के विस्तार का प्रस्ताव होगा तो एक "मैं" और "हम" का अंतर कम हो गया था आप, हम और हम में तुम ही नज़र आते हैं. आईसीसी सोच का विस्तार हो सकता है इसका मतलब है चेतना का विकास हो.

ये वही पुरुषों की गई है, जो हर समारोह है कि गवाह है, जो पृथ्वी का भुगतान सभी प्राणी, पशु पुतिन, आदमी श्रेष्ठता प्रदान करती है, प्रकृति से मिले मानव मस्तिष्क द्वारा उस शक्ति के रूप में एक ही शक्ति है जो चेतना के आधापर उनकी कल्पनाशीलता दूरदर्शिता, Vitale, मूल्यांकन, संवेदना आदि । और यही चेतना है जो मानव के तहत करने के लिए की जरूरत है क्या अस्तित्व का प्रस्ताव रखा है.

                                     
  • अस त त व 2000 म बन ह न द भ ष क फ ल म ह तब - अद त प ड त सच न ख ड कर म हन श बहल स म त जयकर - म घन नम रत श र डकर - र वत अस त त व इ टरन ट म व
  • शक त - अस त त व क एहस स क एक भ रत य ह न द ध र व ह क ह ज सक न र म ण और ल खन क क र य रश म शर म न क य ह यह श 30 मई 2016 स कलर स पर हर स मव र
  • अस त त व - एक प र म कह न ह न द भ ष म बन भ रत य ध र व ह क ह ज सक प रस रण ज ट व पर 17 नवम बर 2002 स 13 जनवर 2006 तक ह आ थ यह कह न स मरन
  • स ह स फ ह ज त ह क इसक सम बन ध जगत स ह इस प रम ण म जगत क अस त त व क आध र पर इश व र क सत त प रम ण त क ज त ह इस य क त क त न भ द
  • स प थक अस त त व ह त ह ज स प रक र स झ द र म स झ द र फर म एव स झ द र क अस त त व एक ह म न ज त ह उस प रक र कम पन क अस त त व उसक सदस य
  • क ष त र च र ल क सभ न र व चन क ष त र क अन तरगत आत ह यह पर 1952 म अस त त व म आय यह 1962 तक त न व ध नसभ च न व ह ए इसक ब द र जन त क क रण
  • स ह न 15 अगस त 2011 क 9 और नए ज ल क घ षण क ज 1 जनवर 2012 स अस त त व म आ गए क ड ग व छत त सगढ छत त सगढ क ज ल Inde du Nord - Madhya
  • म ख य लय स रजप र ह 15 अगस त 2011क रमन स ह न इस एक ज ल क र प घ षण क य अस त त व म 1 जनवर 2012 म आय ल क र पण 19 जनवर 2012 क ह आ स रजप र छत त सगढ
  • ह यह ज ल 3 ज ल ई 1994 क स थ प त क य गय थ एक नए ज ल क र प म अस त त व म आन स पहल लख सर य म ग र ज ल म एक उप - ख ड थ म ख य भ ष - मगह
  • ह I ल ग थ र प न इस अस त त व क ठ क न म द य ह I अस त त व शब द क त न तर क स उपय ग म ड ल ज सकत ह I अस त त व ज अपन आप म अर थ ह
  • सभ क र य ओ क स क ष ह त ह व ज ञ न क द ष ट क ण स ज वन क त त पर य अस त त व क उस अवस थ स ह ज सम वस त य प र ण क अन दर च ष ट उन नत और व द ध
  • म ग ल ह म ग ल ज ल ब ल सप र ज ल स अलग ह कर जनवर म अस त त व म आय इस नय ज ल क गठन म ग ल पथर य और ल रम तहस ल क म ल कर
                                     
  • प रत य क व च रध र स ऊपर व यक त क अपन अस त त व ह त ह क स भ पर स थ त म प रत य क व यक त अपन अस त त व पर न र णय ल न म स वत त र ह न च ह ए यह
  • प रय स ह प रथम द सत य क अन स र, यह स वय स द ध ह क ज व और अज व क अस त त व ह त सर सत य ह क द पद र थ ज व और अज व क म ल स ज य ग कहल त
  • वर तम न व ध यक व ध न सभ सदस य ज र र म क म वत ह इस व ध नसभ क ष त र क अस त त व स ह र जस थ न र ज य व ध नसभ च न व, 2008 प ल ल क सभ न र व चन क ष त र
  • ज स वस त क अस त त व क ज ञ न नह ह रह ह उसक ज ञ न क स ऐस वस त क प रत यक ष ज ञ न क आध र पर, ज उस अप रत यक ष वस त क अस त त व क स क त इस
  • बत ई गय ह ज सभ द व म प रथम ह और ज नक उत पत त सर वप रथम क गय उन ह आद द व कह गय उनक ब न अन य द वत ओ क क ई अस त त व ह नह ह त
  • जन क त एक ऑनल इन व ब पत र क ह अगस त 2009 म जन क त व ब म ड य अस त त व म आय और न र तर ज र ह इसक प रध न स प दक : जयर म व प लव तथ तकन क
  • भ आग ज कर कभ - कभ शब द न म उपम ओ र पक आद म भ आत म क अस त त व क ब त कह ज त ह सर व त मव द क दर शन म ख यतय आद व स सम ज म प य
  • च क स ल व क य मध य य र प म स थ त एक द श ह आ करत थ ज अक ट बर स तक अस त त व म रह द व त य व श वय द ध क द र न स क एक अ तर ल म इसक
  • ह य न ज कभ नष ट नह ह ग ज न दर शन क अन स र ब रह म ड हम श स अस त त व म ह और हम श रह ग यह ब रह म ड प र क त क क न न द व र न य त र त
  • सप त वर ष य य द ध म क थ ब र ट श द र ग य द ध ब द ह न तक क स तरह अस त त व बन य रह ब र ट श स न ओ न 26, 554 त प क ग ल छ ड और ल ख स अध क
  • करन व ल ईशवर क अस त त व क नह म नत स ख य दर शन म ईश वर क क ई स थ न नह द य ह इसम प रक त और प र ष क द व त अस त त व क ब त कह गय
  • ग द वर नद क न म स ह ई म न ज त ह ग द र ज ट श व व श क श ख ह इनक अस त त व ईसव प र व भ व धम न थ भ म स ह दह य Jats, the ancient rulers: a clan

शब्दकोश

अनुवाद
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →