पिछला

ⓘ पिठौरा पर्व भील,भिलाला तथा राठवा जनजाति में मनाया जाता हैं। यह समाज का सबसे बड़ा त्यौहार होता हैं जो लगभग 15-20 वर्षो में एक बार मनाया जाता हैं। पिठौरा पर्व पर ..

                                     

ⓘ पिठौरा

पिठौरा पर्व भील,भिलाला तथा राठवा जनजाति में मनाया जाता हैं। यह समाज का सबसे बड़ा त्यौहार होता हैं जो लगभग 15-20 वर्षो में एक बार मनाया जाता हैं। पिठौरा पर्व पर एक परिवार मेले का आयोजन करता हैं जिसमे उसके नाती-रिश्तेदार अपने गाँव के लोगों के साथ बकरा तथा ढोल लेकर आते हैं और पिठौरा मेले में बलि देते हैं । चूंकि सभी नाती-रिश्तेदार के गाँव के लोग भी इस उत्सव में शामिल होते है तो यह पर्व एक मेले का ही रूप ले लेता हैं। पिठौरा घर की सुख,शांति और समृद्धि के लिए आयोजित किया जाता हैं। पिठौरा पर्व पर ही पिथोरा चित्रकला भी दिवापर बनायी जाती है जिसमे आदिवासी देवी देवताओं के चित्र अकिंत किये जाते हैं जिसमे राणी काजल,इंदि राजा, पीठी राजा आदि प्रमुख हैं

                                     
  • क ई क म भ नह कर य ज त ह और घर म मह ल ए व य जन बन त ह प ल - प ठ र म लत: ख त - क स न स ज ड त य ह र ह भ द रपद क ष ण अम वस य क यह पर व
                                     
  • प थ र च त रकल एक प रक र क च त रकल ह ज भ ल जनज त क सबस बड त य ह र प ठ र पर घर क द व र पर बन य ज त ह मध य प रद श क प थ र क ष त र म इस कल

शब्दकोश

अनुवाद