पिछला

ⓘ ईहाम. फारसी, कुर्द और अरबी कविता में ईहाम एक तरह का अलंकार होता है, जिसमें एक लेखक का एक शब्द कई मायनों में समझा जा सकता है। प्रत्येक अर्थ तार्किक रूप से सही हो ..

ईहाम
                                     

ⓘ ईहाम

फारसी, कुर्द और अरबी कविता में ईहाम एक तरह का अलंकार होता है, जिसमें एक लेखक का एक शब्द कई मायनों में समझा जा सकता है। प्रत्येक अर्थ तार्किक रूप से सही होने के साथ समान रूप से सच और जान-बूझकर प्रयुक्त हुआ हो सकता है।

                                     

1. परिभाषाएं

12 वीं शताब्दी में, रशीद अल-दीन वतवत ने ईहाम को इस प्रकार परिभाषित किया है: फारसी में ईहाम का मतलब शक़ पैदा करना होता है। यह एक साहित्यिक उपकरण है, जिसे तख़यील भी कहा जाता है, जिससे लेखक दबीर, गद्य में, या कवि, पद्य में, एक शब्द को दो अलग-अलग अर्थों के साथ नियोजित करता है। इनमें से एक अर्थ प्रत्यक्ष और तत्काल समझ में आने वालाक़रीब और दूसरा दूरस्थ और अजीब लगने वालाग़रीब होता है। यह इस तरह से होता है कि श्रोता, जैसे ही वह शब्द सुनता है, वह उसके प्रत्यक्ष अर्थ के बारे में सोचता है, जबकि वास्तविकता में लेखक का इरादा दूरस्थ अर्थ देने का होता है।"

अमीर खुसरो 1253–1325 CE ने यह धारणा शुरू की जिसमें एक शब्द, या वाक्यांश के कई अर्थों में से कोई भी बहुस्तरीय पाठ बनाने के लिए समान रूप से सही और इच्छित हो सकता है। अर्थों को ढूंढ़ते हुए परत-दर-परत शब्द की गहराई में जाना पाठक के लिए एक चुनौती होगी, जिसे ध्यान लगाते हुए वैकल्पिक अर्थों को देखने के लिए अपनी बुद्धि और कल्पना को लागू करना है।

ईहाम से जुड़ा एक अन्य विचार यह है कि एक कविता पाठक की स्थिति के दर्पण के रूप में कार्य कर सकती है, जैसा कि 14 वीं शताब्दी के लेखक शेख़ मनेरी ने व्यक्त किया था: "एक कविता अपने आप में कोई निश्चित अर्थ नहीं रखती है। यह तो पाठक / श्रोता है जो अपने मन की व्यक्तिपरक स्थिति के अनुरूप विचार करता है। 15 वीं शताब्दी के कवि फ़हर-ए-दीन निज़ामी ने ईहाम को किसी भी अच्छी कविता का एक अनिवार्य तत्व माना: "एक कविता जिसमें दोहरे अर्थ वाले शब्द नहीं होते हैं, ऐसी कविता किसी को भी आकर्षित नहीं करती है।"

शब्दकोश

अनुवाद