पिछला

ⓘ रोमक सिद्धांत वराह मिहिर की पंचसिद्धांतिका में वर्णित पाँच सिद्धांतों में से एक है। रोमक सिद्धान्त बीजान्टिन रोम की खगोलीय विद्या पर आधारित है। ..

                                     

ⓘ रोमक सिद्धांत

रोमक सिद्धांत वराह मिहिर की पंचसिद्धांतिका में वर्णित पाँच सिद्धांतों में से एक है। रोमक सिद्धान्त बीजान्टिन रोम की खगोलीय विद्या पर आधारित है।

                                     

1. सामग्री

यह हमारे युग की पहली शताब्दियों के दौरान भारत को पश्चिमी खगोलीय ज्ञान विशेषकर अलेक्जेंड्रियन स्कूल के प्रसारण के उदाहरण के रूप में यवनजतका "यूनानी/ग्रीक लोगों के कथन" का अनुसरण करता है।

रोमक सिद्धांत का भारतीय खगोलशास्त्री वराहमिहिर के काम पर विशेष रूप से प्रभाव पड़ा था। इसे 5वीं शताब्दी में भारत में "पाँच खगोलीय ग्रंथों" में से एक के रूप में माना जाता था।

                                     

2. संदर्भ

  • सरमा, नटराज 2000, "डिफ्यूजन ऑफ एस्ट्रोनॉमी इन द एंशिएंट वर्ल्ड", एंडेवर, 24 2000: 157-164।
  • McEvilley, Thomas November 2001. The Shape of Ancient Thought: Comparative Studies in Greek and Indian Philosophies. Allworth Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-58115-203-6. McEvilley, Thomas November 2001. The Shape of Ancient Thought: Comparative Studies in Greek and Indian Philosophies. Allworth Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-58115-203-6. McEvilley, Thomas November 2001. The Shape of Ancient Thought: Comparative Studies in Greek and Indian Philosophies. Allworth Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-58115-203-6.
                                     
  • ग र थ म स एक क र प म म न ज त थ भ रत - य न न य स क दर मह न र मक स द ध न त McEvilley, Thomas November 2001 The Shape of Ancient Thought: Comparative
  • प त म ह स द ध न त ज क परम पर गत व द ग ज य त ष स अध क सम न ह प ल ष स द ध न त र मक स द ध न त ज य न न खग लश स त र क सम न ह और वश ष ठ स द ध न त स र य
  • न मक ट क म इनक व ध क उल ल ख ह प ल स स द ध न त - - प त मह स द ध न त - - र मक स द ध न त - - स द ध न त श र मण - - भ स कर द व त य ग रहगण त - - भ स कर
  • क वल रक तव ह न य क ज ल ह त ह और अग र त ह ई, अप क ष क त स थ ल भ ग, ज स र मक प ड स ल यर ब ड कहत ह यह व त त क र प ड आग क और आइर स य पर त र क
                                     
  • र मक - - व स ष ठ, - स र, एव - प त मह इन प च म स र य स द ध न त क गण त स पष टतर सव त स स क ष म कह ह तद पर क आचय न स र स द ध न त क
  • बर हम ह र शक स o 427 द व र स प द त स द ध तप च क ह ज सम प त मह, व स ष ठ, र मक प ल श तथ स र यस द ध त क स ग रह ह इसस यह त पत चलत ह क बर हम ह र
  • नए ज य त ष य स द ध त : ग रह - गत क उत क न द र व अध क न द र क व यवस थ र श चक र प र च न प चस द ध न त : प त म ह, वश ष ठ, प ल श, र मक व स र आय र व द :

शब्दकोश

अनुवाद