पिछला

ⓘ भारत का इतिहास लेखन. भारत के इतिहास लेखन में भारत के इतिहास को विकसित करने के लिए विद्वानों द्वारा अध्ययन, स्रोतों, महत्वपूर्ण विधियों और व्याख्याओं का उल्लेख क ..

                                               

बुद्धिवर्धक सभा

बुद्धिवर्धक सभा या बुद्धिवर्धक हिन्दू सभा मुम्बई में ब्रिटिश काल में बनी सामा...

भारत का इतिहास लेखन
                                     

ⓘ भारत का इतिहास लेखन

भारत के इतिहास लेखन में भारत के इतिहास को विकसित करने के लिए विद्वानों द्वारा अध्ययन, स्रोतों, महत्वपूर्ण विधियों और व्याख्याओं का उल्लेख किया जाता है।

हाल के दशकों में इतिहास लेखन के चार मुख्य स्कूलों दर्ज किगए हैं- कैम्ब्रिज, राष्ट्रवादी, मार्क्सवादी, और सबॉल्टर्न। इससे यह समझने की कोशिश की जाती है कि फ़लाँ इतिहासकार भारत का अध्ययन करते समय कौनसी बातों को अहमियत देता है। "ओरिएंटलिस्ट" दृष्टिकोण, जो एक समय पर काफ़ी अधिक प्रचलित था, भारत को एक अबूझ और पूर्ण रूप से आध्यात्मिक देश के तौपर देखा करता था। आज के समय में इस दृष्टिकोण को इतिहासकार गम्भीरता से नहीं लेते हैं।

कैम्ब्रिज स्कूल ", जिसका नेतृत्व अनिल सील, गॉर्डन जॉनसन, रिचर्ड गॉर्डन, और डेविड ए॰ वाशब्रुक करते हैं विचारधारा पर काम ज़ोर डालता है। यह अंग्रेज़ शासकों के नज़रिए से इतिहास बताता है। इसमें अक्सर भारतीयों के भ्रष्टाचाऔर अंग्रेज़ों के आधुनिकीकरण संबंधी कार्यों को बढ़ा-चढ़ा कर बताया जाता है। इसलिए, इतिहास लेखन के इस स्कूल की पश्चिमी पूर्वाग्रह या यूरोसेंट्रिज़्म के लिए आलोचना की जाती है।

राष्ट्रवादी स्कूल कांग्रेस, गांधी, नेहरू और उच्च स्तरीय राजनीति पर ध्यान केंद्रित करता है। इसने १८५७ के विद्रोह को मुक्ति के युद्ध के रूप में देखा, और गांधी की भारत छोड़ो आन्दोलन 1942 में ऐतिहासिक घटनाओं को परिभाषित करने के रूप में इसकी शुरूआत हुई। इतिहास लेखन के इस स्कूल को एलिटिज़्म के लिए आलोचना मिली है।

मार्क्सवादियों ने आर्थिक विकास, भूस्वामित्व और औपनिवेशिक काल में भारत के वर्ग संघर्ष और औपनिवेशिक काल के दौरान विखंडन पर ध्यान केंद्रित किया है। मार्क्सवादियों ने गांधी के आंदोलन को बूर्जुआ अभिजात्य वर्ग के एक उपकरण के रूप में देखा, जिससे उसने संभावित रूप से क्रांतिकारी ताकतों का अपने स्वयं के हित के लिए प्रयोग किया। मार्क्सवादियों पर अपनी विचारधारा से बहुत अधिक "प्रभावित" होने का आरोप लगाया जाता है।

सबॉल्टर्न स्कूल ", 1980 में रणजीत गुहा और ज्ञान प्रकाश द्वारा शुरू किया गया था। यह लोककथाओं, कविता, पहेलियों, कहावतों, गीतों, मौखिक इतिहास और मानवशास्त्र से प्रेरित तरीकों का उपयोग करते हुए किसानों और राजनेताओं से "नीचे से" इतिहास दिखाने पर ध्यान केंद्रित करता है। यह 1947 से पहले औपनिवेशिक युग पर केंद्रित है और आम तौपर वर्ग से अधिक जाति पर ज़ोर देता है, जिससे मार्क्सवादी स्कूल को झुंझलाहट होती है।

अभी हाल ही में, हिंदू राष्ट्रवादियों ने भारतीय समाज में हिंदुत्व" का समर्थन करने के लिए इतिहास का एक संस्करण बनाया है। यह विचारधारा अभी भी विकास की प्रक्रिया में है। मार्च 2012 में, हार्वर्ड विश्वविद्यालय में तुलनात्मक धर्म और भारतीय अध्ययन के प्रोफेसर डायना एल॰ एक ने अपनी पुस्तक इंडिया: ए सैक्रेड जियोग्राफी में लिखा है, कि "भारत" का विचार अंग्रेजों या मुगलों और इससे बहुत पहले का है। यह सिर्फ क्षेत्रीय चिन्हों और पहचानों का एक समूह नहीं था और न ही यह जातीय या नस्लीय था।

                                     

1. आगे की पढ़ाई

  • विश्वनाथन, जी। 2015। विजय के मुखौटे: भारत में साहित्य अध्ययन और ब्रिटिश शासन।
  • इंडियन हिस्ट्री एंड कल्चर सोसायटी, देवहुति, डी। 2012। भारतीय इतिहासलेखन में पूर्वाग्रह।
  • वीकेजेनट, टीएन 2009। सलमान रुश्दी और भारतीय इतिहास लेखन: देश को अस्तित्व में लिखना। बेसिंगस्टोक: पालग्रेव मैकमिलन।
  • बोस, मिहिर। "इंडियाज़ मिसिंग हिस्टोरियंस: मिहिर बोस ने पैराडॉक्स दैट इंडिया, ए लैंड ऑफ़ हिस्ट्री, हिस्ट्री ऑफ़ अ सप्रिनिंगली वीक ट्रेडिशन ऑफ हिस्टोरियोग्राफी", हिस्ट्री टुडे 57 # 9 2007 पीपी 34+। ऑनलाइन
  • Rosser, Yvette Claire 2003. Curriculum as Destiny: Forging National Identity in India, Pakistan, and Bangladesh PDF Dissertation. University of Texas at Austin. मूल PDF से 2008-09-11 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2018-09-17.
  • आरसी मजूमदार, मॉडेम इंडिया में इतिहास बॉम्बे, 1970
  • Bannerjee, Dr. Gauranganath 1921. India as known to the ancient world. Humphrey Milford, Oxford University Press, London.
  • मित्तल, एस। सी। इंडिया विकृत: 19 वीं शताब्दी के लेखकों पर ब्रिटिश इतिहासकारों का एक अध्ययन 1995
  • कहन, यास्मीन। "याद करना और भूल जाना: मार्टिन गेगनर और बार्ट ज़िनो, एड्स। दक्षिण एशिया और द्वितीय विश्व युद्ध, द हेरिटेज ऑफ़ वार रूटलेज, 2011 पीपी 177-193।
  • वार्डर, एके, भारतीय इतिहासलेखन 1972 से परिचय ।
  • विश्व अद्लूरी, जॉयदीप बागचे: द नय साइंस: ए हिस्ट्री ऑफ़ जर्मन इंडोलॉजी । ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस, न्यूयॉर्क 2014, परिचय, पी। 1-29।
  • जैन, एम। द इंडिया वे सॉ: विदेशी खाते 4 खंड दिल्ली: महासागर पुस्तकें, 2011।
  • अरविंद शर्मा, हिंदू धर्म और इतिहास की अपनी भावना ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस, 2003
  • विंक्स, रॉबिन, एड। द ऑक्सफ़ोर्ड हिस्ट्री ऑफ़ द ब्रिटिश एम्पायर: वॉल्यूम V: हिस्टोरियोग्राफी 2001
  • मंटेना, आर। 2016। भारत में आधुनिक इतिहासलेखन की उत्पत्ति: पुरातनपंथीवाद और दार्शनिक 1780-1880। पालग्रेव मैकमिलन।
  • एंटोनियो डी निकोलस, कृष्णन रामास्वामी, और अदिति बनर्जी सं। 2007, द सेकेंडिंग द सेक्रेड: एन एनालिसिस ऑफ़ हिंदूइज़ स्टडीज़ इन अमेरिका प्रकाशक: रूपा एंड कंपनी)
  • Trautmann, Thomas R. 1997. Aryans and British India. Berkeley: University of California Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-585-10445-4. Trautmann, Thomas R. 1997. Aryans and British India. Berkeley: University of California Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-585-10445-4. Trautmann, Thomas R. 1997. Aryans and British India. Berkeley: University of California Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-585-10445-4.
  • इंडेन, आरबी 2010। भारत की कल्पना करना। ब्लूमिंगटन, इंडस्ट्रीज़: इंडियाना यूनिवर्सिटी प्रेस।
  • पालित, चित्ताब्रत, इंडियन हिस्टोरियोग्राफी 2008।
  • ई। श्रीधरन, ए टेक्स्टबुक ऑफ हिस्टोरियोग्राफी, 500 ई.पू. से 2000 ई। 2004
  • चक्रवर्ती, दिलीप के।: औपनिवेशिक विज्ञान, 1997, मुंशीराम मनोहरलाल: नई दिल्ली।
  • इलियट, हेनरी मियर्स; जॉन डॉसन 1867-77। भारत का इतिहास, जैसा कि उसके अपने इतिहासकारों ने बताया है। मुहम्मदन काल । लंदन: ट्रबनर एंड कंपनी
  • बालगंगाधर, एसएन 2012। भारत के अध्ययनों को फिर से समझना। नई दिल्ली: ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस।
  • भट्टाचार्जी, जेबी हिस्टोरियंस एंड हिस्टोरियोग्राफी ऑफ़ नॉर्थ ईस्ट इंडिया 2012
  • शौरी, अरुण 2014। प्रख्यात इतिहासकार: उनकी तकनीक, उनकी लाइन, उनकी धोखाधड़ी। नोएडा, उत्तर प्रदेश, भारत: हार्पर कॉलिन्स पब्लिशर्स। आईएसबीएन 9789351365914
                                     
  • म र क सव द इत ह स - ल खन अ ग र ज Marxist historiography य historical materialist historiography क त त पर य म र क सव द व च रध र स प रभ व त इत ह स - ल खन स
  • न त 1789 1914 1988 p 1 इत ह स ल खन ह स ट ग र फ भ रत क इत ह स इत ह स क इत ह स क भ रत य द ष ट ह दयन र यन द क ष त इत ह स दर शन ग गल प स तक  ल खक
  • स मग र इत ह सक र इत ह सश स त र क अध ययन व षयव र करत ह ज स - भ रत क इत ह स ज प न स म र ज य क इत ह स आद इत ह स क म ख य आध र य गव श ष और घटन स थल
  • इत ह स ल खक क शत ध क न म ग न य ज सकत ह ह न द स ह त य क इत ह स क शब दबद ध करन क प रश न अध क महत वप र ण थ ह न द स ह त य क इत ह स - ल खन
  • ह न द भ ष क इत ह स लगभग एक हज र वर ष प र न म न गय ह स म न यत प र क त क अन त म अपभ र श अवस थ स ह ह न द स ह त य क आव र भ व स व क र क य ज त
  • प र र भ क ल खन क इत ह स क ब च व द व न एक अ तर म नत ह परन त इस ब त पर सहमत नह ह क कब प र ग त ह स इत ह स बन ज त ह और कब आध य - ल खन सच च ल खन बन
  • उच च स तर य स ह त य व ल खन क बढ व द न व ल प त ह त ह ई ह न द व ध ओ क ज व त रखन ह पत र क क प ष ठभ म और इत ह स भ रत - दर शन क पहल म द र त अ क स त बर
  • नगर क य गय ग न इत ह स त र थ - क ष त र क इत ह स - ल खन 1857 क स व तन त र य मह समर पर प र म ण क इत ह स - ल खन जनज त य इत ह स - ल खन भ रत य - स स क त क व श व - स च र
  • उन ह न क र य क य र म ल थ पर क ल खन क र य म ख यत प र च न भ रत क इत ह स पर क न द र त रह ह उन ह न भ रत क प र च न इत ह स क एक नय द ष ट स द ख ह
  • आन ध र प रद श भ रत क र ज य म स एक ह ज सक इत ह स व द क क ल स श र ह त ह इसक उल ल ख स स क त क मह क व य ज स ऐतर य ब र ह मण ईस
                                     
  • ह ज न ह न प र च न क ल म अपन स वत त र ल खन पद धत क व क स क य अन य सभ यत ओ क न म ह - प र च न भ रत स ध घ ट सभ यत म स प ट म य म स र और
  • इ ड न श य म ल खन क पहल र प प श क य ज ब द म ब ल और ज व म उपय ग क ज न व ल ल खन ल प य म व कस त ह आ इडल दक ष ण भ रत क एक ड श ह ज सपर
  • ह न द स ह त य क इत ह स अत य त व स त त व प र च न ह स प रस द ध भ ष व ज ञ न क ड हरद व ब हर क शब द म ह न द स ह त य क इत ह स वस त त व द क क ल
  • प स तक क ल ए द ख तम ल स ह त य क इत ह स प स तक तम ल भ ष क स ह त य अत यन त प र न ह भ रत म स स क त क अल व तम ल क स ह त य ह सबस प र च न स ह त य
  • प ज ब शब द क सबस पहल उल ल ख इब न - बत त क ल खन म म लत ह ज सन 14व शत ब द म इस क ष त र क य त र क थ इस शब द क 16व शत ब द क उत तर र ध
  • ड प ड र ग व मन क ण क भ रत सरक र द व र सर व च च न गर क सम म न भ रतरत न स सम म न त क य गय अ त म भ ग प चम ख ड क ल खन 1965 म प र ह आ यह मह ग र थ
  • ह र चन द ओझ भ रत क प रस द ध इत ह सक र थ उन ह न र जप त न क इत ह स क ल खन क ल य व स त त ठ सप र ण प ठ क बन कर एक अग रद त क भ त इत ह स क प रणयन
  • अगस त आध न क भ रत क इत ह स क इत ह सक र थ प र फ सर ब प न चन द र भ रत क स वत त रत स घर ष और आध न क इत ह स ल खन पर पर म म र क सव द च तन
  • क य ह सत य न द र श र व स तव क ल खन क एक व श षत यह भ ह क उनक ल खन क वल न स ट लज क स ह त य नह ह व क वल भ रत क स थ भ वन त मक र श त क ह नह
  • ब ज - ल खन य क ट - ल खन क र प ट ग र फ य क र प ट ल ज यह क स छ प ह ई स चन information क अध ययन करन क प रक र य ह आध न क समय म ब ज - ल खन क
                                     
  • इसक ब द बम बई म फ ल म कथ ल खन तथ द न क नवज वन क स प दन आक शव ण क कई क न द र म क र य स स वत त र ल खन च त रल ख उपन य स पर द ब र
  • 15 ह छत त सगढ भ रत म सबस त ज स व कस त र ज य म स एक ह छत त सगढ प र च नक ल क दक ष ण क शल क एक ह स स ह और इसक इत ह स प र ण क क ल तक प छ
  • द र न र तर ल खन म व यस त रहत ह उनक पहल उपन य स द श ए बदल गई क व म चन भ रत क र जध न द ल ल म क य गय आध न क ह द गद य क इत ह स आध न क ह द
  • सम जश स त र क अध ययन ब द म ह न द ग जर त मर ठ ब गल अ ग र ज पर अध क र पहल न कर फ र स वत त र ल खन फ ल म ल खन क ख स क म क य चकल लस क स प दन
  • क व भ न न ब ल य क स ह त य आज भ ल कप र य ह और आज भ अन क कव और ल खक अपन ल खन अपन - अपन क ष त र य भ ष ओ म करत ह इत ह स ग रन थ 1.ग र स - द - त स
  • व क स म इस य ग क व श ष महत त व ह प र मच द र श क ल 1884 - 1941 न न ब ध, ह न द स ह त य क इत ह स और सम ल चन क क ष त र म ग भ र ल खन क य उन ह न
  • क इत ह स रस यन व ज ञ न क इत ह स प र च न भ रत य व ज ञ न तथ प र द य ग क भ रत य क लगणन प र द य ग क क इत ह स भ रत य गण त रस यन श स त र क इत ह स प र च न
  • ल खकद वय - प ष प भ रत धर मव र भ रत ल खन पर प ब द न म ज र थ धर मव र भ रत क प रभ स क ष आर य जगत क स प रस द घ व द व न ड धर मव र क लघ ज वनचर त
  • रह ह उनक ल खन क श ल सबस अलग और प र तरह न ज थ न र मल वर म क भ रत म स ह त य क श र ष सम म न ज ञ नप ठ म द य गय र त क र प र टर
  • पर त द न क ल खन म स स बद धत पर य प त म त र म व द यम न ह न हर ज स वभ व स ह स व ध य य थ उन ह न मह न ग र थ क अध ययन क य थ सभ

शब्दकोश

अनुवाद