पिछला

ⓘ 1899–1900 का भारतीय अकाल. 1899-1900 का भारतीय अकाल पश्चिमी और मध्य भारत पर 1899 में गर्मियों के मानसून की विफलता के साथ शुरू हुआ और अगले वर्ष के दौरान, इसने 476 ..

1899–1900 का भारतीय अकाल
                                     

ⓘ 1899–1900 का भारतीय अकाल

1899-1900 का भारतीय अकाल पश्चिमी और मध्य भारत पर 1899 में गर्मियों के मानसून की विफलता के साथ शुरू हुआ और अगले वर्ष के दौरान, इसने 476.000 वर्ग मील क्षेत्और 5.95 करोड़ आबादी को प्रभावित किया । अकाल मध्य प्रांत और बरार, बॉम्बे प्रेसीडेंसी, अजमेर-मेरवाड़ा के मामूली प्रांत और पंजाब के हिसार जिले में तीव्र था; इसने राजपूताना एजेंसी, सेंट्रल इंडिया एजेंसी, हैदराबाद और काठियावाड़ एजेंसी की रियासतों में भी भारी तबाही मचाई । इसके अलावा, बंगाल प्रेसीडेंसी के छोटे क्षेत्र, मद्रास प्रेसीडेंसी और उत्तर-पश्चिमी प्रांत अकाल से बुरी तरह पीड़ित थे।

कई क्षेत्रों में जनसंख्या 1896-1897 के अकाल से बमुश्किल उबर पाई थी। पिछले अकाल की तरह, इसमें भी पहले सूखा पड़ा था। भारत के मौसम विभाग ने 1900 की अपनी रिपोर्ट में कहा, "भारत की औसत वर्षा 45 इंच 1.100 मि॰मी॰ रही है। इससे पहले किसी भी अकाल वर्ष में आँकड़ा-दोष defect इससे 5 इंच 130 मि॰मी॰ से अधिक कम-ज़्यादा नहीं रहा। लेकिन 1899 में यह दोष 11 इंच से अधिक हो गया। शेष भारत में भी फसल उत्पादन में भारी कमी आई थी। परिणामस्वरूप, खाद्य कीमतों को स्थिर करने के लिए अंतर-क्षेत्रीय व्यापापर भरोसा नहीं किया जा सकता था।

परिणामस्वरूप मृत्यु दर अधिक थी। बॉम्बे प्रेसीडेंसी में 4.62.000 लोग मारे गए, और दक्कन पठार में मरने वालों की संख्या 1.66.000 थी। 1876-77 और 1918-19 के बीच बंबई प्रेसीडेंसी को प्रभावित करने वाले सभी अकालों में से इस अकाल के दौरान मृत्यु दर सबसे अधिक थी - प्रति 1000 लोगों पर 37.9 मौतें। 1908 के इम्पीरियल गजेटियर ऑफ इंडिया के अनुमान के अनुसार, अकेले ब्रिटिश प्रशासित जिलों में, लगभग 10 लाख लोग भुखमरी या बीमारी से मर गए; इसके अलावा, चारे की भारी कमी के परिणामस्वरूप, लाखों मवेशी भी मारे गए। अन्य अनुमान 10 लाख और 45 लाख मौतों के बीच आते हैं।

                                     

1. यह सभी देखें

  • भारत में अकाल
  • भारत में सूखा
  • ब्रिटिश राज में परिवार, महामारी और सार्वजनिक स्वास्थ्य
  • ब्रिटिश शासन के दौरान भारत में बड़े अकाल की समय सीमा 1765 से 1947
  • भारत में कंपनी का शासन
  • 1896-1897 का भारतीय अकाल
                                     

2.1. संदर्भ उद्धृत कार्य

  • Attwood, Donald W. 2005, "Big Is Ugly? How Large-scale Institutions Prevent Famines in Western India", World Development, 33 12, पपृ॰ 2067–2083, डीओआइ:10.1016/j.worlddev.2005.07.009
  • Fagan, Brian 2009, Floods, Famines, and Emperors: El Nino and the Fate of Civilizations, Basic Books. Pp. 368, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-465-00530-6
  • McAlpin, Michelle B. 1983, "Famines, Epidemics, and Population Growth: The Case of India", Journal of Interdisciplinary History, 14 2, पपृ॰ 351–366, डीओआइ:10.2307/203709
  • Keim, Mark E. 2015, "Extreme Weather Events: The Role of Public Health in Disaster Risk Reduction as a Means for Climate Change Adaptation", प्रकाशित George Luber; Jay Lemery संपा॰, Global Climate Change and Human Health: From Science to Practice, Wiley, पृ॰ 42, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-118-60358-1
  • Banik, Dan 2007, Starvation and India’s Democracy, Routledge, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-134-13416-8
  • Maharatna, Arup 1996, The demography of famines: an Indian historical perspective, Oxford and New York: Oxford University Press, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-19-563711-3
  • Arun Agrawal 2013, "Food Security and Sociopolitical Stability in South Asia", प्रकाशित Christopher B. Barret संपा॰, Food Security and Sociopolitical Stability, Oxford: Oxford University Press, पपृ॰ 406–427, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-19-166870-8
  • Chamberlain, Andrew T. 2006, Demography in Archaeology, Cambridge University Press, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-139-45534-3
  • Gilbert, Martin 2003, The Routledge Atlas of British History, Routledge, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-415-28147-8
  • Davis, Mike 2001, Late Victorian Holocausts, Verso Books. Pp. 400, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-85984-739-8
  • Imperial Gazetteer of India vol. III 1907, The Indian Empire, Economic, "Famines of structural adjustment in colonial India", प्रकाशित Kaminsky, Arnold P; Long, Roger D संपा॰, Nationalism and Imperialism in South and Southeast Asia: Essays Presented to Damodar R.SarDesai, Taylor & Francis, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-351-99742-3
  • Drèze, Jean 1995, "Famine prevention in India", प्रकाशित Drèze, Jean; Sen, Amartya; Hussain, Althar संपा॰, The political economy of hunger: Selected essays, Oxford: Clarendon Press. Pp. 644, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-19-828883-2
  • Hardiman, David 1996, "Usuary, Dearth and Famine in Western India", Past and Present, 152, पपृ॰ 113–156, डीओआइ:10.1093/past/152.1.113
  • Fieldhouse, David 1996, "For Richer, for Poorer?", प्रकाशित Marshall, P. J. संपा॰, The Cambridge Illustrated History of the British Empire, Cambridge: Cambridge University Press. Pp. 400, पपृ॰ 108–146, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-521-00254-0
  • Allaby, Michael 2005, India, Evans Brothers, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-237-52755-6
  • Dyson, Tim 1991a, "On the Demography of South Asian Famines: Part I", Population Studies, 45 1, पपृ॰ 5–25, JSTOR 2174991, डीओआइ:10.1080/0032472031000145056
  • Charlesworth, Neil 2002, Peasants and Imperial Rule: Agriculture and Agrarian Society in the Bombay Presidency 1850-1935, Cambridge University Press, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-521-52640-1
  • Seavoy, Ronald E. 1986, Famine in Peasant Societies, London: Greenwood Press, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-313-25130-6
  • Bouma, Menno J.; van der Kay, Hugo J. 1996, "The El Niño Southern Oscillation and the historic malaria epidemics on the Indian subcontinent and Sri Lanka: an early warning system for future epidemics", Tropical Medicine and International Health, 1 1, पपृ॰ 86–96, डीओआइ:10.1046/j.1365-3156.1996.d01-7.x
                                     

2.2. संदर्भ आगे की पढ़ाई

  • Ambirajan, S. 1976, "Malthusian Population Theory and Indian Famine Policy in the Nineteenth Century", Population Studies, 30 1, पपृ॰ 5–14, डीओआइ:10.2307/2173660
  • Klein, Ira 1984, "When the rains failed: famines, relief, and mortality in British India", Indian Economic and Social History Review, 21, पपृ॰ 185–214, डीओआइ:10.1177/001946468402100203
  • Dutt, Romesh Chunder 2005, Open Letters to Lord Curzon on Famines Land Assessments in India, London: Kegan Paul, Trench, Trubner & Co. Ltd reprinted by Adamant Media Corporation, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-4021-5115-2
  • Washbrook, David 1994, "The Commercialization of Agriculture in Colonial India: Production, Subsistence and Reproduction in the Dry South, c. 1870–1930", Modern Asian Studies, 28 1, पपृ॰ 129–164, JSTOR 312924, डीओआइ:10.1017/s0026749x00011720
  • Tomlinson, B. R. 1993, The Economy of Modern India, 1860-1970 The New Cambridge History of India, III.3, Cambridge and London: Cambridge University Press., आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-521-58939-8
  • Ghose, Ajit Kumar 1982, "Food Supply and Starvation: A Study of Famines with Reference to the Indian Subcontinent", Oxford Economic Papers, New Series, 34 2, पपृ॰ 368–389
  • Sen, A. K. 1982, Poverty and Famines: An Essay on Entitlement and Deprivation, Oxford: Clarendon Press. Pp. ix, 257, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-19-828463-2
  • Bhatia, B. M. 1991, Famines in India: A Study in Some Aspects of the Economic History of India With Special Reference to Food Problem, 1860–1990, Stosius Inc/Advent Books Division. Pp. 383, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 81-220-0211-0
  • Baker, David 1991, "State policy, the market economy, and tribal decline: The Central Provinces, 1861–1920", Indian Economic and Social History Review, 28, पपृ॰ 341–370, डीओआइ:10.1177/001946469102800401
  • McAlpin, Michelle B. 1979, "Dearth, Famine, and Risk: The Changing Impact of Crop Failures in Western India, 1870–1920", The Journal of Economic History, 39 1, पपृ॰ 143–157, JSTOR 2118916, डीओआइ:10.1017/S0022050700096352
  • Dyson, Tim 1991b, "On the Demography of South Asian Famines: Part II", Population Studies, 45 2, पपृ॰ 279–297, JSTOR 2174784, PMID 11622922, डीओआइ:10.1080/0032472031000145446
  • Klein, Ira 1973, "Death in India, 1871-1921", The Journal of Asian Studies, 32 4, पपृ॰ 639–659, JSTOR 2052814, डीओआइ:10.2307/2052814
  • Hill, Christopher V. 1991, "Philosophy and Reality in Riparian South Asia: British Famine Policy and Migration in Colonial North India", Modern Asian Studies, 25 2, पपृ॰ 263–279, डीओआइ:10.1017/s0026749x00010672
  • Hall-Matthews, David 2008, "Inaccurate Conceptions: Disputed Measures of Nutritional Needs and Famine Deaths in Colonial India", Modern Asian Studies, 42 1, पपृ॰ 1–24, डीओआइ:10.1017/S0026749X07002892
  • Arnold, David; Moore, R. I. 1991, Famine: Social Crisis and Historical Change New Perspectives on the Past, Wiley-Blackwell. Pp. 164, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-631-15119-2
  • Roy, Tirthankar 2006, The Economic History of India, 1857–1947, 2nd edition, New Delhi: Oxford University Press. Pp. xvi, 385, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-19-568430-3
                                     
  • क अक ल क द र न बह त ल ग क ज न गई इस अवध क द र न अक ल स ब ध क ल म त क अन म न अलग - अलग ह न म न त ल क 1896 और 1902 1899 - 1900 अक ल और 1896 - 1897
  • 1876 - 1878 क मह न अक ल 1876 - 1878 क दक ष ण भ रत क अक ल य 1877 क मद र स अक ल क र उन श सन क तहत भ रत म पड न व ल एक अक ल थ यह 1876 म एक गहन
  • अक ल म सम म ल त ह 1876 - 78 क बड अक ल ज सम 6.1 म ल यन स 10.3 म ल यन ल ग क म त ह ई व भ रत य अक ल 1899 - 1900 क ज सस 1.25 स 10 म ल यन व यक त य
  • पड न व ल प रम ख अक ल क समयसर ख ह य सन 1765 स 1947 तक क क लखन ड दर श त ह इसम व सभ अक ल श म ल ह ज इस क लख ड म भ रत य उपमह द व प म
  • कदम क पर ण म व पर त भ न कल सकत ह अर थश स त र पर दत त क रचन ओ क प रक शन 1900 स श र ह आ उनक पहल प स तक थ भ रत म पड न व ल अक ल क अध ययन
  • एण ड फ र म - श र मत एन ब स न ट द व र ब सव शत ब द म क र गय रचन ओ म न म नल ख त स प रस द ध ह - सम प र ब लम स ऑफ ल इफ - थ ट प वर :
  • नहर क न र म ण क य गय इस अवध क द र न मद र स न द भ षण अक ल क स मन क य 1876 - 78 क भ षण अक ल और उसक ब द 1896 - 97 क भ रत य अक ल पहल अक ल क
                                     
  • म मण ल ल ग न ध म र मद स ग न ध म और द वद स ग ध म जन म प रब दर स उन ह न म ड ल और र जक ट स ह ई स क ल क य द न पर क ष ओ
  • व क स क य सन 1900 तक बफ ल द श क 8व सबस बड शहर थ ब द म यह एक प रम ख र लम र ग क न द र बन इसक ब द यह द श क अन ज म ल क सबस बड क द र
  • 1899 तथ आर नह म ल ड क ड न ल ड थ म पसन द व र 1935 - 1943 क द र न क य गय भ तर ऑस ट र ल य म ऑस ट र ल य ई आद व स पश प लक क क शलत क बह त
  • बड व द ध क दर शन क य 1900 क 1.6 ब ल यन व श व जनस ख य बढ कर आज लगभग 6.7 ब ल यन ह गई ह प रथम ह ज व श वम र 1816 - 1826. पहल भ रत य उपमह द व प
  • अक सर पड न व ल अक ल स स रक ष त रहन क ल ए व ग द म क अन ज स भरकर रखत थ प र रम भ क वर ष म जब इन म ल - न व स ल ग क स मन य र प य अन व षक

शब्दकोश

अनुवाद