पिछला

ⓘ आनंदमोहन बोस. आनन्द मोहन बसु ब्रिटिश राज के दौरान एक भारतीय राजनीतिज्ञ, शिक्षाविद, समाज सुधारक और वकील थे। उन्होंने इंडियन नेशनल एसोसिएशन की सह-स्थापना की, जो श ..

आनंदमोहन बोस
                                     

ⓘ आनंदमोहन बोस

आनन्द मोहन बसु ब्रिटिश राज के दौरान एक भारतीय राजनीतिज्ञ, शिक्षाविद, समाज सुधारक और वकील थे। उन्होंने इंडियन नेशनल एसोसिएशन की सह-स्थापना की, जो शुरुआती भारतीय राजनीतिक संगठनों में से एक थी। बाद में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के वरिष्ठ नेता बन गए। 1874 में वे पहले भारतीय रैंगलर बन गए। कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में रैंगलर उस छात्र को कहते हैं जो प्रथम श्रेणी के सम्मान के साथ गणितीय ट्राईपोस के तीसरे वर्ष को पूरा किया हो। इस सब के साथ वे ब्राह्मधर्म और साथ शिवनाथ शास्त्री के एक अग्रणी प्रकाश आदि धर्म के एक प्रमुख धार्मिक नेता भी थे।

आनन्दमोहन अपने छात्र जीवन से ही ब्राह्म धर्म के समर्थक थे। वह 1869 में अपनी पत्नी स्वर्णप्रभा देवी जगदीश चन्द्र बसु की बहन के साथ आधिकारिक रूप से ब्राह्म धर्म के अनुयायी बन गए। कुछ समय बाद बाल विवाह संगठन चलाने और अन्य विभिन्न मामलों को लेकर ब्राह्म समाज के युवा सदस्यों का केशब चंद्र सेन से मतभेद हो गया। परिणामस्वरूप, 15 मई 1878 को उन्होंने शिबनाथ शास्त्री, शिब चन्द्र देव, उमेश चन्द्र दत्त और अन्य लोगों के साथ साधारण ब्राह्म समाज की स्थापना की और इसके प्रथम अध्यक्ष चुने गए थे। 27 अप्रैल 1879 को उन्होंने ब्राह्म आन्दोलन के छात्रसंघ, छात्रसमाज की स्थापना की। 1879 में, उन्होंने इस आंदोलन की एक पहल के रूप में सिटी कॉलेज, कलकत्ता की स्थापना की।

आनन्दमोहन अपने छात्र काल से ही राजनीति में रुचि रखते थे। इंग्लैंड में रहते हुए, उन्होंने कुछ अन्य भारतीयों के साथ "इंडिया सोसाइटी" की स्थापना की। वे शिषिर कुमार घोष द्वारा स्थापित "इंडियन लीग" से भी जुड़े थे। वे 1884 तक इंडियन एसोसिएशन के सचिव रहे और जीवन भर इसके अध्यक्ष रहे। उन्होंने वर्नाकुलर प्रेस एक्ट और भारतीय सिविल सेवा परीक्षा के लिए अधिकतम आयु में कटौती जैसे कृत्यों का विरोध किया। उन्होंने 1905 में फेडरेशन हॉल में आयोजित बंगाल विभाजन के खिलाफ विरोध सभा की अध्यक्षता की, जहां उनके खराब स्वास्थ्य के कारण उनके संबोधन को रबींद्रनाथ टैगोर ने पढ़ा था।

                                     
  • क प रथम र ष ट रव द स स थ थ इसक स थ पन स र न द रन थ बनर ज एव आनन दम हन ब स न क थ भ रत सभ क लक ष य सभ व ध तर क क उपय ग स भ रत क ल ग
  • द ब न द र म हन ब स 1887 - 1975 सर ज स ब स उनक म म थ न द शक, ब स स स थ न, कलकत त आन दम हन ब स 1847 - 1906 सर ज स ब स क बहन ई और ड एम ब स क प त क
  • व षय स थ ह स थ भ रत य इत ह स पर स र वजन क भ षण द न लग उन ह न आनन दम हन ब स क स थ म लकर भ रत य र ष ट र य सम त क स थ पन 26 ज ल ई 1876 क क गई
                                     
  • स य न कलकत त स श करन न यर - अमर वत आनन दम हन ब स - मद र स रम शचन द र दत त लखनऊ न र यण

शब्दकोश

अनुवाद