रामजी सकपाल

YashMayankPrisha र मज म ल ज सकप ल भ म ब ई र मज सकप ल ब ल र म र मज आ ब डकर भ मर व र मज आ ब डकर ब ब स ह ब रम ब ई आम ब डकर सव त
क प र वज क म ल ग व ह आम ब डकर क प त र मज सकप ल न स क ल म अपन ब ट भ मर व क उपन म सकप ल क बज य आ बडव कर आम बडव कर ल खव य थ क य क
क य ह मन ष क बल ब ब स ह ब आ ब डकर म हन ज श व क रम ग खल र मज म ल ज सकप ल आम ब डकर क प त क श र शह ण प र म क रण न श भगत इ दरद व

म म ण ल क लकर ण - सव त आ ब डकर क र प म ग व द न मद व - म जर र मज म ल ज सकप ल क र प म म हन ग खल - मह त म ग ध क र प म त र ल क मल क - ल ल
स ब ध त प च स थल म स यह एक ह ड भ मर व आम ब डकर क प त र मज म ल ज सकप ल न प ण म प त ज स क ल म अपन श क ष प र क अपन श क ष प र
सत य ग र ह व श वरत न ज ञ नदर श भ रतरत न ब ध सत व ब ब स ह ब ड 0 भ मर व र मज - सकप ल आ ब डकर द व र ल ख ह आ - ब द ध और उनक धम म ह न द स स करण The
कठन इय क स मन करन पड त थ र मज आम ब डकर न सन 1898 म ज ज ब ई स प नर व व ह कर ल य 7 नवम बर 1900 क र मज सकप ल न स त र क गवर न म ण ट ह इस क ल

ॐ श्री दुर्गाय नम:

मां भगवती शक्ति से बढ़कर इस दुनिया में नहीं है और नहीं किया जाएगा चाहिए वेदों उपनिषदों कुछ भी लिखकर दुनिया को दिखाया गया है जब माँ भगवती की कृपा से ही है तो ...