पिछला

ⓘ लॉर्ड इर्विन भारत में १९२६-१९३१ ई. तक गवर्नर जनरल तथा सम्राट् के प्रतिनिधि के रूप में वायसराय थे। भारत में बढ़ रही स्वराज्य तथा संवैधानिक सुधारों की माँग के संब ..


                                     

ⓘ लॉर्ड इर्विन

लॉर्ड इर्विन भारत में १९२६-१९३१ ई. तक गवर्नर जनरल तथा सम्राट् के प्रतिनिधि के रूप में वायसराय थे।

भारत में बढ़ रही स्वराज्य तथा संवैधानिक सुधारों की माँग के संबंध में इनकी संस्तुति से १९२७ ई. में लार्ड साइमन की अध्यक्षता में ब्रिटिश सरकार ने साइमन कमीशन की नियुक्ति की, जिसमें सभी सदस्य अंग्रेज थे। फलस्वरूप सारे देश में कमीशन का बाहिष्कार हुआ, साइमन, वापस जाओ के नारे लगाए गए, ओर काले झंडों के प्रदर्शन के साथ आंदोलन हुआ। सांडर्स के नेतृत्व में पुलिस की लाठियों की चोट से लाला लाजपतराय की मृत्यु हो गई। भगत सिंह के दल ने एक वर्ष के भीतर ही बदले के लिए सांडर्स की भी हत्या कर दी।

प्रारंभ में भारत औपानिवेशिक स्वराज्य की ही माँग करता रहा, किंतु २६ जनवरी, १९२९ को अखिल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के लाहौर अधिवेशन में जवाहरलाल नेहरू के नेतृत्व में पूर्ण स्वराज्य की घोषणा की गई तथा शपथ ली गई कि प्रत्येक वर्ष २६ जनवरी गणतंत्र के रूप में मनाई जाएगी।

साइमन कमीशन की रिपोर्ट के अनुसार १९३० ई. में लार्ड इरविन की संस्तुति से संवैधानिक सुधारों की समस्या के समाधान के लिए लंदन में एक गोलमेज सम्मेलन का आयोजन किया गया, जिसका गांधी जी ने विरोध किया। साथ ही गांधी जी ने सरकापर दबाव डालने के लिए ६ अप्रैल, १९३० से नमक सत्याग्रह छेड़ दिया। सारे देश में नमक कानून तोड़ा गया। गांधी जी के साथ हजारों व्यक्ति गिरफ्तार हुए। सर तेजबहादुर सप्रु की मध्यस्थता से गांधी-इरविन-समझौता हुआ। यह समझौता भारतीय इतिहास का एक प्रमुख मोड़ है। इसमें २१ धाराएँ थीं जिनके अनुसार गोलमेज कानफ्ररेंस में भाग लेने के लिए गांधी जी तैयार हुए तथा यह तय हुआ कि कानून तोड़ने की कार्रवाई बंद होगी, ब्रिटिश सामानों का बहिष्कार बंद होगा, पुलिस के कारनामों की जाँच नहीं होगी, आंदोलन के समय बने अध्यादेश वापस होंगे, सभी राजनीतिक कैदी छोड़ दिए जाएँगे, जुर्माने वसूल नहीं होंगे, जब्त अचल संपत्ति वापस हो जाएगी, अन्यायपूर्ण वसूली की क्षतिपूर्ति होगी, असहयोग करनेवाले सरकारी कर्मचारियों के साथ उदारता बरती जाएगी, नमक कानून में ढील दी जाएगी, इत्यादि। इस समझौते के फलस्वरूप १९३१ ई. की द्वितीय गोलमेज सम्मेलन में गांधी जी ने मदनमोहन मालवीय एवं श्रीमती सरोजनी नायडू के साथ भाग लिया।

यद्यपि लार्ड इरविन ने एक साम्राज्यवादी शासक के रूप में स्वदेशी आंदोलन का पूरा दमन किया, तथापि वैयक्तिक मनुष्य के रूप में वे उदार विचारों के थे। यही कारण है कि राष्ट्रवादी नेताओं को इन्होंने काफी महत्व प्रदान किया। इनके जीवित स्मारक के रूप में नई दिल्ली में विशाल इरविन अस्पताल का निर्माण कराया गया।

                                     
  • मतलब ग र चमड क जगह क ल चमड क श सन क यम ह ज न म त र य ल र ड र ड ग और ल र ड इर व न क जगह प र ष त तम द स ठ क र द स क सत त स न ह ज न म त र नह
  • ल र ड डलह ज भ रत म ब र ट श र ज क गवर नर जनरल थ और उसक प रश सन चल न क तर क स म र ज यव द स प र र त थ उसक क ल म र ज य व स त र क क म अपन चरम
  • सर हर बर ट ब कर न इसक र पर ख त य र क ब र ट श भ रत क गवर नर जनरल ल र ड इर व न द व र 13 फ रवर 1931 क नई द ल ल क उद धघ टन ह आ ब लच ल क भ ष म
  • लग 23 जनवर 1931 क पहल ब र अ ग र ज क जम न म व यसर य ऑफ इ ड य ल र ड इरव न यह रहन आय 1950 क पहल तक इस व यसर य ह उस कह ज त थ और इस इल क
  • अप र ल 1916 ल र ड च म स फ र ड, 4 अप र ल 1916 2 अप र ल 1921 र ड ग 2 अप र ल 1921 3 अप र ल 1926 ल र ड इर व न 3 अप र ल 1926 18 अप र ल 1931 ल र ड व ल ग डन
  • क न व स ह आ करत थ य न व स ब र ट श आर क ट क ट ह नर इरव न द व र ड ज इन क य गय थ और ल र ड डफर न क श सनक ल क द र न एल ज ब थन श ल म बन य गय
  • म हम मद अल ज न न एव क ट प ल प रम ख थ 1 - इस समय भ रत क गवर नर जनरल ल र ड इरव न थ 2 - इस समय ब र ट न क प एम म कड न ल ड थ 3इसम लगभग 89 सदस य न भ ग
  • पड भ रत ल टन पर उन ह न सव नय अवज ञ आ द लन श र कर द य नए व यसर य ल र ड व ल ग डन क ग ध ज स ब लक ल हमदर द नह थ अपन बहन क ल ख एक न ज
  • द ल ल - ल ह र षडय त र क न म स भ ज न ज त ह म भ रत क तत क ल न व इसर य ल र ड ह र ड ग क हत य क ल ए रच गए एक षड य त र क स दर भ म प रय ग ह त ह
  • अल ज न न न क स इमन आय ग क र प र ट क प रक श त ह न क पहल ह ल र ड इर व न न घ षण क थ क र प र ट क ग लम ज सम म लन म व च र क ल ए रख ज य ग
  • च त रक र य स प र र त ह कर इन उद य न क ख क त य र क य सन म ल र ड इर व न न इस व यसर य ह उस म श न श कत क स थ कदम रख उन ह ल ट यन स द व र
                                     
  • ब र ग ड यर जनरल र ज न ल ड ड यर ज न ग एल ग द - ब र न इरव न ट र वर ह वर ड - जज आर. एस ब र मफ ल ड ज न म ल स - ल र ड च ल म सफ र ड अल क पदमस - म हम मद अल ज न न
  • क सरक र बन यह सरक र भ रत य स वत त रत क पक ष म थ उस समय व यसर य ल र ड व व ल न क ग र स और म स ल म ल ग क प रत न ध य क ब च कई ब ठक क आय जन
  • प रस त व व ह इट प पर क मस द त य र करन क स थ आग आन क न र णय ल य ल र ड ल नल थग क अध यक षत म एक स य क त स सद य चयन सम त न क फ हद तक व ह इट
  • र ष ट रव य प व र ध प रदर शन श र क य 4 मई, 1930 क ग ध न भ रत क व इसर य ल र ड इरव न क ल ख ज सम धरसन नमक वर क स पर हमल करन क इर द बत य गय उस
  • भ रत क प रत न ध त व क य थ 1897 म व प न इ ग ल ण ड गय 1905 म ल र ड कर जन क ज य दत य क व र द ध स घर षरत रह इस वर ष इ ग ल ण ड स म स क
  • म डलह ज क म र कस बन य गय 1859 म अर ल ऑफ क न ग बन य गय 1904 म ल र ड एम पथ ल क र यक र गवर नर जनरल थ 1947 म म उ टब टन अर ल बन य गय
  • म भ ट क आज द न पण ड त न हर स यह आग रह क य क व ग ध ज पर ल र ड इरव न स इन त न क फ स क उम र - क द म बदलव न क ल य ज र ड ल अल फ र ड
  • ज र ज प चम क द स बर क ह न व ल द ल ल दरब र क ब द जब व यसर य ल र ड ह र ड ग क द ल ल म सव र न क ल ज रह थ त उसक श भ य त र पर व यसर य
  • 1921 म ड य क ऑफ कन ट न रख थ और इस क छ स ल ब द तत क ल न व यसर य ल र ड इर व न न इस र ष ट र क समर प त क य थ अमर जव न ज य त क स थ पन 1971 क
                                     
  • स स थ क म ध यम स ख द र म क र त क र य पहल ह म ज ट च क थ म ल र ड कर जन न जब ब ग ल क व भ जन क य त उसक व र ध म सडक पर उतर अन क
  • न अम तसर और अन य क ष त र म म र शल ल लग न क म ग क ज स व यसर य ल र ड च म सफ र ड न स व क त कर द य इस हत य क ण ड क व श वव य प न द ह ई
  • अस त - व यस त ह गय तथ न य य म त र ब त समय क ब त ह कर रह गय इस सम बन ध म ल र ड क र नव ल स न इ ग ल ड क ह उस ऑफ क मन स म कह थ क म न श चयप र वक
  • फ रवर 1921 क इसक उद घ टन बड सम र ह स कलकत त नगर म भ रत क व इसर य ल र ड च म सफ र ड द व र क य गय नवज त स स थ क स द ढ बन न क क म ध र ध र
  • त म झ व श व स ह क गदर शब द क अर थ ह बदल गय ह त यह तक क अब ल र ड व व ल भ इस एक म म ल गदर कहन क स हस नह कर सकत इस पर वर तन क प र
  • ट वर क न र म ण 1909 म ग द ध र क मह र ज न तत क ल न ब र ट श व यसर य ल र ड इरव न क ग द ध र य त र क द र न करव य थ यह म ख य जम ई - झ झ र ज य र जम र ग
  • ज न ह न 1912 क द ल ल - ल ह र षडय त र क य जन - ज सम तत क ल न व इसर य ल र ड ह र ड ग क हत य क श ज श थ - म और 1915 क गदर षड य त र म भ ग द र
  • न आध क र क त र पर 1904 क जनवर म यह व च र प रक श त क य और फरवर म ल र ड कर ज न न ब ग ल क प र व ज ल म व भ जन पर जनत क र य क आकलन करन क
  • भ इय न न त त व क य थ श म ट ड परगन क म र गदर शन म क य 1793 म ल र ड क र नव ल स द व र आरम भ क ए गए स थ ई बन द बस त क क रण जनत क ऊपर बढ
  • श र आत - मह त म ग ध द व र द ड म र च अप र ल 6, 1930 1931 : ग ध - इर व न समझ त 1935 : भ रत सरक र अध न यम प र त 1937 : प र त य स व यतत क ग र स

शब्दकोश

अनुवाद
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →