ⓘ मुक्त ज्ञानकोश. क्या आप जानते हैं? पृष्ठ 317


                                               

नयी कविता (पत्रिका)

नयी कविता हिन्दी साहित्य के आधुनिक काल में प्रयोगवाद से कुछ भिन्नताओं के साथ विकसित हिन्दी कविता की नवीन धारा का प्रतिनिधित्व करने वाली अर्द्धवार्षिक पत्रिका थी। इसे नयी कविता आंदोलन के मुखपत्र की तरह माना जाता है। इसका प्रकाशन सन् १९५४ में आरंभ ...

                                               

नयी कहानी

आजादी के बाद हिन्दी कहानी को नया संस्कार देने वाले कहानीकारों ने कहानी को नयी कहानी के नाम से अभिहित किया। नयी कहानी का जन्म 1956 से माना जाता है। 1956 में भैरव प्रसाद गुप्त के संपादन में नयी कहानी नाम की पत्रिका का एक विशेषांक निकाला। इसी विशेषा ...

                                               

नाथ साहित्य

सिद्धों के महासुखवाद के विरोध में नाथ पंथ का उदय हुआ। नाथों की संख्या नौ है। इनका क्षेत्र भारत का पश्चिमोत्तर भाग है। इन्होंने सिद्धों द्वारा अपनाये गये पंचमकारों का नकार किया। नारी भोग का विरोध किया। इन्होंने बाह्याडंबरों तथा वर्णाश्रम का विरोध ...

                                               

निदर्शना अलंकार

                                               

नियम अनियम दोष

काव्य में एक प्रकार का अर्थ दोष परिभाषा:- आचार्य मम्मट के अनुसार काव्य के मुख्य अर्थ रस के विधात तत्व ही दोष है| प्रसाद ने साहित्यदर्पण में "रसापकर्षका दोष:" कहकर रस का अपर्कष करने वालो तत्वों को दोष बताया है| दोषों का विभाजन:--- दोषों का विभाजन ...

                                               

निरुक्ति अलंकार

                                               

निशा निमंत्रण(हरिवंशराय बच्चन)

निशा निमंत्रण हरिवंशराय बच्चन के गीतों का संकलन है जिसका प्रकाशन १९३८ ई० में हुआ। ये गीत १३-१३ पंक्तियों के हैं जो कि हिन्दी साहित्य की श्रेष्ठतम उपलब्धियों में से हें। ये गीत शैली और गठन की दृष्टि से अतुलनीय है। नितान्त एकाकीपन की स्थिति में लिख ...

                                               

नेवाज (रीतिग्रंथकार कवि)

नेवाज, महाराज छत्रसाल के समकालीन एक हिंदी कवि थे। इनका जन्म, ठाकुर शिवसिंह के कथनानुसार, संवत्‌ १७३९ में हुआ था। इनका लिखा हुआ केवल शकुंतला नाटक देखने में आया है। कुछ फुटकर छंद भी इधर उधर पुस्तकों में बिखरे दिख पड़ते है। कहते हैं कि महाराज छत्रसा ...

                                               

न्यून पद दोष

न्यून काव्य में एक प्रकार का शब्द दोष है। परिभाषा:- आचार्य मम्मट के अनुसार काव्य के मुख्य अर्थ रस के विधात तत्व ही दोष है| प्रसाद ने साहित्यदर्पण में "रसापकर्षका दोष:" कहकर रस का अपर्कष करने वालो तत्वों को दोष बताया है| दोषों का विभाजन:--- दोषों ...

                                               

पजनेस

पजनेस का जन्मसंवत् अज्ञात है। शिवसिंह सेंगर के अनुसार इनका उपस्थितिकाल सं. १८७२वि. है जिसे कुछ लोगों ने भ्रमवश इनका जन्मकाल मान लिया है। रामचंद्र शुक्ल के अनुसार इनका कविताकाल संवत् १९०० के आसपास माना जा सकता है। ये बुंदेलखंड के पन्ना प्रदेश में ...

                                               

पर आँखें नहीं भरीं (काव्य)

                                               

परमानंद दास

परमानन्ददास वल्लभ संप्रदाय के आठ कवियों में एक कवि जिन्होने भगवान श्री कृष्ण की विभिन्न लीलाओं का अपने पदों में वर्णन किया। इनका जन्म काल संवत १६०६ के आसपास है। अष्टछाप के कवियों में प्रमुख स्थान रखने वाले परमानन्ददास का जन्म कन्नौज में एक निर्धन ...

                                               

परिनाम

                                               

परिनाम अलंकार

                                               

परिवृत्त अलंकार

                                               

परिसंख्या अलंकार

परिसंख्या अर्थालंकार का एक प्रकार है। एक ही वस्तु की अनेक स्थानों में स्थिति संभव होने पर भी अन्यत्र निषेध कर उसका एक स्थान में वर्णन करना। उदाहरण: राम के राज्य में वक्रता केवल सुन्दरियों के कटाक्ष में थी।

                                               

पर्याय अलंकार

                                               

पुनरुक्ति दोष

काव्य में एक प्रकार का शब्द दोष परिभाषा:- आचार्य मम्मट के अनुसार काव्य के मुख्य अर्थ रस के विधात तत्व ही दोष है| प्रसाद ने साहित्यदर्पण में "रसापकर्षका दोष:" कहकर रस का अपर्कष करने वालो तत्वों को दोष बताया है| दोषों का विभाजन:--- दोषों का विभाजन ...

                                               

पूर्वरूप अलंकार

                                               

प्रकाशित विरुद्ध दोष

काव्य में एक प्रकार का अर्थ दोष परिभाषा:- आचार्य मम्मट के अनुसार काव्य के मुख्य अर्थ रस के विधात तत्व ही दोष है| प्रसाद ने साहित्यदर्पण में "रसापकर्षका दोष:" कहकर रस का अपर्कष करने वालो तत्वों को दोष बताया है| दोषों का विभाजन:--- दोषों का विभाजन ...

                                               

प्रकृति पुरुष कालिदास (नाटक)

                                               

प्रतापनारायण मिश्र

प्रतापनारायण मिश्र के प्रमुख लेखक, कवि और पत्रकार थे। वह भारतेंदु निर्मित एवं प्रेरित हिंदी लेखकों की सेना के महारथी, उनके आदर्शो के अनुगामी और आधुनिक हिंदी भाषा तथा साहित्य के निर्माणक्रम में उनके सहयोगी थे। भारतेंदु पर उनकी अनन्य श्रद्धा थी, वह ...

                                               

प्रतिमान (पत्रिका)

प्रतिमान विकासशील समाज अध्ययन पीठ की ओर से प्रकाशित होने वाली समाज-विज्ञान और मानविकी की पूर्व-समीक्षित अर्धवार्षिक पत्रिका है। इसका पूरा नाम प्रतिमान समय समाज संस्कृति है। इसके प्रधान संपादक अभय कुमार दुबे एवं संपादक आदित्य निगम, रविकांत तथा राक ...

                                               

प्रतिवस्तूपमा अलंकार

                                               

प्रतिषेध अलंकार

                                               

प्रतीप अलंकार

                                               

प्रलय-सृजन (काव्य)

                                               

प्रसिद्ध दोष

काव्य में एक प्रकार का अर्थ दोष परिभाषा:- आचार्य मम्मट के अनुसार काव्य के मुख्य अर्थ रस के विधात तत्व ही दोष है| प्रसाद ने साहित्यदर्पण में "रसापकर्षका दोष:" कहकर रस का अपर्कष करने वालो तत्वों को दोष बताया है| दोषों का विभाजन:--- दोषों का विभाजन ...

                                               

प्रहर्षन अलंकार

                                               

प्रियप्रवास

प्रियप्रवास, अयोध्यासिंह "हरिऔध" की हिन्दी काव्य रचना है। हरिऔध जी को काव्यप्रतिष्ठा "प्रियप्रवास" से मिली। इसका रचनाकाल सन् 1909 से सन् 1913 है। यह महाकाव्य खड़ी बोली का प्रथम महाकाव्य है

                                               

प्रेम का फल

                                               

बचनेश

बचनेश का जन्म सं0-1932 में फर्रुखाबाद में हुआ था। आपकी प्रतिभा बहुमुखी थी। यही कारण है कि आपने गद्य और पद्य दोनों में ही सफलता हासिल की। प्रमुख काव्य ग्रंथों में- नीति कुंडल, आनन्द लहरी, नवरत्न, मनोरंजिनी, बचनेश शतक, भारती भूषण, धर्म ध्वजा, धर्म ...

                                               

बाणभट्ट की आत्‍मकथा

बाणभट्ट की आत्मकथा आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी रचित एक ऐतिहासिक हिन्दी उपन्यास है। इसमें तीन प्रमुख पात्र हैं- बाणभट्ट, भट्टिनी तथा निपुणिका। इस पुस्तक का प्रथम प्रकाशन वर्ष 1946 में राजकमल प्रकाशन ने किया था। इसका नवीन प्रकाशन 1 सितम्बर 2010 को ...

                                               

बिहारी लाल(रीतिग्रंथकार कवि)

                                               

बिहारी सतसई

सतसैया के दोहरे, ज्यों नैनन के तीर। देखन में छोटे लगे, बेधे सकल शरीर। बतरस लालच लाल की, मुरली धरी लुकाइ। सौह करे भौह्नी हँसे दैन कहे नाती जाई।। कहत, नटत, रीझत, खीझत, मिळत, खिलत, लजियात। भरे भौन में करत है, नैनन ही सों बात। मेरी भव- बाधा हरो राधा ...

                                               

बुंदेलखंड का काव्य

छत्रसाल के समय में जहां बुन्देलखण्ड को "इत जमुना उत नर्मदा, इत चम्बल उत टोंस" से जाना जाता है, वहीं भौगोलिक दृष्टि जनजीवन, संस्कृति और भाषा के संदर्भ से बुन्देला क्षत्रियों के वैभवकाल से जोड़ा जाता है। बुन्देली इस भू-भाग की सबसे अधिक व्यवहार में ...

                                               

बूँद और समुद्र

बूँद और समुद्र साहित्य अकादमी पुरस्कार एवं सोवियत लैंड नेहरू पुरस्कार से सम्मानित सुप्रसिद्ध हिन्दी उपन्यासकार अमृतलाल नागर का सर्वोत्कृष्ट उपन्यास माना जाता है। इस उपन्यास में लखनऊ को केंद्र में रखकर अपने देश के मध्यवर्गीय नागरिक और उनके गुण-दोष ...

                                               

बेनी प्रवीन(रीतिग्रंथकार कवि)

बेनी प्रवीन हिन्दी के रीतिग्रंथकार कवि हैं। बेनी प्रवीन का वास्तविक नाम बेनीदीन वाजपेयी था। ये संभवत: लखनऊ के निवासी थे। इनकी सुख्यात रचना नवरसतरंग है। इसमें दिगए विवरण से ज्ञात होता है कि इसकी रचना सन् १८१७ ई. में नवलकृष्ण की प्रशंसा में की गई थ ...

                                               

बेनी बंदीजन(रीतिग्रंथकार कवि)

बेनी बंदीजन रीतिकाल के हिन्दी कवि थे। बेनी बंदीजन रायबरेली जिले के बेंती नामक स्थान के निवासी और अवध के वजीर महाराज टिकैतराय के दरबारी कवि थे। शिवसिंह सेंगर के मतानुसार ये सं. १८९२ वि. में पर्याप्त वृद्ध होकर मरे थे। टिकैतराय प्रकाश अथवा अलंकारशि ...

                                               

बोधा

बोधा हिन्दी साहित्य के रीतिकालीन कवि थे। उन्हें विप्रलम्भ शृंगार रस की कविताओं के लिये जाना जाता है। वर्तमान उत्तर प्रदेश में बाँदा जिले के राजापुर ग्राम में जन्मे कवि बोधा का पूरा नाम बुद्धिसेन था। वर्तमान मध्य प्रदेश स्थित तत्कालीन पन्ना रियासत ...

                                               

ब्रजभाषा साहित्य

ब्रजभाषा विक्रम की १३वीं शताब्दी से लेकर २०वीं शताब्दी तक भारत के मध्यदेश की मुख्य साहित्यिक भाषा एवं साथ ही साथ समस्त भारत की साहित्यिक भाषा थी। विभिन्न स्थानीय भाषाई समन्वय के साथ समस्त भारत में विस्तृत रूप से प्रयुक्त होने वाली हिन्दी का पूर्व ...

                                               

भक्त कवियों की सूची

मीरा बाई सूरदास त्यागराज आलवार सन्त रहीम नयनार तुलसीदास कबीर नरसिंह महेता आण्डाल रविदास रैदास चैतन्य महाप्रभु मलिक मोहम्मद जायसी महिपतिalwat Ramakrishna Paramhansa तुकाराम जनाबाई पुरंदरदास

                                               

भक्ति काल

भक्ति काल अपना एक अहम और महत्वपूर्ण स्थान रखता है। आदिकाल के बाद आये इस युग को पूर्व मध्यकाल भी कहा जाता है। जिसकी समयावधि संवत् 1343ई से संवत् 1643ई तक की मानी जाती है। यह हिंदी साहित्य का श्रेष्ठ युग है। जिसको जॉर्ज ग्रियर्सन ने स्वर्णकाल, श्या ...

                                               

भगत धन्ना

धन्ना भगत एक रहस्यवादी कवि और जिसका तीन भजन आदि ग्रन्थ में मौजूद हैं । एक वैष्णव भक्त थे।धन्ना मूल रूप से राजस्थान के टोंक जिले में दूनी तहसील में धुवां कला गाँव मे जाट परिवार में पैदा हुआ थे। आज इनके स्थान पर इनका मंदिऔर गुरूद्वारा बना हुुुआ है। ...

                                               

भारत दुर्दशा

भारत दुर्दशा नाटक की रचना इ. में भारतेन्दु हरिश्चन्द्र द्वारा की गई थी। इसमें भारतेन्दु ने प्रतीकों के माध्यम से भारत की तत्कालीन स्थिति का चित्रण किया है। वे भारतवासियों से भारत की दुर्दशा पर रोने और फिर इस दुर्दशा का अंत करने का प्रयास करने का ...

                                               

भारत भारती (काव्यकृति)

भारत भारती, मैथिलीशरण गुप्तजी की प्रसिद्ध काव्यकृति है जो १९१२-१३ में लिखी गई थी। यह स्वदेश-प्रेम को दर्शाते हुए वर्तमान और भावी दुर्दशा से उबरने के लिए समाधान खोजने का एक सफल प्रयोग है। भारतवर्ष के संक्षिप्त दर्शन की काव्यात्मक प्रस्तुति "भारत-भ ...

                                               

भारतेन्दु युग

हिन्दी साहित्य के इतिहास में आधुनिक काल के प्रथम चरण को "भारतेन्दु युग" की संज्ञा प्रदान की गई है और भारतेन्दु हरिश्चन्द्र को हिन्दी साहित्य के आधुनिक युग का प्रतिनिधि माना जाता है। भारतेन्दु का व्यकितत्व प्रभावशाली था, वे सम्पादक और संगठनकर्ता थ ...

                                               

भाविक अलंकार

भाविक अलंकार अलंकार चन्द्रोदय के अनुसार काव्य में प्रयुक्त एक अलंकार है। साहित्य दर्पण के अनुसार बीत चुके अथवा भविष्य में होने वाले अदभुत पदार्थ का प्रत्यक्ष के समान वर्णन करने को भाविक अलंकार कहते हैं।

                                               

भिखारीदास

भिखारीदास रीतिकाल के श्रेष्ठ हिन्दी कवि थे। कवि और आचार्य भिखारीदास का जन्म प्रतापगढ़ के निकट टेंउगा नामक स्थान में सन् 1721 ई० में हुआ था। इनकी मृत्यु बिहार में आरा के निकट भभुआ नामक स्थान पर हुई। भिखारीदास द्वारा लिखित सात कृतियाँ प्रामाणिक मान ...

                                               

भूपति राजा गुरुदत्त सिंह(रीतिग्रंथकार कवि)

गुरुदत्त सिंह भूपति, अमेठी के राजा थे। ये बंधुल गोत्रीय सूर्यवंशी कुशवाहा क्षत्रिय थे। इनके पिता राजा हिम्मतबहादूर सिंह स्वयं कवि एवं कवियों के आश्रयदाता थे। इस वंश के प्राय: सभी नरेश विद्वान्‌ थे और गुणियों का यथोचित सम्मान करने में रुचि रखते थे ...

शब्दकोश

अनुवाद
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →